फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटआईसीसी ने बदले क्रिकेट के ये नियम, अब फील्डिंग टीम नहीं उठा पाएगी इस चीज का फायदा

आईसीसी ने बदले क्रिकेट के ये नियम, अब फील्डिंग टीम नहीं उठा पाएगी इस चीज का फायदा

आईसीसी ने प्लेइंग कंडीशन में कई बदलाव किए हैं। अब फील्डिंग टीम स्टंपिंग करके कॉट-बिहाइंड आउट नहीं ले सकेगी, नए नियमों के अनुसार स्टंपिंग की अपील पर थर्ड अंपायर सिर्फ साइड-ऑन रिप्ले ही देखेगा।

आईसीसी ने बदले क्रिकेट के ये नियम, अब फील्डिंग टीम नहीं उठा पाएगी इस चीज का फायदा
icc
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीThu, 04 Jan 2024 09:14 AM
ऐप पर पढ़ें

आईसीसी ने पिछले दिनों सभी फॉर्मेट की प्लेइंग कंडीशन में कुछ बदलाव किए हैं जिनका उन्होंने अधिकारिक ऐलान नहीं किया है। ये नई प्लेइंग कंडीशन नए साल यानी 2024 से लागू भी हो गई है। इसका मतलब यह है कि भारत और साउथ अफ्रीका के बीच जारी केपटाउन टेस्ट और ऑस्ट्रेलिया और पाकिस्तान के बीच जारी सिडनी टेस्ट इस प्लेइंग कंडीशन के हिसाब से ही खेले जा रहे हैं। इन प्लेइंग कंडीशन्स में कुछ ऐसे बदलाव भी किए गए हैं जिसको लेकर खिलाड़ी पिछले काफी समय से विरोध कर रहे थे। आइए जानते हैं नए नियमों के बारे में-

भारत की परफॉर्मेंस देख गदगद हुआ सौरव गांगुली का दिल, बोले- हम आसानी से जीत सकते हैं अगर...

सबसे पहले बात करते हैं स्टंपिंग को लेकर अंपायर रिव्यू की। इस नियम का पिछले दिनों ऑस्ट्रेलिया को खूब फायदा उठाते हुए देखा गया था। पिछले साल भारत दौरे पर टेस्ट सीरीज खेलने आई ऑस्ट्रेलियाई टीम रिव्यू खत्म होने के बाद बार-बार स्टंपिंग कर रही थी, उनका मकसद अंपायर के कॉट-बिहाइंड के फैसले को रिव्यू करना था। कई क्रिकेट एक्सपर्ट ने आईसीसी के नियमों पर सवाल उठाए थे। दरअसल, जब थर्ड अंपायर के पास स्टंपिंग का फैसला जाता है तो वह स्टंपिंग के साथ कॉट-बिहाइंड भी चैक करता था।

आकाश चोपड़ा ने कसा तंज, केपटाउन टेस्ट के पहले दिन गिरे 23 विकेट तो बोले 'श्श्श...कोई भी पिच के बारे में...'

क्रिकबज के अनुसार अब इन नियमों को बदल दिया गया है, अगर अब खिलाड़ी स्टंपिंग के लिए लेग अंपायर से अपील करते हैं तो थर्ड अंपायर साइड-ऑन रिप्ले पर ध्यान देंगे और सिर्फ स्टंपिंग पर ही फैसला सुनाएंगे। अगर टीम को इसके बाद कॉट-बिहाइंड को लेकर अपील करनी है तो इसके लिए उन्हें रिव्यू लेना होगा।

एक अन्य नियम परिवर्तन कनकशन रिप्लेसमेंट के बारे में है। अगर गेंदबाजी करते हुए कोई खिलाड़ी कनकशन का शिकार हो जाता है तो उसको रिप्लेस करने वाला खिलाड़ी गेंदबाजी नहीं करेगा।

IND vs SA: केपटाउन टेस्ट में टूटते-टूटते बचा 122 साल पुराना वर्ल्ड रिकॉर्ड, जानें टेस्ट मैच के पहले दिन कब गिरे थे सबसे ज्यादा विकेट

ऑटो नो-बॉल: तीसरे अंपायर के पास फ्रंट फुट के अलावा सभी प्रकार की फुट फॉल्ट नो बॉल की स्वचालित रूप से जांच करने का व्यापक दायरा होगा।

ऑन-फील्ड इंजरी ट्रीटमेंट- अगर कोई खिलाड़ी मैदान पर चोटिल होता है तो उसके ट्रीटमेंट के लिए 4 मिनट का समय मिलेगा। इतनी ही देर के लिए खेल को रोका जाएगा।