DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फॉर्मेट में बड़ा बदलाव करेगा ICC, क्या टीम इंडिया को होगा घाटा?
क्रिकेट

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फॉर्मेट में बड़ा बदलाव करेगा ICC, क्या टीम इंडिया को होगा घाटा?

एजेंसी,नई दिल्लीPublished By: Shubham Mishra
Mon, 14 Jun 2021 09:54 PM
वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फॉर्मेट में बड़ा बदलाव करेगा ICC, क्या टीम इंडिया को होगा घाटा?

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल के सीईओ ज्यॉफ एलार्डिस ने कहा है कि वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के अगले सत्र में टूर्नामेंट के नियमों में कुछ बदलाव किए जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि आईसीसी डब्ल्यूटीसी की अंक प्रणाली में बड़ा बदलाव करने की योजना बना रहा है। जिसके मुताबिक, अगले सीजन से सीरीज नहीं, बल्कि हर टेस्ट मैच जीतने पर एक समान प्वॉइंट का प्रावधान होगा। अभी तक के नियमों के हिसाब से एक सीरीज के लिए 120 प्वॉइंट तय किए गए थे। 

'ये तेज गेंदबाज हर दिन डॉमिनेट करते हैं', विराट कोहली ने शेयर की मोहम्मद सिराज और ईशांत शर्मा के साथ फोटो

इस सीजन में हर सीरीज के लिए 120 प्वॉइंट आवंटित थे जिसमें भारत-बांग्लादेश के बीच दो टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए हर मैच के 60 अंक थे जबकि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई चार मैचों की सीरीज में हर मैच के लिए अधिकतम 30 अंक का प्रावधान था। कोरोना वायरस के कारण पिछले सीजन में कई सीरीज रद्द हो गई जिससे आईसीसी को प्रतिशत प्वॉइंट्स प्रणाली का सहारा लेना पड़ा। इसमें टीम की रैंकिंग का आकलन प्राप्त अंकों को मैचों की संख्या से विभाजित कर के निकाला गया। एलार्डिस ने कहा, 'हमने इस सीजन को आखिर तक देखा है और दूसरा सीजन डेढ़ महीने में शुरू हो रहा है। ऐसे में अंक प्रणाली में कुछ बदलाव होंगे। हम प्रति टेस्ट मैच के लिए अंकों की एक मानक तय कर सकते है, ताकि इससे कोई फर्क नहीं पड़े कि यह दो मैचों की टेस्ट सीरीज है या पांच टेस्ट मैचों सीरीज है। ऐसे में खेले जाने वाले हर मैच के लिए समान प्वॉइंट उपलब्ध होंगे।'

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में कौन होगा रोहित शर्मा का जोड़ीदार? जानें इरफान पठान का जवाब

आईसीसी सीईओ ने आगे कहा, 'हर टीम को हालांकि कुल प्वॉइंट की जगह उसकी जीत के प्वॉइंट प्रतिशत के आधार पर आंका जाएगा। इस सीजन के दौरान यह साफ हो गया था कि कोरोना वायरस महामारी के कारण कोई भी टीम छह सीरीज पूरी नहीं कर पाएगी। चूंकि हमारे पास असमान संख्या में सीरीज खेलने वाली टीमें थी, इसलिए हमने अंक प्रणाली में लचीलापन लाने और इसे निष्पक्ष बनाए रखने को यह सुनिश्चित किया उसमें उन मैचों का जिक्र हो जो हमने खेले थे ना की उन मैचों का जिसका आयोजन नहीं हो सका था।' 

भारतीय कोच रवि शास्त्री ने डब्ल्यूटीसी फाइनल के लिए तीन मैचों की सीरीज का सुझाव दिया था। एलिर्डिस ने उनके विचार का समर्थन किया लेकिन इसके लिए व्यावहारिक कठिनाइयों की ओर इशारा किया। उन्होंने कहा, 'एक आदर्श तरीके से तीन मैचों की टेस्ट सीरीज डब्ल्यूटीसी तय करना शानदार होगा लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट कार्यक्रम की सच्चाई ऐसी है कि हमें इसके लिए एक महीना नहीं मिलने वाला है। टूर्नामेंट के फाइनल के लिए सभी टीमों का एक महीने के लिए रोकना संभव नहीं है, इसलिए एक मैच के फाइनल का फैसला किया गया।'
 

संबंधित खबरें