DA Image
3 जुलाई, 2020|4:51|IST

अगली स्टोरी

'मैं पाक का सबसे धीमा बॉलर था, जिसे वकार की जगह लेने के लिए पागल कहा जा रहा था'

शोएब ने कहा, ''एक समय मुझसे लोग पूछते थे कि तुम वकार को रिप्लेस करने के बारे में सोच भी कैसे सकते हो। क्या तुम पागल हो गए हो। मैं उनसे कहता कि क्योंकि मेरे पास एटीट्यूड  है।''

shoaib akhtar  photo by santosh harhare hindustan times

2003 के विश्व कप में शोएब अख्तर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज गेंद डालने का रिकॉर्ड अपने नाम किया था। 17 साल बाद भी यह रिकॉर्ड उनके ही नाम पर बना हुआ है। हालांकि शॉन टैट, मिशेल स्टार्क कई बार इस रिकॉर्ड के आसपास पहुंचे हैं। इस रिकॉर्ड के बावजूद एक समय था, जब शोएब अख्तर को पाकिस्तान का सबसे स्लो गेंदबाज माना जाता था। 'रावलपिंडी एक्सप्रेस' के नाम से मशहूर अख्तर ने कहा कि उस समय उनका मुकाबला टीम के अन्य गेंदबाजों से था। 

उन्होंने बताया कि वसीम अकरम, वकार यूनुस के बीच कड़ा मुकाबला था। एक बार जब उन्होंने वकार को रिप्लेस करने का बात की, तो उन्हें पागल कहा जा रहा था। ईएसपीएन क्रिकइंफो के एक पॉडकास्ट में संजय मांजरेकर के साथ बातचीत में अख्तर ने कहा, ''उन दिनों मोहम्मद जाहिद और मेरे अलावा सात तेज गेंदबाज थे। मैं ईमानदारी से कहूं तो उस समय के सभी गेंदबाजों में मैं सबसे स्लो गेंद डालता था।''

T20 वर्ल्ड कप का 2022 तक टलना तय, IPL को मिल सकती है अक्टूबर विंडो

लेकिन धीरे-धीरे शोएब ने अपनी सकारात्मक खूबियों को विकसित किया और उच्च स्तर पर विकेट लेने का विश्वास पैदा किया। उन्होंने कहा, ''कल्पना कीजिए मुझे इन सातों गेंदबाजों से आगे निकलना था, वकार यूनुस और मैंने अपना नाम बनाया था। मैंने इन गेंदबाजों से बेस्ट गुण सीखे।''

शोएब ने कहा, ''एक समय मुझसे लोग पूछते थे कि तुम वकार को रिप्लेस करने के बारे में सोच भी कैसे सकते हो। क्या तुम पागल हो गए हो। मैं उनसे कहता कि क्योंकि मेरे पास एटीट्यूड  है, जब मैं गेंदबाजी करने जाता हूं तो पूरा मैदान मेरा होता है, मैं विकेट लेता हूं, क्योंकि मैं इस खेल को तेजी से सीखता हूं।''

आकाश चोपड़ा ने चुनी ऑल टाइम RCB XI, विराट कोहली को बनाया कप्तान

1997 में शोएब अख्तर ने वेस्टइंडीज के खिलाफ डेब्यू किया था। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। उन्होंने अपने गेंदों की गति बढ़ाई। उन्होंने 46 टेस्ट, 163 वनडे और 15 टी-20 खेले। इनमें उन्होंने क्रमशः 178, 247 और 19 विकेट लिए। उन्होंने अपना अंतिम मैच 2011 के विश्व कप में भारतीय उप महाद्वीप में खेला था।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:I was the slowest bowler in Pakistan was being called mad for thinking of replacing Waqar Younis says Shoaib Akhtar