फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटHTLS 2022: विव रिचर्ड्स के एक फोन कॉल ने 2007 वर्ल्ड कप के बाद सचिन तेंदुलकर को रोका था रिटायरमेंट लेने से

HTLS 2022: विव रिचर्ड्स के एक फोन कॉल ने 2007 वर्ल्ड कप के बाद सचिन तेंदुलकर को रोका था रिटायरमेंट लेने से

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और ब्रायन लारा हिन्दुस्तान टाइम्स लीडरशिप समिट 2022 में हिस्सा लेने पहुंचे। इस दौरान सचिन तेंदुलकर ने विव रिचर्ड्स के अपने करियर पर असर के बारे में खुलकर बताया।

HTLS 2022: विव रिचर्ड्स के एक फोन कॉल ने 2007 वर्ल्ड कप के बाद सचिन तेंदुलकर को रोका था रिटायरमेंट लेने से
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 12 Nov 2022 01:49 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर और वेस्टइंडीज के पूर्व क्रिकेटर ब्रायन लारा ने अपने-अपने क्रिकेटिंग करियर पर विव रिचर्ड्स के प्रभाव को लेकर बातचीत की। हिन्दुस्तान लीडरशिप समिट 2022 में सचिन तेंदुलकर ने विव रिचर्ड्स के साथ अपनी पहली मुलाकात का जिक्र किया और साथ ही बताया कि कैसे विव रिचर्ड्स के एक फोन कॉल ने उन्हें रिटायरमेंट लेने से रोक दिया था।

सचिन और लारा से जब पूछा गया कि क्या विव रिचर्ड्स दोनों के लिए कॉमन फैक्टर रहे हैं अगर हम रोल मॉडल की बात करें तो। इस पर तेंदुलकर ने विव रिचर्ड्स के साथ अपनी पहली मुलाकात का किस्सा सुनाया। सचिन ने कहा कि विव रिचर्ड्स उनके रोल मॉडल में से एक हैं और सुनील गावस्कर भी एक रोल मॉडल रहे हैं। सचिन ने कहा, 'विव रिचर्ड्स की बॉडी लैंग्वेज ऐसी होती थी, जिसे देखकर मैं बहुत प्रभावित होता था। मुझे अभी भी याद है कि मैं ऑस्ट्रेलिया में था और 1991-92 सीरीज थी। मैं संजय मांजरेकर के साथ था, हम मेलबर्न में थे। हम लंच के लिए जा रहे थे और फिर शॉपिंग के लिए जाना था, लेकिन फिर मैंने देखा कि कोई जेंटलमैन वहां से गुजर रहा है।'

HTLS 2022: तेंदुलकर और लारा ने बताया अपनी पहली मुलाकात का किस्सा

सचिन ने आगे कहा, 'मुझे उसकी चाल जानी-पहचानी सी लगी और वह विव रिचर्ड्स थे। मैं उस समय 18 साल का था और विव को देखकर तो 12 साल का बच्चा बन गया था क्योंकि मेरा हीरो मेरे सामने चलकर जा रहा था। संजय मांजरेकर विव के खिलाफ खेल चुका था, तो वह उन्हें जानता था। मैंने संजय से कहा कि लंच और शॉपिंग को भूल जाओ, मुझे जाना है और उन्हें हेलो बोलना है। तब तक वह अपने कमरे तक जा चुके थे। हम रिसेप्शन पर गए, उनका रूम नंबर पूछा और संजय मांजरेकर को फोर्स किया कि तुमको मुझे अभी उनके रूम तक लेकर जाना है।'

क्या रोहित कप्तानी के लिए तैयार भी था? शोएब अख्तर ने मांगा जवाब

सचिन ने किस्सा सुनाते हुए आगे कहा, 'वह मेरी विव रिचर्ड्स से पहली मुलाकात थी। लेकिन उसके बाद हम कई बार मिले। मुझे याद है कि 2007 का वह मुश्किल दौर, जब हम वर्ल्ड कप हारकर लौटे थे। मैं उस समय रिटायरमेंट के बारे में सोच रहा था, तो सर विव रिचर्ड्स ने मुझे कॉल किया था। उन्होंने मुझसे करीब 40-45 मिनट बात की। उन्होंने मुझे कन्विन्स किया कि अभी मेरे अंदर बहुत क्रिकेट बचा है। ऐसी चीजें आपके साथ हमेशा रहती हैं और अगर आपका बैटिंग हीरो आपसे यह कहता है तो इसका आप पर बहुत असर पड़ता है।'