फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटबाबर आजम- मिकी आर्थर ने कैसे किया पाकिस्तान क्रिकेट टीम का बेड़ा गर्क, मोहम्मद हफीज ने खोल डाली पोल

बाबर आजम- मिकी आर्थर ने कैसे किया पाकिस्तान क्रिकेट टीम का बेड़ा गर्क, मोहम्मद हफीज ने खोल डाली पोल

पाकिस्तान क्रिकेट टीम में आईसीसी वर्ल्ड कप 2023 के बाद से बदलाव का जो दौर शुरू हुआ है, वह खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहा। कप्तान बदला गया, कोच बदले गए, लेकिन पाकिस्तान की हालत में कोई सुधार नहीं है।

बाबर आजम- मिकी आर्थर ने कैसे किया पाकिस्तान क्रिकेट टीम का बेड़ा गर्क, मोहम्मद हफीज ने खोल डाली पोल
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 21 Feb 2024 12:46 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान क्रिकेट टीम में उठापटक का जो दौर आईसीसी वर्ल्ड कप 2023 के बाद से शुरू हुआ है वह रुकने का नाम ही नहीं ले रहा है। वर्ल्ड कप 2023 तक पाकिस्तान के तीनों फॉर्मेट के कप्तान बाबर आजम थे और वर्ल्ड कप खत्म होने के बाद उन्होंने तीनों फॉर्मेट की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद पाकिस्तान क्रिकेट टीम के डायरेक्टर पद पर मोहम्मद हफीज को बैठाया गया, लेकिन कुछ दिन पहले उनसे यह पद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) ने वापस छीन भी लिया। मोहम्मद हफीज ने जब से यह पद छोड़ा है, कुछ बड़े खुलासे कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि किस तरह से उन्हें टी20 इंटरनेशनल में बाबर आजम को तीसरे नंबर पर बैटिंग करने के लिए दो महीने तक मनाना पड़ा था। अब जो बात उन्होंने कही है, उसको सुनकर तो पाकिस्तान क्रिकेट फैन्स आग-बबूला हो रहे हैं। मोहम्मद हफीज ने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों की फिटनेस बिगाड़ने में बाबर आजम और मिकी आर्थर का बड़ा हाथ रहा है।

Video: फ्लाइट में तेंदुलकर ने की एंट्री, फैंस चिल्लाने लगे सचिन...सचिन

पाकिस्तान के स्पोर्ट्स शो द पवेलियन पर हफीज ने कहा, 'जब हम ऑस्ट्रेलिया गए थे, तो मैंने खिलाड़ियों को फिटनेस पर ध्यान देने के लिए कहा था। मैंने ट्रेनर से इसको लेकर बात की थी, और ट्रेनर ने मुझे जवाब दिया कि छह महीने पहले टीम डायरेक्टर (मिकी आर्थर), कप्तान (बाबर आजम) और हेड कोच ने मुझे खिलाड़ियों की फिटनेस चेक करने के लिए मना कर दिया था और कहा था कि फिटनेस हमारी प्राथमिकता नहीं है। खिलाड़ियों को अपने हिसाब से खेलने के लिए कहा गया था।'

IPL ऑल-टाइम बेस्ट 16 खिलाड़ीः धोनी-रोहित समेत किसको-किसको मिला मौका

हफीज ने आगे कहा, 'हुआ ये कि फिर जब छह महीने बाद मैंने खिलाड़ियों की फिटनेस चेक की, फैट लेवल जो बहुत ज्यादा अहम होता है, तो वह ज्यादरतर खिलाड़ियों का जो टेस्ट खेलने आए थे सभी खिलाड़ियों का जो स्टैंडर्ड लेवल होता है फैट लेवल का उससे करीब डेढ़ से पौने दो गुणा ज्यादा था। उसके बाद स्टैमिना चेक करने के लिए दो किमी प्लेयर्स को भगाया जाता है, उसे ज्यादातर खिलाड़ी पूरा भी नहीं कर पाए थे।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें