फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटहार्दिक पांड्या बहुत कुछ झेल चुका और अब मैं...हरभजन सिंह ने दी 'हमदर्दी की डोज', T20 WC को लेकर कह दी बड़ी बात

हार्दिक पांड्या बहुत कुछ झेल चुका और अब मैं...हरभजन सिंह ने दी 'हमदर्दी की डोज', T20 WC को लेकर कह दी बड़ी बात

Harbhajan Singh on Hardik Pandya: हरभजन सिंह ने स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या को 'हमदर्दी की डोज' दी है। हरभजन ने कहा कि हार्दिक बहुत कुछ झेल चुका है और अब चाहता हूं कि टी20 वर्ल्ड कप में अच्छा करे।

हार्दिक पांड्या बहुत कुछ झेल चुका और अब मैं...हरभजन सिंह ने दी 'हमदर्दी की डोज', T20 WC को लेकर कह दी बड़ी बात
hardik pandya harbhajan singh
Md.akram भाषा,नई दिल्लीTue, 28 May 2024 10:35 PM
ऐप पर पढ़ें

हार्दिक पांड्या के लिए पिछले दो महीने काफी मुश्किल भरे रहे हैं और उन से हमदर्दी रखने वाले पूर्व ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह चाहते हैं कि यह भारतीय ऑलराउंडर आगामी टी20 वर्ल्ड कप में अपने प्रभावी प्रदर्शन से इस बुरे समय को पीछे छोड़े। हार्दिक की कप्तानी में मुंबई इंडियंस का आईपीएल 2024 में प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा। टीम तालिका में 10वें पायदान पर रही और इस दौरान वह खुद गेंद और बल्ले से प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहे। उनके लिए चीजें उस समय और मुश्किल हो गई जब स्टेडियम के अंदर दर्शक उनके खिलाफ हूटिंग करने लगे। हरभजन को हालांकि उम्मीद है कि अमेरिका में टी20 विश्व कप के दौरान चीजें बदलेंगी।

'जब नीली जर्सी पहनेगा तो अलग...'

उन्होंने 'पीटीआई-भाषा' को दिए इंटरव्यू में कहा, ''जब वह नीली जर्सी (भारतीय टीम की जर्सी) पहनेगा तो वह एक अलग हार्दिक पांड्या होगा क्योंकि हम जानते हैं कि वह रन बना सकता है और विकेट ले सकता है। मैं चाहता हूं कि हार्दिक अच्छा प्रदर्शन करें क्योंकि वह बहुत कुछ झेल चुका है और मैं उन्हें भारत के लिए बहुत अच्छे टूर्नामेंट के लिए शुभकामनाएं देता हूं।'' उन्होंने कहा, ''हार्दिक के लिए अगर यह टूर्नामेंट अच्छा रहा तो जाहिर तौर पर भारत के पास आगे बढ़ने का शानदार मौका होगा।''

'आसपास बहुत सारी चीजें चल रही थीं'

इस 43 साल के पूर्व खिलाड़ी ने कहा, ''हां, उनकी फॉर्म थोड़ी चिंता का विषय है। उनके आसपास बहुत सारी चीजें चल रही थीं, उनका गुजरात (टाइटंस) से मुंबई (इंडियंस) स्थानांतरित होना एक बड़ा बदलाव था और टीम (एमआई) ने कप्तान के तौर पर हार्दिक के प्रति अच्छी प्रतिक्रिया नहीं दी थी।'' हार्दिक को दर्शकों के विरोध का सामना इसलिए करना पड़ा क्योंकि मुंबई की फ्रेंचाइजी ने बेहद सफल रोहित शर्मा की जगह उन्हें कप्तानी सौंप दी। टी20 और वनडे वर्ल्ड कप जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य रहे हरभजन ने टीम प्रबंधन से हार्दिक और रोहित को 'एकजुट' करने का आग्रह किया।'

'वर्ल्ड कप जीतना बड़ी उपलब्धि है'

उन्होंने कहा, ''ऐसा लग रहा था कि वे एक टीम (मुंबई इंडियंस) के रूप में एक साथ नहीं खेल रहे थे। इसलिए बहुत कुछ चल रहा था। हार्दिक पिछले दो महीनों में एक स्वतंत्र व्यक्ति नहीं थे। मेरा मानना है कि इन दोनों के अलावा आईपीएल में अन्य टीमों का प्रतिनिधित्व कर रहे खिलाड़ियों को देश के लिए एकजुट होकर खेलना होगा।'' हरभजन ने कहा, ''वर्ल्ड कप जीतना आईपीएल ट्रॉफी जीतने से भी बड़ी उपलब्धि है, इसलिए मैं प्रबंधन से सभी को एक साथ लाने और उनकी एकजुटता सुनिश्चित करने का आग्रह करूंगा ताकि वे एक टीम के तौर पर खेल सकें।

भारतीय पेस अटैक चिंता का विषय

उन्होंने कहा, ''मेरा मानना है कि एक साथ आना और एक साथ जीतना प्रबंधन की जिम्मेदारी है। अगर वे हारते भी हैं तो उन्हें एक साथ हारना चाहिए।'' हरभजन ने कहा कि वर्ल्ड कप के दौरान अनुभवी जसप्रीत बुमराह को तेज गेंदबाजी में दूसरे छोर से बेहतर साथ की जरूरत होगी। टीम की तेज गेंदबाजी इकाई में बुमराह के अलावा मोहम्मद सिराज और अर्शदीप सिंह शामिल है। उन्होंने कहा, ''तेज गेंदबाजी आक्रमण निश्चित तौर पर चिंता का विषय हो सकता है। बुमराह अलग तरह के गेंदबाज है और उन्हें सफलता के लिए परिस्थितियों की जरूरत नहीं है जबकि अर्शदीप और सिराज जैसे अन्य गेंदबाजों को परिस्थितियों से मदद की जरूरत होगी।''

'विराट ने काफी सुधार दिखाया'

उन्होंने कहा, ''बुमराह के कंधों पर बहुत जिम्मेदारी होगी लेकिन मुझे उम्मीद है कि अन्य तेज गेंदबाज भी कुछ खास बनने की जिम्मेदारी लेंगे।'' हरभजन भारत के पूर्व कप्तान और अनुभवी बल्लेबाज विराट कोहली के टी20 प्रारूप में बल्लेबाजी करने के तरीके में आए बदलाव से काफी प्रभावित है। उन्होंने कहा, ''विराट ने पिछले साल से इस साल तक काफी सुधार दिखाया है और लोग उनके स्ट्राइक रेट के बारे में बात करते हैं। पिछले साल यह 130 के आसपास था और इस बार 160 के आसपास है।'' उन्होंने कहा, ''यह एक बड़ा बदलाव है लेकिन विराट और रोहित को पावरप्ले में तेजी से रन बनाने होंगे। इसके साथ ही अमेरिका और वेस्टइंडीज की परिस्थितियों का भी सम्मान करना होगा।''