DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Coffee With Karan Controversy: बढ़ सकती हैं पांड्या और राहुल की मुश्किलें

इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था लेकिन बाद में इस मामले को लीगल डिपार्टमेंट के पास भेज दिया जबकि सीओए प्रमुख विनोद राय उनसे सहमत हो गए थे।

Hardik Pandya and KL Rahul with Karan Johar.jpg

कमिटी ऑफ एडमिनिस्ट्रेटर्स (Committee of Administrators CoA) की सदस्य डायना इडुल्जी ने भारतीय क्रिकेटर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) और केएल राहुल (KL Rahul) के खिलाफ शुक्रवार को आगे की कार्रवाई तक निलंबन की सिफारिश की है क्योंकि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (The Board Of Control For Cricket In India) की लीगल टीम ने महिलाओं पर इनकी विवादास्पद टिप्पणी को आचार संहिता का उल्लंघन घोषित करने से इनकार कर दिया है।

इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था लेकिन बाद में इस मामले को लीगल डिपार्टमेंट के पास भेज दिया जबकि सीओए प्रमुख विनोद राय उनसे सहमत हो गए थे और निलंबन की सिफारिश कर दी थी। लीगल टीम से राय लेने के बाद इडुल्जी ने अपनी कहा, 'ये जरूरी है कि दुर्व्यवहार पर कार्रवाई का फैसला लिए जाने तक दोनों खिलाड़ियों को निलंबित रखा जाए जैसा कि राहुल जौहरी (BCCI CEO) के मामले में किया गया था जब यौन उत्पीड़न के मामले में उन्हें छुट्टी पर भेजा गया था।'

INDvAUS: पांड्या-राहुल कॉन्ट्रोवर्सी पर कप्तान विराट ने तोड़ी चुप्पी, जानिए क्या कुछ कहा

CoA चीफ की सिफारिश- हार्दिक पांड्या और केएल राहुल पर लगे दो मैच का बैन

बीसीसीआई की लीगल कंपनी सिरिल अमरचंद मंगलदास की सिफारिशों के जवाब में इडुल्जी ने लिखा, 'कानूनी राय के आधार पर और इस मुद्दे से निपटने के लिए अंतिम प्रक्रिया तय होने तक, सिफारिश की जाती है कि दोनों खिलाड़ियों और टीम को तुरंत ये सूचना भेजी जाए।' विधि फर्म ने स्पष्ट किया है कि पांड्या की अनुचित टिप्पणियां आचार संहिता के दायरे में नहीं आती।

'आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं आता ये मामला'

इसमें कहा गया, 'हमारा मानना है कि मौजूदा मामला आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं आता और मौजूदा हालात में आचार संहिता की प्रक्रिया को लागू नहीं किया जा सकता।' बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इडुल्जी के नजरिए का समर्थन करते हुए कहा कि जांच लंबित रहने तक निलंबन होना चाहिए। उन्होंने कहा, 'ये आचार संहिता का मामला नहीं बल्कि संस्थान की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना है। जैसे कि आईसीसी ने गेंद से छेड़छाड़ के आरोपों में अपनी आचार संहिता के तहत स्टीव स्मिथ पर अधिकतम एक मैच का प्रतिबंध लगाया था।' अधिकारी ने कहा, 'लेकिन खेल की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें एक साल के लिए प्रतिबंधित किया। जब आप उनकी मूर्खतापूर्ण टिप्पणी को देखते हैं तो बड़ी तस्वीर देखिए।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:hardik Pandya and kl rahul could face more heat as bcci legal team suggests appointment of ombudsman to start inquiry