फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटहरभजन सिंह ने अब कामरान अकमल को बताया 'नालायक', बोले- सिखों ने आपकी माताओं और बहनों को...

हरभजन सिंह ने अब कामरान अकमल को बताया 'नालायक', बोले- सिखों ने आपकी माताओं और बहनों को...

हरभजन सिंह ने कामरान अकमल को 'नालायक' करार दिया और कहा कि यह बहुत ही बचकानी हरकत है। उनको ये जानना चाहिए कि सिखों ने आपकी माताओं और बहनों को मुगलों पर अटैक करके रात में बचाया था।

हरभजन सिंह ने अब कामरान अकमल को बताया 'नालायक', बोले- सिखों ने आपकी माताओं और बहनों को...
Vikash Gaurएजेंसी, एएनआई,न्यूयॉर्कWed, 12 Jun 2024 10:29 AM
ऐप पर पढ़ें

भारत के पूर्व क्रिकेटर हरभजन सिंह पाकिस्तानी क्रिकेटर कामरान अकमल को जल्द माफ करने के मूड में नहीं हैं। हरभजन सिंह ने इस बार उनको नालायक बताया है और कहा है कि ये बचकानी हरकत उन्होंने की है। भज्जी ने कामरान अकमल को नसीहत भी दी और कहा कि आपको सिखों के इतिहास के बारे में जानना चाहिए। कामरान ने इंडिया वर्सेस पाकिस्तान मैच के दौरान एक टीवी शो में अर्शदीप सिंह के आखिरी ओवर फेंकने पर कहा था कि ये सरदार को क्यों दे दिया...12 बजे के बाद सिख को ओवर नहीं देना चाहिए। इसका मजाक अन्य पेनलिस्ट ने भी उड़ाया था। इस पर भज्जी ने फिर से पलटवार किया है।  

हरभजन सिंह ने एएनआई से बात करते हुए कहा, "यह बहुत ही बेतुका बयान है और बहुत ही बचकानी हरकत है जो कोई 'नालायक' व्यक्ति ही कर सकता है। कामरान अकमल को समझना चाहिए कि किसी के धर्म के बारे में कुछ भी कहने और उसका मजाक उड़ाने की जरूरत नहीं है। मैं कामरान अकमल से पूछना चाहता हूं कि क्या आप सिखों का इतिहास जानते हैं, सिख कौन हैं और सिखों ने आपके समुदाय, आपकी माताओं, बहनों को बचाने के लिए क्या-क्या काम किए हैं। यह अपने पूर्वजों से पूछिए। रात के 12 बजे या 12 बज गए...जैसे जोक सिखों पर मत करो, क्योंकि सिख रात के 12 बजे मुगलों पर हमला करके आपकी माताओं और बहनों को बचाते थे, इसलिए बकवास करना बंद करें।"

कामरान अकमल ने हरभजन सिंह के ट्वीट के बाद माफी मांग ली थी। इस पर हरभजन ने कहा, "यह अच्छा है कि वह इतनी जल्दी समझ गए और माफी मांग ली, लेकिन उन्हें फिर कभी किसी सिख या किसी धर्म को ठेस पहुंचाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। हम सभी धर्मों का सम्मान करते हैं, चाहे वह हिंदू धर्म हो, इस्लाम हो, सिख धर्म हो या ईसाई धर्म हो। हम अगर एकदूसरे के धर्म का सत्कार करना जानते हो तो ये ऐसे मसले हैं कि किसी को कोई परेशानी नहीं होगी और ना ही कोई आग भड़केगी। आपको सभी धर्मों का सम्मान करना चाहिए।" 

Advertisement