फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटIND vs AUS: दिल जीत ले गई चोटिल हनुमा विहारी की दिलेर भरी पारी, फैन्स ने किया सलाम

IND vs AUS: दिल जीत ले गई चोटिल हनुमा विहारी की दिलेर भरी पारी, फैन्स ने किया सलाम

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में खेला गया सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ। इस टेस्ट मैच को बचाने में यूं तो कई खिलाड़ियों का योगदान रहा, लेकिन इन सबके बीच एक खिलाड़ी ऐसा...

IND vs AUS: दिल जीत ले गई चोटिल हनुमा विहारी की दिलेर भरी पारी, फैन्स ने किया सलाम
hanuma-vihari jpg
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 11 Jan 2021 02:57 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में खेला गया सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ। इस टेस्ट मैच को बचाने में यूं तो कई खिलाड़ियों का योगदान रहा, लेकिन इन सबके बीच एक खिलाड़ी ऐसा रहा, जो ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों और जीत के सामने दर्द में होने के बावजूद भी चट्टान की तरह खड़ा रहा। हम बात कर रहें हैं हनुमा विहारी की, जिन्होंने हेमस्ट्रिंग की इंजरी होने के बाद भी मैदान नहीं छोड़ा। किसने सोचा था कि जिस खिलाड़ी की प्लेइंग इलेवन में जगह को लेकर सवाल उठ रहे थे, वह टेस्ट मैच खत्म होते-होते सभी के दिलों पर राज करने लगेगा। हनुमा विहारी की 161 गेंदों में खेली गई 23 रनों की दिलेरी पारी ने सिर्फ सिडनी टेस्ट मैच नहीं बचाया, बल्कि पूरी ऑस्ट्रेलिया टीम को बिना बोले वो मैसेज दे डाला, जो कंगारू टीम शायद ही याद रखना चाहेगी। 

IND vs AUS: हनुमा विहारी-पंत की जुझारू पारी से लेकर ऑस्ट्रेलियाई फैन्स की 'काली करतूत' तक, जानें सिडनी टेस्ट मैच की

विश्व के टॉप 10 गेंदबाजों में शुमार पैट कमिंस, जोश हेजलवुड और मिचेल स्टार्क ने हनुमा विहारी को आउट करने के लिए एंडी चोटी तक का जोर लगाया, लेकिन हाथ आई तो सिर्फ नाकामी। विहारी की यह वो पारी ही जिसका जिक्र आने वाले कुछ सालों में बार-बार होगा, क्योंकि 25 गेंदों में अर्धशतक लगाना आसान है, लेकिन दबाव की परिस्थिति में इस तरह से टेस्ट मैच को निकालकर ले आना यकीनन बड़ा दिलेरी भरा काम है। पंत के आउट होने के बाद विहारी जब मैदान पर उतरे तो उनके सामने कई चुनौतियां थीं, दाएं हाथ के इस बल्लेबाज को ना सिर्फ टेस्ट मैच बचाना था, बल्कि खुद को साबित करके भी दिखाना था। कंधे पर जिम्मेदारी बड़ी थी, लेकिन हनुमा विहारी ने  अपनी पारी से सभी को दिखा दिया कि क्यों उनकी गिनती क्रिकेट के लंबे फॉर्मेट में सबसे बेहतरीन बल्लेबाजों में की जाती है। विहारी ने पांव की मांसपेशियों में खिंचाव आने के बावजूद अश्विन के साथ अंतिम सेशन में ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की हर रणनीति को नाकाम करके उसकी जीत की उम्मीदों पर पानी फेरा। हनुमा ने लगभग चार घंटे क्रीज पर बिताकर अपने नाबाद 23 रन के लिए 161 गेंदें खेलीं जबकि अश्विन ने 128 गेंदों पर नाबाद 38 रन बनाए। दोनों ने लगभग 42 ओवरों का सामना करके छठे विकेट के लिए 62 रन जोड़े।

किस तरह दर्शकों ने बुमराह-सिराज को दीं गालियां, वीडियो आया सामने

हनुमा विहारी इस पूरी ही सीरीज में अबतक बुरी तरह से फ्लॉप रहे थे और उनके द्वारा पहली पारी में लाबुशेन का टपकाए जाने के बाद वह हर जगह लोगों के निशाने पर आ गए। विहारी को बल्लेबाजी के दौरान हेमस्ट्रिंग की इंजरी ने भी परेशान किया और वह ठीक तरह से दौड़ भी नहीं पा रहे थे, लेकिन मानो यह बल्लेबाज ड्रेसिंग रूम से ठानकर आया था कि ऑस्ट्रेलिया खेमे को आज खुश होने का मौका नहीं देगा। ऑस्ट्रेलिया की पेस तिकड़ी ने हनुमा विहारी को आउट करने के लिए हर हथकंडा अपनाया, पर वह भारतीय बल्लेबाज को गलती करने के लिए मजबूर नहीं कर सके। सिडनी टेस्ट ड्रॉ होने के बाद सीरीज का नतीजा अब ब्रिसबेन में तय होगा और अगर फैसला भारत के पक्ष मे रखा तो हनुमा विहारी की इस जुझारू पारी की चर्चा हर ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर की जाएगी।