फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटवर्ल्ड कप 2023 फाइनल में भारतीय टीम की हार का असली गुनहगार कौन है? गौतम गंभीर ने बताया उसका नाम

वर्ल्ड कप 2023 फाइनल में भारतीय टीम की हार का असली गुनहगार कौन है? गौतम गंभीर ने बताया उसका नाम

आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल टीम इंडिया से कहां चूक हुई, जिसके कारण हार मिली। इस पर गौतम गंभीर ने विस्तार से सभी को समझाया और बताया है कि हमने कोई जोखिम नहीं लिया। 

वर्ल्ड कप 2023 फाइनल में भारतीय टीम की हार का असली गुनहगार कौन है? गौतम गंभीर ने बताया उसका नाम
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 22 Nov 2023 11:50 AM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय क्रिकेट टीम का तीसरी बार वर्ल्ड चैंपियन बनने का सपना टूट गया। रविवार 19 नवंबर को भारतीय टीम को वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार मिली और 2013 से चला आ रहा आईसीसी ट्रॉफी ना जीत पाने का इंतजार और ज्यादा लंबा हो गया। पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर ने अब भारत की टीम की गलतियों को लेकर बात की। उन्होंने कहा है कि भारतीय टीम चैंपियन बन सकती थी, लेकिन उन्होंने बहादुरी नहीं दिखाई। गंभीर केएल राहुल की बैटिंग से भी नाखुश हैं।  

भारतीय टीम ने फाइनल मैच से पहले खेले गए चार मैचों में से तीन मैचों में 350 प्लस का स्कोर किया था। जिस मैच में वे 350 तक नहीं पहुंचे, वह साउथ अफ्रीका के खिलाफ था, जिसमें 326 रन बनाए थे और 243 रनों के अंतर से मैच जीता था। हालांकि, फाइनल में वे 240 तक ही पहुंच पाए, जिसे ऑस्ट्रेलिया ने 43 ओवर में 6 विकेट शेष रहते चेज कर लिया। भारत ने पहले 10 ओवर में 2 विकेट खोकर 80 रन जरूर बनाए थे, लेकिन आखिरी के 40 ओवरों में सिर्फ चार चौके टीम की तरफ से लगे। 

पूर्व बल्लेबाज गौतम गंभीर ने कहा कि बेहतर होता अगर भारत बीच के ओवरों में अधिक जोखिम लेने वाले किसी खिलाड़ी के साथ अधिक बाउंड्री लगाने की कोशिश करता। उन्होंने स्पोर्ट्सकीड़ा से बात करते हुए कहा, "यह दोधारी तलवार है, लेकिन मैंने हमेशा यह कहा है कि सबसे साहसी टीम विश्व कप जीतेगी। मैं समझ सकता हूं कि साझेदारी बनाने के लिए आपको समय की जरूरत होती है, लेकिन 11 से 40 ओवर का समय बहुत लंबा समय होता है। किसी को यह जोखिम उठाना चाहिए था।" 

लीजेंड्स लीग क्रिकेट 2023 में महिला अंपायर ने दिया LBW का बहुत ही घटिया फैसला, सुरेश रैना हुए हैरान

गंभीर का मानना है कि 240 रन किसी भी सूरत में बचाने लायक नहीं थे। उन्होंने कहा, "मैं वास्तव में चाहता कि भारत अपने शीर्ष 6-7 बल्लेबाजों के साथ वास्तव में आक्रामक होता, भले ही वे 150 पर ऑल आउट हो जाते। मुझे कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन अगर आपको लगता है कि आप विश्व कप फाइनल में 240 रन का बचाव कर सकते हैं... तो आप ऐसा नहीं कर सकते। या तो हम 150 पर आउट हो जाएं या 300 पर। यही वह जगह है, जहां भारत की कमी है। यहीं पर भारत ने आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीते हैं। रोहित को खेल से पहले संदेश भेजना चाहिए था कि अगर मैं आउट भी हो जाऊं तो भी हमें आक्रामक रुख अपनाना चाहिए।"  

केएल राहुल और विराट कोहली ने चौथे विकेट के लिए साझेदारी की, जिसमें उन्होंने 109 गेंदें खेलीं और सिर्फ 67 रन बनाए। कोहली ने बाउंड्री की कमी के बावजूद अच्छा स्ट्राइक रेट बनाए रखा, 63 गेंदों में 54 रन पर आउट हुए, लेकिन केएल राहुल ने अपनी अर्धशतकीय पारी में सिर्फ एक चौका जड़ा और उनका स्ट्राइक रेट भी खराब था। इस पर गंभीर ने कहा, "कोहली ने पारी को संभालने की भूमिका निभाई, लेकिन बाकी सभी को आक्रामक होना चाहिए था। केएल को रनों के लिए जाना चाहिए था। इससे क्या नुकसान हुआ होता? हम 150 रन पर ऑल आउट हो जाते, लेकिन अगर हम बहादुर होते तो हम 310 रन बना सकते थे और भारत विश्व विजेता होता। यह 1990 का दशक नहीं है। 240 बिल्कुल भी अच्छा स्कोर नहीं है। आपको 300 से अधिक का टोटल चाहिए था।" 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें