DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानिए क्यों गौतम गंभीर खुद को मानते हैं बहुत भाग्यशाली

भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे इंटरनेशनल मैच खेलने वाले गौतम गंभीर ने बताया है कि वो किस तरह से मैच के लिए खुद को तैयार करते थे।

Gautam Gambhir

हाल में क्रिकेट से संन्यास लेने वाले पूर्व भारतीय कप्तान गौतम गंभीर ने कहा कि खिलाड़ी के लिए दबाव झेलने और बुरे दौर से उबरने के लिए सबसे अहम चीज ये है कि मौके को खुद पर हावी नहीं होने दिया जाए। गंभीर 2007 टी20 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा थे और चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान के खिलाफ फाइनल में टॉप स्कोरर भी थे।

ये पूछने पर कि वो वर्ल्ड कप फाइनल्स के लिए कैसे तैयारी करते थे तो गंभीर ने कहा कि सबसे अहम चीज है कि मौके के बारे में सोचा नहीं जाए। उन्होंने कहा, 'आप मौकों को खुद पर हावी नहीं देने दे सकते। ये तब भी गेंद और बल्ले के बीच मुकाबला रहता है, चाहे ये वर्ल्ड कप का फाइनल हो या फिर किसी अन्य मैच का मुकाबला।'

'मुकाबला बैट और बॉल के बीच होता है'

भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे इंटरनेशनल मैच खेलने वाले इस क्रिकेटर ने कहा, 'ये स्वीकार करना मुश्किल है कि ये क्रिकेट का कोई अन्य मुकाबला होगा, बस एक खिलाड़ी को यही सोचना चाहिए। मैंने ऐसे ही तैयारी की है। वैसे भी ये वर्ल्ड कप का फाइनल हो या फिर वर्ल्ड कप का पहला मैच, मुकाबला वर्ल्ड कप का फाइनल नहीं है बल्कि मुकाबला गेंदबाज और बल्लेबाज के बीच का है।'

PM मोदी ने गंभीर को लिखा पत्र, कहा- विश्व विजेता बनाने के लिए धन्यवाद

गांगुली-धौनी नहीं गंभीर की नजर में ये हैं उनके बेस्ट कप्तान

गंभीर ने कहा, ''इसलिए यह सोचना चाहिए कि मैं खेल रहा हूं तो मुझे अगली गेंद को खेलना होगा और अगली गेंद पर मैं जो कुछ कर सकता हूं, उसके लिए मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ करना होगा। मैं वर्ल्ड कप में इसी सोच से उतरा, मैंने मौके की व्यापकता या मंच के बारे में बारे में नहीं सोचा क्योंकि क्रिकेट गेंद को देखकर उसके हिसाब से खेलना होता है।'

'एक नहीं दो बार मिला ये सौभाग्य'

उन्होंने कहा कि वो खुद को भाग्यशाली समझते हैं कि वो वर्ल्ड कप की दो विजेता टीम का हिस्सा रहे। 37 साल के गंभीर ने कहा, 'जब मैं बड़ा हो रहा था तो मेर सपना वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा होना था। मैंने किसी भी तरह का पहला वर्ल्ड कप 2007 में खेला और मैं विजेता टीम का हिस्सा बना।' उन्होंने कहा, 'इसलिए मैं खुद को भाग्यशाली समझता हूं कि मुझे देश के लिए एक बार नहीं बल्कि दो बार कुछ विशेष करने का मौका मिला।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:gautam gambhir thinks he is lucky to win two world cups for team india