फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटसिलेक्टर के पैर नहीं छुए तो भुगता ये खामियाजा...गौतम गंभीर ने बयां की तल्ख हकीकत, खुद से किया एक बड़ा वादा

सिलेक्टर के पैर नहीं छुए तो भुगता ये खामियाजा...गौतम गंभीर ने बयां की तल्ख हकीकत, खुद से किया एक बड़ा वादा

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने अपने बचपन का एक तल्ख किस्सा सुनाया है। गंभीर ने बताया कि उन्हें एक मर्तबा इसलिए टीम से पत्ता कट गया क्योंकि सिलेक्टर के पैर नहीं छुए थे।

सिलेक्टर के पैर नहीं छुए तो भुगता ये खामियाजा...गौतम गंभीर ने बयां की तल्ख हकीकत, खुद से किया एक बड़ा वादा
Md.akram लाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 21 May 2024 04:10 PM
ऐप पर पढ़ें

टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर अपने बेबाक अंदाज के लिए जाने जाते हैं। उन्हें कुछ पसंद या नापसंद होता है तो उसका जिक्र करने से बिलकुल नहीं झिझकते। गंभीर ने हाल ही में अपने बचपन से जुड़ा एक सुनाया है, जिसमें तल्ख हकीकत बयां की। गंभीर ने बताया कि उन्होंने एक मर्तबा सिलेक्टर के पैर नहीं छुए थे, जिसका खामियाजा भुगतना पड़ा और अंडर-14 टीम से पत्ता कट गया। गंभीर ने तब खुद से एक वादा किया कि वह कभी किसी के पैर नहीं छुएंगे।

गंभीर ने आर अश्विन के यूट्यूब चैनल पर बातचीत के दौरान कहा, ''जब मैं बड़ा हो रहा था। 12 या 13 साल का था तब मैंने पहली बार अंडर-14 टूर्नामेंट के लिए ट्रायल दिए। मेरा सिलेक्शन नहीं हुआ क्योंकि मैंने सिलेक्टर के पैर नहीं छुए थे। उस वक्त मैंने खुद से वादा किया कि मैं कभी किसी के पैर नहीं छुऊंगा और ना ही कभी किसी को अपने पैर छूने दूंगा।'' 242 इंटरनेशनल मैच खेलने वाले गंभीर आईपीएल 2024 में कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के मेंटोर हैं। उन्होंने बताया कि जब करियर उतना अच्छा नहीं चल रहा था तो फेमिली बिजनेस संभालने की सलाह मिलती थी।

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, "चाहे अंडर-16, अंडर-19, रणजी ट्रॉफी हो या फिर अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत, जब हर बार मैं असफल होता तो लोग कहते कि आप एक ऐसे परिवार से आते हैं, जहां आपके पास ऑप्शन है। क्रिकेट खेलने की जरूरत नहीं है। आप परिवार का बिजनेस ज्वाइन कर सकते हैं। यह सबसे बड़ी धारणा थी जो मेरे सिर पर लटकी हुई थी और लोगों को यह एहसास नहीं था कि मैं इसे उनसे अधिक चाहता था। दरअसल, मैं उस सोच को हराना चाहता था।'' 

गंभीर ने आगे कहा, ''जब मैं उस धारणा को हराने में सक्षम हो गया तो अन्य किसी सोच से मुझे कभी परेशान नहीं हुई। मेरे लिए मेरे करियर में या मेरे जिंदगी में सबसे कठिन उस धारणा को हराना था क्योंकि लोग सोचते थे कि मैं इसे उतनी शिद्दत से नहीं चाहता।'' गौरतलब है कि केकेआर आईपीएल के 17वें सीजन में टेबल टॉपर रही। केकेआर की पहले क्वॉलिफायर में मंगलवार को राजस्थान रॉयल्स (आरआर) से भिड़ंत होगी। यह मुकाबला जीतने वाली टीम सीधे फाइनल में पहुंचेगी।