DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांगुली ने अपनी जिद में ग्रेग चैपल को बनाया था 'गुरु', किए ये चौंकाने वाले खुलासे

चैपल को लेकर 'दादा' का खुलासा
चैपल को लेकर 'दादा' का खुलासा

ग्रेग चैपल को 2005 में भारतीय टीम का कोच बनाने को लेकर यहां तक कि उनके भाई इयान चैपल का रवैया भी पॉजिटिव नहीं था और सुनील गावस्कर की भी सोच ऐसी ही थी। हालांकि सौरव गांगुली ने कहा कि उन्होंने इन सभी चेतावनियों को नजरअंदाज करने का फैसला करके उनकी नियुक्ति को लेकर अपनी अंतररात्मा की आवाज पर विश्वास किया था।

चैपल की कोच पद पर नियुक्ति से पहले गांगुली ने उनकी मदद ली थी। यहां तक वो 2003 के ऑस्ट्रेलिया दौर से पहले वहां के मैदानों की जानकारी लेने और खुद की और अपने साथियों की तैयारियों के सिलसिले में गोपनीय दौरे पर भी गए थे। उन्होंने चैपल से संपर्क किया क्योंकि उनका मानना था कि उनके मिशन में मदद करने के लिए वो बेस्ट व्यक्ति होंगे।

विराट-अनुष्का की शादी के बाद पहली होली होगी 'डरावनी', जानें क्या है वजह

POLL: क्या रैना को मिलना चाहिए वनडे टीम में भी मौका, जानें क्या कहते हैं आंकड़े

गांगुली ने अपनी आत्मकथा 'ए सेंचुरी इज नॉट इनफ' में लिखा है, 'अपनी पिछली बैठकों में उन्होंने मुझे अपने क्रिकेटिया ज्ञान से काफी प्रभावित किया था।' गांगुली को तब पता नहीं था कि ये साथ उस दौर का सबसे विवादास्पद साथ बन जाएगा।

आगे जानें क्यों गांगुली को चैपल लगे थे कोच के लिए बेस्ट च्वॉइस....
 

'गावस्कर ने दी थी ये सलाह'
'गावस्कर ने दी थी ये सलाह'

ग्रेग की नियुक्ति के बारे में इस पूर्व भारतीय कप्तान ने कहा कि 2004 में जब जॉन राइट की जगह पर नए कोच की नियुक्ति पर चर्चा हुई तो उनके दिमाग में सबसे पहला नाम चैपल का आया। उन्होंने लिखा, 'मुझे लगा कि ग्रेग चैपल हमें चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में नंबर-एक तक ले जाने के लिये सर्वश्रेष्ठ व्यक्ति होंगे। मैंने जगमोहन डालमिया को अपनी पसंद बता दी थी।'

गांगुली ने कहा, 'कुछ लोगों ने मुझे ऐसा कदम नहीं उठाने की सलाह दी थी। सुनील गावस्कर भी उनमें से एक थे। उन्होंने कहा था सौरव इस बारे में फिर से सोचो। उसके (ग्रेग) साथ रहते हुए तुम्हें टीम के साथ दिक्कतें हो सकती हैं। उसका कोचिंग का पिछला रिकॉर्ड भी बहुत अच्छा नहीं रहा है।'

आगे जानें ग्रेग को लेकर उनके भाई इयान ने गांगुली से क्या कुछ कहा था...

'भाई ने भी कहा था ग्रेग भारत के लिए सही पसंद नहीं'
'भाई ने भी कहा था ग्रेग भारत के लिए सही पसंद नहीं'

उन्होंने कहा कि डालमिया ने भी एक सुबह उन्हें फोन करके अनिवार्य चर्चा के लिए अपने घर पर बुलाया था। गांगुली ने कहा, 'उन्होंने विश्वास के साथ ये बात साझा की कि यहां तक उनके (ग्रेग के) भाई इयान का भी मानना है कि ग्रेग भारत के लिए सही पसंद नहीं हो सकते हैं। मैंने इन सभी चेतावनियों को नजरअंदाज करने का फैसला किया और अपनी अंतररात्मा की आवाज सुनी।'

उन्होंने कहा, 'इसके बाद जो कुछ हुआ वो इतिहास है। लेकिन यही जिंदगी है। कुछ चीजें आपके अनुकूल होती हैं जैसे कि मेरा ऑस्ट्रेलिया दौरा और कुछ नहीं जैसे कि ग्रेग वाला अध्याय। मैंने उस देश पर जीत दर्ज की लेकिन उसके एक नागरिक पर नहीं।'
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Ganguly Reveals Ian Chappell Had Doubts Over Greg s Appointment as Coach