DA Image
10 जुलाई, 2020|11:37|IST

अगली स्टोरी

युवराज सिंह ने बताया, कब क्रिकेट फिर से बहाल किया जाना चाहिए

yuvraj singh  afp

भारत के पूर्व स्टार ऑलराउंडर युवराज सिंह का मानना है कि क्रिकेट तभी बहाल होना चाहिए, जब कोरोना वायरस महामारी पूरी तरह से खत्म हो जाए क्योंकि खिलाड़ियों की सेहत और सुरक्षा खेल प्रशासकों के लिए सर्वोपरि होनी चाहिए। सभी खेलों की तरह घरेलू और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट भी कोरोना वायरस महामारी के कारण बंद है। ऐसे में विभिन्न बोर्ड दर्शकों के बिना खाली स्टेडियमों में मैच कराने की सोच रहे हैं।

2015 में ही हार्दिक पांड्या को लेकर सचिन तेंदुलकर ने की थी भविष्यवाणी, जो अब सच हो चुकी है

युवराज ने बीबीसी पर 'द दूसरा पॉडकास्ट' में कहा कि मेरी निजी राय है कि पहले अपने देश और दुनिया को कोरोना वायरस से बचाना है। उन्होंने कहा कि इसे पूरी तरह से खत्म करना होगा क्योंकि अगर यह बढता रहा तो खिलाड़ी मैदान पर जाने से, ड्रेसिंग रूम या चेंजिंग रूम में जाने से भी डरेंगे। विश्व कप 2011 के 'प्लेयर आफ द टूर्नामेंट' ने कहा कि खिलाड़ियों पर वैसे ही मैदान पर काफी दबाव रहता है और वायरस के बारे में सोचते रहने से खेल पर से उनका ध्यान हटेगा।

रोहित शर्मा और हरभजन सिंह ने मिलकर जमकर उड़ाया केदार जाधव का मजाक

उन्होंने कहा कि खिलाड़ी किसी भी देश या क्लब के लिए खेलें, उस पर काफी दबाव रहता है। ऐसे में कोरोना वायरस का डर लेकर वह खेलना नहीं चाहेगा। युवराज ने कहा कि जब आप दस्ताने पहनकर उतरेंगे, पसीना बह रहा हो और आप बल्लेबाजी कर रहे हों। आपका केला खाने का मन है लेकिन किसी और के हाथ में केला है तो आप सोचेंगे कि नहीं, मुझे नहीं खाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आप खेलते समय इस तरह के सवालों से बचना चाहेंगे। आपका ध्यान खेल पर होना चाहिए। यह मेरी राय है। इस पर लोग अपनी राय रख सकते हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:former cricketer Yuvraj Singh explains why cricket should return only after Covid19 is eradicated