DA Image
6 अगस्त, 2020|6:08|IST

अगली स्टोरी

स्टीव वॉ ने कहा- 'मार्क वॉ से अजीब सा रिश्ता रहा है, उनके टेस्ट टीम से जाने के बाद खोया हुआ सा महसूस करता था'

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल अर्थटन से बात करते हुए स्टीव ने कहा कि वो और मार्क के बीच अजीब तरह का रिश्ता है। स्टीव ने बताया कि दोनों हमेशा साथ पढ़े हैं, खेले हैं और बचपन साथ बीता है।

steve waugh and mark waugh

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ ने कहा कि जब उनके जुड़वां भाई मार्क वॉ टेस्ट टीम में नहीं थे, तब वो कुछ खोया हुआ महसूस कर रहे थे। मार्क ने 2002 में इंटरनैशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। इसके दो साल बाद ही स्टीव ने संन्यास ले लिया था। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल अर्थटन से बात करते हुए स्टीव ने कहा कि वो और मार्क के बीच अजीब तरह का रिश्ता है। स्टीव ने बताया कि दोनों हमेशा साथ पढ़े हैं, खेले हैं और बचपन साथ बीता है।

कोविड-19 खतरे के बीच 28 जून को इंग्लैंड पहुंचेगी PAK क्रिकेट टीम

स्टीव ने कहा, 'हम हमेशा टीम में थे, हमेशा एक ही क्लास में। हम एक ही बेडरूम में 16 साल तक रहे थे, एक ही तरह के कपड़े पहनते थे। हम एक दूसरे की पहुंच में थे। ऐसे में तुलना स्वाभाविक थी।' उन्होंने कहा, 'हम खेल में भी अच्छे थे। हम जब खेले, शायद बेस्ट थे। इस तरह की हमेशा बातें हुआ करती थीं कि कौन सा वॉ बेहतर है। इन सबके बीच, जब हम 19 साल के हुए और न्यू साउथ वेल्स की टीम में जगह बनाई तो हमने अलग-अलग दिशाओं में जाकर खुद का अलग-अलग व्यक्तित्व बनाने का फैसला किया।'

हफीज के कोविड-19 टेस्ट पर सस्पेंस जारी, आकाश चोपड़ा ने किया ऐसा ट्वीट

स्टीव ने 1985 में अपना इंटरनैशनल डेब्यू किया था जबकि मार्क ने 1988 में किया था। इस जोड़ी ने 1990 और 2000 में ऑस्ट्रेलिया टीम को अपने कंधों पर संभाले रखा था। उन्होंने कहा, 'हम एक दूसरे का सम्मान करते थे। मैं हमेशा चाहता था कि मार्क अच्छा करें। जब वो टेस्ट टीम में नहीं थे, मैं मैदान पर गया, मुड़ा और देखा कि कुछ खोया हुआ सा महसूस कर रहा हूं। कई मायनों में हमारे बीच अजीब सा संबंध था। हम दोनों एक दूसरे से कम बात करते हैं, लेकिन हम जब मिलते हैं तो मिलकर अच्छा लगता है।'
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Felt like I lost something when he retired Steve Waugh opens up on relationship with brother Mark