DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

EXCLUSIVE: मोनू सिंह बोले- जिवा और साक्षी भाभी के बहुत करीब हूं मैं, माही भाई ने मुझे बदल डाला

चेन्नई सुपर किंग्स में इस बार एक गेंदबाज थे मोनू सिंह, जिन्हें भले ही एक भी मैच खेलने का मौका ना मिला हो, लेकिन चर्चा में खूब रहे।

Monu Singh with Dhoni family

महेंद्र सिंह धौनी के बाद इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) तक पहुंचने वाले रांची के दूसरे खिलाड़ी मोनू कुमार सिंह मंगलवार की सुबह रांची लौटे। दो महीने दुनिया के बेहतरीन क्रिकेटरों के बीच रहने और धौनी जैसी शख्सियत के साथ नजदीक से वक्त गुजारने के बाद मोनू अब आत्मविश्वास से लबरेज  हैं। मंगलवार को वो दिन भर सोते रहे। रात को मोनू ने हिन्दुस्तान से खास बातचीत की।

 

#vijayhazaretrophy #goodvibes #thelegend

A post shared by Monu Singh (@monu_singh31) on

मोनू सिंह ने अपने इंटरव्यू में बताया कि किस तरह से धौनी ने उनको पूरी तरह बदल डाला है और साथ ही साक्षी भाभी और जिवा के साथ उनकी कैसी बॉन्डिंग है।

साक्षी और जिवा के अलावा धौनी के साथ ये क्रिकेटर भी पहुंचा रांची, देखें फोटो

सवालः आईपीएल ने मोनू को कितना बदल दिया?

जवाबः ये मेरे लिए जीवन का सबसे बड़ा अचीवमेंट रहा। इतने लंबे समय तक मैं पहली बार इतने बड़े क्रिकेटरों के साथ रहा। ये अनोखा अनुभव था मेरे लिए। मुझे लगता है कि मैं सचममुच बदल गया हूं, पर खेल की दृष्टि से।

विराट कोहली ने शेयर किया ये वीडियो, युजवेंद्र चहल बोले- भइया जल्दी ठीक हो जाओ

IPL2018: क्रिकेटरों के साथ कोच भी मालामाल, वीरू से लेकर नेहरा तक की सैलरी उड़ा देगी आपके होश

सवालः ऐसा क्या बदलाव लग रहा है खुद में?

जवाबः जहां तक आईपीएल टूर्नामेंट की बात है। उसमें मैंने कोई मैच नहीं खेला लेकिन जो एक्सपोजर वहां मिला, वो अमूल्य है। और इस बदलाव का सबसे बड़ा कारण धौनी भइया हैं।

सवालः उनके कारण क्या बदलाव महसूस किया?

जवाबः उन्होंने तो मेरा आउटलुक ही बदल दिया। न केवल खेल में बल्कि इंसान के रूप में भी। पॉजिटिव रहना क्या होता है, मैंने उनसे सीखा जीवन के हर पहलू में वो पाजिटिव रहते हैं। उनके कूल रहने का गुण तो पहले से सबको पता है। वो औरों से बहुत अलग हैं।

 

winners!! #ipl2018#whistlepodu CSK all the way.

A post shared by Monu Singh (@monu_singh31) on

सवालः माही कैसे औरों से अलग हैं?

जवाबः मुझे लगता है जीवन को देखने की उनकी थ्योरी ही अलग है। वो किसी व्यक्ति के बारे में नेगेटिव नहीं सोचते हैं। उनसे मैंने अलग-अलग स्थितियों को बगैर तनाव के हैंडल करना सीखा। अपने और दूसरों पर विश्वास करना सीखा।

सवालः रांची के होने का कोई फायदा मिला?

जवाबः हां, मैं माही भइया की पत्नी साक्षी और उनकी बेटी जिवा से तो बहुत ही घुल मिल गया। साक्षी भाभी ने मेरी कई फोटो इंस्टाग्राम में शेयर करके मेरा मनोबल बढ़ाया और जिवा से तो मेरी बहुत दोस्ती हो गई थी। जिवा बहुत फ्रेंडली नेचर की है। वो सबसे घुल मिल जाती है। मेरे पास हमेशा आ जाती थी। साक्षी भाभी हमेशा मेरा हौसला बढ़ाती रहती थी। मैं धौनी भइया, साक्षी भाभी और जिवा के साथ ही रांची लौटा हूं। वहां भी हमेशा जिवा, भाभी के साथ समय गुजरता था। रांची का होने के नाते मुझे और भी वैल्यू मिली।

 

great times make great memories...

A post shared by Monu Singh (@monu_singh31) on

 

@monu_singh31 .... we love him ... follow him if u like him !!

A post shared by Sakshi Singh Dhoni (@sakshisingh_r) on

सवालः इस अनुभव से आपकी गेंदबाजी में क्या बदलाव आएगा?

जवाबः वहां पर टीम के बॉलिंग कोच एरिक सिमंस सर और लक्ष्मीपति बालाजी सर से बहुत कुछ सीखने को मिला। उन्होंने मुझको सटीक गेंदबाजी करना सिखाया। लेंग्थ और लाईन में उन्होंने मुझसे काफी सुधार करवाया।

सवालः अभ्यास में अन्य खिलाड़ियों के साथ कैसा अनुभव रहा?

जवाबः मैंने जी भरकर नेट्स पर गेंदबाजी की। बड़े खिलाड़ियों को अभ्यास कराने से भी बहुत कुछ सीखने को मिलता है। नेट्स में इधर-उधर तो गेंदबाजी नहीं कर सकते ना। इससे मेरी लाइन व लेंग्थ भी सुधरी।

IPL की विस्तृत कवरेज के लिए यहां क्लिक करें...

सवालः इस अनुभव से आगे क्या फायदा मिलेगा?

जवाबः जो सीखा है। जो आत्मविश्वास बढ़ा है, डोमेस्टिक क्रिकेट में उसका फायदा उठाना है। माही भइया ने मुझे बदल दिया, मेरा खेल बदल दिया। अब अगर मैं आगे कुछ न कर सका तो ये मेरी ही गलती होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:exclusive interview with monu singh i am very closed to ziva and sakshi bhabhi learnt a lot from ms dhoni
brufen