फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटजो काम 12 पारियों में केएस भरत नहीं कर पाए, उसे ध्रुव जुरेल ने दूसरी पारी में ही कर दिखाया

जो काम 12 पारियों में केएस भरत नहीं कर पाए, उसे ध्रुव जुरेल ने दूसरी पारी में ही कर दिखाया

केएस भरत को टेस्ट क्रिकेट में 7 मैच खेलने का मौका मिला और वे 12 बार बल्लेबाजी के लिए उतरे, लेकिन एक भी अर्धशतक नहीं जड़ पाए, जबकि विकेटकीपर बल्लेबाज ध्रुव जुरेल ने दूसरी ही पारी में ऐसा कर दिखाया। 

जो काम 12 पारियों में केएस भरत नहीं कर पाए, उसे ध्रुव जुरेल ने दूसरी पारी में ही कर दिखाया
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 25 Feb 2024 10:55 AM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय क्रिकेट टीम ने इंग्लैंड के खिलाफ जारी पांच मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले दो मैचों में केएस भरत को मौका दिया, जो उससे पहले 5 मैच भारत के लिए खेल चुके थे। केएस भरत आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप 2023 का फाइनल भी खेले थे। हालांकि, 12 पारियां खेलने के बावजूद उनके बल्ले से एक अर्धशतक तक नहीं निकला था। वहीं, उनकी जगह तीसरे टेस्ट मैच में डेब्यू करने वाले ध्रुव जुरेल ने दूसरी ही पारी में अर्धशतक जड़ दिया। 

इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट टेस्ट मैच में वे सिर्फ एक पारी ही खेल पाए, क्योंकि दूसरी पारी भारत ने जल्दी घोषित कर दी थी। यहां तक कि उसी मैच में ध्रुव जुरेल ने केएस भरत का हाई स्कोर पार कर दिया। भरत का टेस्ट में 44 रन सर्वाधिक स्कोर है, जबकि 46 रन ध्रुव जुरेल ने पहले ही मैच में बना दिए थे। दूसरे मैच में जब टीम इंडिया की रनों की जरूरत थी और एक खिलाड़ी को क्रीज पर टिकने की जरूरत दिखी तो ध्रुव जुरेल ने उस काम को अंजामनं दिया। 

घ्रुव जुरेल ने 96 गेंदों में 3 चौके और 1 छक्के की मदद से अपने पहला अर्धशतक करियर की दूसरी पारी और दूसरे ही मैच में पार किया। केएस भरत 12 पारियां और 7 मैच खेलकर भी ऐसा नहीं कर पाए थे। ऐसे में केएस भरत का आगे टीम में चुना जाना मुश्किल है, क्योंकि केएल राहुल जरूरत पड़ने पर विकेट के पीछे खड़े हो सकते हैं और ध्रुव जुरेल मुख्य विकेटीकपर हो सकते हैं। ऋषभ पंत की वापसी के बाद केएस भरत के लिए दरवाजे बंद ही हो जाएंगे। 

ऑस्ट्रेलिया ने न्यूजीलैंड को उसी घर में घुसकर हराया, T20I सीरीज में किया क्लीन स्वीप

ध्रुव जुरेल इस मैच में नंबर सात पर बल्लेबाजी के लिए उतरे और उन्होंने कुलदीप यादव के साथ एक अहम साझेदारी की। 23 वर्षीय ध्रुव जुरेल ने 70 से ज्यादा रनों की साझेदारी कुलदीप यादव के साथ की, जिन्होंने अब तक इस पारी में सबसे ज्यादा गेंदों का सामना किया। कुलदीप यादव की बात करें तो वे अब बल्लेबाजी में भी अपना दमखम दिखा रहे हैं, क्योंकि 20 ओवर से ज्यादा बल्लेबाजी करना आसान नहीं होता। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें