फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटध्रुव जुरेल खतरनाक गेंद पर हुए 90 रन बनाकर आउट, आकाश चोपड़ा बोले- शतक नहीं, पर शतक से कम भी नहीं ये पारी

ध्रुव जुरेल खतरनाक गेंद पर हुए 90 रन बनाकर आउट, आकाश चोपड़ा बोले- शतक नहीं, पर शतक से कम भी नहीं ये पारी

ध्रुव जुरेल इंग्लैंड के खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में टॉम हार्टली की एक खतरनाक गेंद पर 90 रन बनाकर आउट हो गए। आकाश चोपड़ा ने कहा कि ये शतक नहीं, पर शतक से कम भी नहीं है। जुरेल ने शानदार खेल दिखाया।

ध्रुव जुरेल खतरनाक गेंद पर हुए 90 रन बनाकर आउट, आकाश चोपड़ा बोले- शतक नहीं, पर शतक से कम भी नहीं ये पारी
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 25 Feb 2024 11:46 AM
ऐप पर पढ़ें

रांची में इंग्लैंड के खिलाफ जारी चौथे टेस्ट मैच में ध्रुव जुरेल ने 90 रनों की शानदार पारी खेली। वे एक खतरनाक गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए और इस तरह भारतीय पारी का अंत हो गया। हालांकि, जुरेल की इस पारी की तारीफ बनती है। यही कारण है कि आकाश चोपड़ा ने इस 90 रनों की पारी को शतक से कम नहीं बताया। ध्रुव जुरेल ने इस मुकाबले में पुछल्ले बल्लेबाजों के साथ बल्लेबाजी की और टीम को सम्मानजनक स्थिति में पहुंचाया। 

एक समय पर टीम इंडिया का स्कोर 177/7 था। इसके बाद टीम को 307 रनों तक पहुंचाने में ध्रुव जुरेल का अहम योगदान था। वे शतक की ओर बढ़ रहे थे और लगातार विकेट पर खड़े थे, क्योंकि दूसरे छोर से विकेट गिर रहे थे। ऐसे में ध्रुव जुरेल ने कुछ आक्रामक शॉट लगाकर 90 रन तो पूरे कर लिए, लेकिन एक खतरनाक गेंद पर बोल्ड हो गए। वे उस गेंद को डिफेंस करना चाहते थे, क्योंकि टॉम हार्टली की ये गेंद थोड़ी सी नीची रही और स्टंप्स की लाइन में भी थी। 

ध्रुव जुरेल के आउट होने और टीम इंडिया की पारी समाप्त होने पर आकाश चोपड़ा ने जियोसिनेमा पर कमेंट्री करते हुए भारतीय विकेटकीपर की तारीफ की। ध्रुव जुरेल को लेकर आकाश ने कहा कि वह आर्मीमैन के बेटे हैं और जंग लड़ना जानते हैं। भले ही यह 90 रनों की पारी शतक नहीं है, पर ये शतक से कम भी नहीं है। वाकई में अगर ध्रुव जुरेल के बल्ले से ये रन नहीं बनते तो टीम इंडिया मुश्किल में पड़ जाती है, क्योंकि अभी भी इंग्लैंड के पास 46 रनों की बढ़त है। 

ध्रुव जुरेल को सुनील गावस्कर ने बताया अगला एमएस धोनी, बोले- उनके पास...  

बता दें कि ध्रुव जुरेल को केएस भरत की जगह मौका दिया गया था। केएस भरत विकेट के पीछे अच्छे थे, लेकिन बल्लेबाजी में वे फेल हो रहे थे। 7 मैचों की 12 पारियों में केएस भरत अर्धशतक तक नहीं जड़ पाए थे। उनकी जगह ध्रुव को मौका मिला और पहली ही पारी में 46 रन बना दिए। इसके बाद वे दूसरे मैच में उतरे तो टीम इंडिया की स्थिति नाजुक थी, लेकिन वे एक छोर पर डटे रहे और टीम को अच्छी स्थिति में पहुंचाने का काम किया। दूसरी पारी में उनका पहला अर्धशतक आया।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें