DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › तेंदुलकर से हुई थी तुलना, वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर प्रणव ने डिप्रेशन के चलते छोड़ा क्रिकेट

तेंदुलकर से हुई थी तुलना, वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर प्रणव ने डिप्रेशन के चलते छोड़ा क्रिकेट

लाइव हिन्दुस्तान टीम,मुंबईPublished By: Namita
Fri, 29 Dec 2017 10:32 AM
डिप्रेशन के चलते छोड़ा क्रिकेट
1/3

डिप्रेशन के चलते छोड़ा क्रिकेट

कुछ समय पहले ही एक जूनियर क्रिकेटर का खूब नाम हुआ था। प्रणव धनवाड़े ने 2016 में अंडर-16 क्रिकेट में 1009 रनों की पारी खेलकर सबको चौंका दिया था। इतना ही नहीं प्रणव की तुलना मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर से की जाने लगी थी। प्रणव ने क्रिकेट फिलहाल छोड़ दिया है, और इसके पीछे का कारण बहुत हैरान करने वाला है। प्रणव ने डिप्रेशन के चलते क्रिकेट नहीं खेलने का फैसला लिया।

आपको बता दें कि प्रणव ने साल 2016 में अंडर-16 क्रिकेट में 1009 रनों की रिकॉर्डतोड़ पारी खेलकर क्रिकेट जगत में तहलका मचा दिया था। इस ऐतिहासिक पारी के बाद काफी दिनों तक हर जगह इस नाम की ही चर्चा रही थी और लोग उनकी तुलना तेंदुलकर से करने लगे थे।

शर्मनाक! साइट स्क्रीन के पीछे ले जाकर बांग्लादेशी क्रिकेटर ने फैन की कर दी पिटाई

INDvSA: सहवाग ने की भविष्यवाणी, बताया ये बल्लेबाज लगाएगा रनों की झड़ी

प्रणव को 1009 रनों की पारी के बाद मुंबई क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से 10 हजार रुपये प्रति महीने की स्कॉलरशिप देने की बात भी थी, हालांकि प्रणव ने इसे वापस कर दिया था। खबरों की माने तो प्रणव काफी तनाव में रहने लगा था। आगे की स्लाइड में जानें क्या है पूरा मामला...

क्रिकेट को लेकर प्रणव को था तनाव
2/3

क्रिकेट को लेकर प्रणव को था तनाव

प्रणव की बल्लेबाजी देखते हुए उन्हें एमसीए ने 10 हजार प्रति महीने स्कॉलरशिप दी, जिससे वो अपनी पढ़ाई और खेल को जारी रख सके लेकिन इसके बाद खराब फॉर्म के चलते प्रणव को दरकिनार कर दिया गया। इसके बाद प्रणव को एयर इंडिया और दादर यूनियन ने भी अपने यहां नेट प्रैक्टिस से रोक दिया। इसके चलते गहरे वो डिप्रेशन में जाने लगे और आखिरकार क्रिकेट छोड़ दिया। 

आगे की स्लाइड में जानें पिता ने एमसीए को खत लिखकर क्या मांग की...

पिता ने एमसीए को लिखा खत तो मिला ये जवाब
3/3

पिता ने एमसीए को लिखा खत तो मिला ये जवाब

बेटे की हालत देखकर पिता प्रशांत धनावड़े ने जब एमसीए को स्कॉलरशिप फिर से देने के लिए लेटर लिखा तो जवाब आया कि, 'जब प्रणव फिर से शानदार फॉर्म में होगा तो इसे जारी रखा जाएगा।' हालांकि प्रणव के कोच मोबिन शेख को उसकी वापसी का पूरा भरोसा है, उन्होंने कहा, 'मैं लगातार उसे मोटिवेट करने की कोशिश कर रहा हूं। सुर्खियों में छाने के बाद प्रणव अपना फोकस काफी हद तक खो चुका है। लगातार आलोचना भी इसकी अहम वजह है लेकिन मुझे यकीन है कि अगले साल तक हम प्रणव के रूप में एक शानदार बल्लेबाज को देखेंगे।' 

बताया जा रहा है कि प्रणव को एमसीए द्वारा अंडर-16 टीम से बाहर का रास्ता दिखाया गया, जिसके बाद उन्होंने बेंगलुरु का रुख किया। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो प्रणव बेंगलुरु के उसी क्लब में गए जहां राहुल द्रविड़ के बेटे समित द्रविड़ प्रैक्टिस करते हैं। वहां से जब वो लौटे तो एयर इंडिया और दादर यूनियन ने उनकी नेट प्रैक्टिस पर पाबंदी लगा दी। इन सबसे प्रणव का मनोबल टूटा और वो डिप्रेशन का शिकार हो गए।

संबंधित खबरें