DA Image
16 फरवरी, 2020|3:00|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रणजी ट्रॉफी में हिंदी वाले बयान के बाद कमेंटेटर्स ने मांगी माफी, जानें क्या था विवाद

representational image  twitter

रणजी ट्रॉफी 2019-20 में कर्नाटक और बड़ौदा के बीच बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में खेले जा रहे मैच के दौरान कमेंटेटर्स के एक बयान से काफी बवाल मच गया है। इस मैच में कमेंट्री कर रहे कमेंटेटर राजेंद्र अमरनाथ और सुशील दोषी ने कहा था कि हर भारतीय को हिंदी जाननी चाहिए, क्योंकि यह हमारी मातृभाषा है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत में हिंदी से बड़ी कोई भाषा नहीं है। उनके इस बयान के बाद अमरनाथ और दोषी को सोशल मीडिया पर यूजर्स ने कड़ी फटकार लगाई, जिसके बाद दोनों कमेंटेटर्स ने माफी मांगी है। 

सोशल मीडिया पर यूजर्स ने इन दोनों कमेंटेटर्स को ट्रोल करते हुए कहा कि दोनों कमेंटेटर्स लोगों पर हिंदी को थोप रहे हैं और इससे गलत संदेश प्रसारित हो रहा है। इस विवाद के बाद अमरनाथ और दोषी दोनों ने अपनी टिप्पणियों के लिए माफी मांगी है। पहले इन्होंने ऑन एयर माफी मांगी और उसके बाद दिन का खेल खत्म होने पर भी। पूर्व भारतीय क्रिकेटर मोहिंदर अमरनाथ के भाई राजेंद्र ने ऑन एयर टी ब्रेक से पहले कहा कि उनकी इंटेंशन किसी को हर्ट करने या किसी भाषा को थोपने की नहीं थी। देश के अलग-अलग हिस्सों में हर भाषा देश की ही भाषा है। हर व्यक्ति अपनी भाषा से प्यार करता है। मेरा उद्देश्य किसी को हर्ट करना नहीं था। 

IPL: शोएब अख्तर की गेंदबाजी देख क्रेजी होकर ईडन गार्डन्स पर दौड़ने लगे थे शाहरुख खान 

दिन का खेल खत्म होने के बाद अमरनाथ और सुनील दोषी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वे कमेंटरी के समय जिस भाषा का प्रयोग करते हैं, वह मिसप्लेस्ड हो जाती है। 

इससे पहले अमरनाथ ने कमेंट्री के दौरान कहा कि यदि हिंदी हमारी मातृभाषा नहीं है तो कौन सी है। क्या इस बात से इंकार किया जा सकता है कि हिंदी हमारी मातृभाषा नहीं है। तो फिर कौन सी भाषा हमारी मातृभाषा है। मेरा सिर्फ यह कहना था कि हर व्यक्ति हिंदी जान सकता है ना कि उसे जाननी चाहिए। 

इन दोनों ने कमेंट्री के दौरान कहा था कि हर भारतीय को हिंदी जाननी चाहिए। दोषी ने क्रिकेटरों से पूछा था कि किस किस को हिंदी भाषा बोलने पर गर्व है। अमरनाथ ने ऑन एअर कहा था, हिन्दुस्तान में हर हिन्दुस्तानी को हिंदी आनी चाहिए। ये हमारी मातृभाषा है। इससे बड़ी भाषा हमारे लिए नहीं है। 

ICC T20 World Cup 2020: 16 साल की धाकड़ ओपनर शेफाली वर्मा ने लड़कों संग खेल खुद को निखारा- VIDEO

दोषी ने अमरनाथ की टिप्पणी को उलट कर कहा था, मैंने उन लोगों की तरफ गुस्से में देखता हूं जो कहते हैं, हम क्रिकेटर है लेकिन फिर भी हम हिंदी बोलते हैं। आप भारत में रहते हैं और स्वाभाविक रूप से भारत की भाषा बोलेंगे। इसमें गर्व करने जैसी क्या बात है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:commentator Rajinder Amarnath and Sushil Doshi apologise after Hindi mother tongue remark during Ranji Trophy commentary