फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटमजबूरी में ऑस्ट्रेलिया के चीफ सिलेक्टर और सपोर्ट स्टाफ ने की फील्डिंग, टीम की प्लेइंग 11 भी नहीं थी पूरी

मजबूरी में ऑस्ट्रेलिया के चीफ सिलेक्टर और सपोर्ट स्टाफ ने की फील्डिंग, टीम की प्लेइंग 11 भी नहीं थी पूरी

ऑस्ट्रेलिया के चीफ सिलेक्टर और सपोर्ट स्टाफ को मैदान में उतरना पड़ा, क्योंकि टी20 वर्ल्ड कप 2024 के पहले वॉर्मअप मैच में ऑस्ट्रेलिया के पास अपनी प्लेइंग इलेवन भी नहीं थी, क्योंकि खिलाड़ी अभी पहुंचे नह

मजबूरी में ऑस्ट्रेलिया के चीफ सिलेक्टर और सपोर्ट स्टाफ ने की फील्डिंग, टीम की प्लेइंग 11 भी नहीं थी पूरी
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 29 May 2024 08:50 AM
ऐप पर पढ़ें

ऑस्ट्रेलिया और नामीबिया के बीच टी20 वर्ल्ड कप 2024 का वॉर्मअप मैच बुधवार 28 मई (भारत में 29 मई) को त्रिनिदाद में खेला गया। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की टीम को मजबूरी में अपने चीफ सिलेक्टर और अन्य सपोर्ट स्टाफ के सदस्यों को मैदान पर उतारना पड़ा। इस वॉर्मअप मैच के लिए ऑस्ट्रेलिया के पास अपनी प्लेइंग इलेवन भी नहीं थी। बावजूद इसके ऑस्ट्रेलिया ने अभ्यास मैच में नामीबिया को रौंद दिया। डेविड वॉर्नर ने तूफानी अर्धशतक जड़ा और गेंदबाजी में जोश हेजलवुड ने कहर बरपाया और चार ओवर में सिर्फ 5 रन खर्च किए और दो विकेट निकाले। 

ऑस्ट्रेलिया के सामने वो क्या मजबूरी थी, जिसके कारण चीफ सिलेक्टर, हेड कोच और अन्य सपोर्ट स्टाफ को फील्डिंग के लिए आना पड़ा? दरअसल, ऑस्ट्रेलिया के तीन खिलाड़ी आईपीएल 2024 फाइनल में खेले थे और कुछ खिलाड़ी उपलब्ध नहीं थे। यहां तक कि कप्तान मिचेल मार्श भी सिर्फ बल्लेबाजी कर सकते थे। ऐसे में ऑस्ट्रेलिया की प्लेइंग इलेवन भी पूरी नहीं हो रही थी और आईसीसी के नियम हैं कि आप अभ्यास मैच में रिजर्व प्लेयर्स को भी नहीं खिला सकते। हालांकि, सपोर्ट सटाफ की मदद सिर्फ फील्डिंग में ली जा सकती है। ऑस्ट्रेलिया ने भी ऐसा ही किया। 

गौतम गंभीर क्यों हैं टीम इंडिया के हेड कोच के सबसे बड़े दावेदार, नवजोत सिंह सिद्धू ने बताया कारण

ऑस्ट्रेलिया की टीम के असिस्टेंट कोच आंद्रे बोरोवेक, चीफ सिलेक्टर जॉर्ज बेली, हेड कोच एंड्रयू मैकडोनल्ड और ब्रैड हॉग फील्डिंग सब्सटीट्यूट थे। उनका इस्तेमाल ऑस्ट्रेलिया ने फील्डिंग के लिए किया। हालांकि, किसी से ज्यादा मदद नहीं ली गई है, क्योंकि ऑस्ट्रेलिया के मेन प्लेयर ही काफी थी। उन्होंने ही कैच पकड़े और रन आउट भी किए। कुछ खिलाड़ी बोल्ड और रन आउट हुए तो फील्डर्स की इसमें जरूरत नहीं पड़ती। नामीबिया ने 119 रन बनाए थे। ऑस्ट्रेलिया ने 10 ओवर में ही 123 रन बनाकर मुकाबला 7 विकेट से जीत लिया। वॉर्नर ने 21 गेंदों में 54 रन बनाए।