DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › चेतेश्वर पुजारा बोले, WTC मेरे लिए वर्ल्ड कप से कम नहीं, कीवियों की चुनौती के लिए तैयार हूं
क्रिकेट

चेतेश्वर पुजारा बोले, WTC मेरे लिए वर्ल्ड कप से कम नहीं, कीवियों की चुनौती के लिए तैयार हूं

एजेंसी,साउथम्पटनPublished By: Mohan Kumar
Wed, 16 Jun 2021 08:29 AM
चेतेश्वर पुजारा बोले, WTC मेरे लिए वर्ल्ड कप से कम नहीं, कीवियों की चुनौती के लिए तैयार हूं

चेतेश्वर पुजारा का मानना ​​है कि अगर भारत विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के पहले खिताब को जीत जाता है, तो यह सबसे लंबे फॉर्मेट की लोकप्रियता के लिए उसी तरह का काम करेगा, जैसा कि 2007 में टी-20 वर्ल्ड कप में जीत ने सबसे छोटे फॉर्मेट की लोकप्रियता को बढ़ाया था। पारंपरिक फॉर्मेट के शानदार खिलाड़ियों में से एक माने जाने वाले पुजारा को यह स्वीकार करने में कोई संकोच नहीं है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ डब्ल्यूटीसी फाइनल खेलना उनके लिए एक बड़ी बात है। वह हालांकि इस टेस्ट को भी किसी अन्य मैच की तरह लेने की कोशिश करेंगे। पुजारा से जब ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में मंगलवार को महेन्द्र सिंह धोनी की अगुवाई में 2007 में दक्षिण अफ्रीका में टी-20 विश्व कप के पहले विजेता बनने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'हां, निश्चित रूप से, मुझे लगता है कि टेस्ट क्रिकेट को जीवित रहने की जरूरत है और यह डब्ल्यूटीसी फाइनल निश्चित रूप से इसमें मदद करेगा।'

इस खिलाड़ी ने कहा, 'अगर हम जीत जाते हैं तो भारत में और युवा खिलाड़ी टेस्ट क्रिकेट खेलना चाहेंगे। भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में भी, टेस्ट क्रिकेट को जीवित रहने की जरूरत है और ऐसा करने के लिए डब्ल्यूटीसी एक बहुत अच्छा तरीका है।' पुजारा ने कहा कि व्यक्तिगत रूप से यह दो साल की कड़ी मेहनत का नतीजा है और टीम अंतिम जीत के बेहत ही करीब है। उन्होंने कहा, 'व्यक्तिगत रूप से, यह बहुत मायने रखता है क्योंकि मैं सिर्फ एक फॉर्मेट (टेस्ट) खेलता हूं। यह पहली बार है जब हम यह डब्ल्यूटीसी फाइनल खेल रहे हैं। एक टीम के रूप में, हमने इस अवधि में कड़ी मेहनत की है। आपको घरेलू सीरीज या विदेशी सरजमीं पर कई सीरीज जीतनी होती है। खेल में टॉप पर रहने के लिए, इसके लिए बहुत मेहनत की आवश्यकता होती है। यह किसी अन्य फॉर्मेट में वर्ल्ड कप फाइनल की तरह है।'

WTC फाइनल में इन 2 खिलाड़ियों के बीच की जंग देखना चाहते हैं पूर्व कीवी तेज गेंदबाज शेन बॉन्ड

उन्होंने कहा, 'टेस्ट फॉर्मेट में यह पहली बार है, लेकिन यह वनडे या टी-20 में विश्व कप फाइनल खेलने के समान है। एक टीम के रूप में हम फाइनल की प्रतीक्षा कर रहे हैं।' पुजारा टीम के साथी खिलाड़ी रविचंद्रन अश्विन की उस बात से सहमत दिखे, जिसमें ऑफ स्पिनर ने कहा था कि इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज खेलने से न्यूजीलैंड की टीम को बेहतर तैयारी का मौका मिला है। उन्होंने कहा, 'हां, ऐसा है (न्यूजीलैंड की टीम फायदे में है)। यह कुछ ऐसा है जिसे हम नियंत्रित नहीं कर सकते। महामारी के कारण पूरी दुनिया में यह चुनौतीपूर्ण समय है। आपके पास तैयारी के लिए अतिरिक्त समय रखने की सारी सुविधाएं नहीं हो सकतीं। हम सबके लिए यह महत्वपूर्ण है कि हम फाइनल खेल रहे हैं।'

टेस्ट क्रिकेट में 6000 से अधिक रन बनाने वाले पुजारा ने कहा कि इंट्रा-स्क्वायड (भारत की दो टीमों के बीच खेले गए) मैच में गेंदबाजों ने लगभग तीन सप्ताह के क्वारंटाइन के बाद अपना कार्यभार बढ़ाने पर जोर दिया जबकि बल्लेबाजों को भी मैच की तरह प्रैक्टिस करने का मौका मिला। उन्होंने कहा, 'यह बल्लेबाजों और गेंदबाजों दोनों के लिए लय में वापस आने का मौका था। हम क्वारंटाइन में थे, लेकिन हमने ट्रेनिंग और प्रैक्टिस शुरू कर दी थी। इसलिए जब हम मैदान पर उतरे तो हम इसका अधिकतम लाभ उठाना चाहते थे।'  पुजारा ने टीम के गेंदबाजों खासकर जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, ईशांत शर्मा और उमेश यादव की तेज गेंदबाजों की चौकड़ी की तारीफ की। इन चारों को अब मोहम्मद सिराज और शार्दुल ठाकुर से भी मदद मिल रही है। उन्होंने कहा, 'हम अपनी गेंदबाजी के कारण ही फाइनल में पहुंचे हैं। वे 20 विकेट लेने में सफल रहे हैं और उन्होंने हमारे लिए इतने सारे टेस्ट जीते हैं। वे फाइनल की चुनौती के लिए भी तैयार है।'

कीवी कोच गैरी स्टीड बोले, इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज खेलने से WTC फाइनल में ज्यादा फायदा नहीं होगा

संबंधित खबरें