फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटजैक क्रॉली ने अपने कोच को ही गलत साबित कर दिया, दो साल पहले मैकलम ने दिया था ये बयान

जैक क्रॉली ने अपने कोच को ही गलत साबित कर दिया, दो साल पहले मैकलम ने दिया था ये बयान

जैक क्रॉली ने अपने कोच ब्रैंडन मैकलम को ही गलत साबित कर दिया, क्योंकि दो साल पहले मैकलम ने कहा था कि क्रॉली कंसिस्टेंट प्लेयर नहीं हैं। वे इसके बाद से लगातार टीम के लिए रन बना रहे हैं।

जैक क्रॉली ने अपने कोच को ही गलत साबित कर दिया, दो साल पहले मैकलम ने दिया था ये बयान
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 13 Feb 2024 07:03 AM
ऐप पर पढ़ें

इंग्लैंड की टेस्ट टीम के हेड कोच ब्रैंडन मैकलम का एक बयान इन दिनों सुर्खियों में है, जो उन्होंने दो साल पहले दिया था। उन्होंने इंग्लैंड के एक खिलाड़ी को लेकर दावा किया था कि वह कंसिस्टेंट नहीं है, लेकिन अब वही खिलाड़ी टीम के लिए अहम बन चुका है। जी हां, इंग्लैंड की बैजबॉल के इस युग में जैक क्रॉली शीर्ष पर हैं। उन्होंने विशाखापट्टनम टेस्ट मैच की पहली पारी में 76 और दूसरी पारी में 73 रन बनाए थे। पहले मैच की दोनों पारियों में वे 51 रन बनाने में सफल हुए थे। 

2022 समर सीजन में ब्रैंडन मैकलम ने जैक क्रॉली को लेकर बयान दिया था, "वह कभी भी एक कंसिस्टेंट टाइप क्रिकेटर नहीं बन पाएगा।" उनके कहने का मतलब था कि वे ऐसे खिलाड़ी नहीं बन जाएंगे, जो लगातार टीम के लिए रन बनाए। उनका औसत उस सीजन में महज 23 का था। हालांकि, अब इस पर जैक क्रॉली ने पलटवार किया। पहले अपने प्रदर्शन से और अब अपने बयान से उन्होंने मैकलम को जवाब दिया। पहले पाकिस्तान और अब भारत में वे बैजबॉल के फ्लैग बीयरर हैं। 

उस बयान के बाद जैक क्रॉली ने पाकिस्तान के खिलाफ रावलपिंडी टेस्ट मैच में 122 और 50 रन की पारी खेली। इसके बाद दो अन्य मैचों में पाकिस्तान के खिलाफ और न्यूजीलैंड के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज में वे हर बार दोहरे अंकों तक पहुंचे। अब भारत के खिलाफ राजकोट में खेले जाने वाले दूसरे टेस्ट से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस रूम में जब क्रॉली को मैकलम के उस बयान के बारे में पूछा गया तो वे उन शब्दों को सुनकर मुस्कुरा दिए। 

सरफराज खान का टेस्ट डेब्यू कंफर्म, राजकोट में एक और युवा खिलाड़ी की भी चमकेगी किस्मत!

उन्होंने एक प्रासंगिक जवाब पेश किया और, "जब बाज(ब्रैंडन मैकलम) ने यह टिप्पणी की थी तब की तुलना में अब मैं बेहतर खिलाड़ी हूं, लेकिन मैं समझता हूं कि उन्होंने क्या कहा था।" पिछले समर सीजन की शुरुआत के बाद से क्रॉली 53.42 की औसत से 748 रन बनाकर टीम के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। भारत के खिलाफ अब तक चार पारियों में वे 200 रन बना चुके हैं और उनका औसत इस समय 50 का है।