DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

VIDEO: अनोखे तरीके से यॉर्कर की प्रैक्टिस कर रहे हैं भुवनेश्वर कुमार

भुवनेश्वर ने नेट्स पर स्टम्प के नीचे जूते रखकर अभ्यास किया ताकि दूसरे वनडे से पहले यॉर्कर परफेक्ट कर सके। बुमराह की तरह वह यॉर्कर नहीं फेंकते हैं।

Bhuvneshwar Kumar(Getty Images)

लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं खेलने से किसी भी गेंदबाज की लय बिगड़ सकती है और तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार को यह सबक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले वनडे में मिला जिसमें उन्होंने 66 रन दे डाले। टेस्ट टीम का हिस्सा रहे भुवनेश्वर को चार मैचों की सीरीज में प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिली। वह पहले वनडे में लय में नहीं दिखे। 

यह पूछने पर कि एक महीने तक प्रतिस्पर्धी क्रिकेट नहीं खेलने का असर हुआ है क्या? उन्होंने कहा ,''इसका असर मेरी लय पर पड़ा है। मैच लय गेंदबाजी में बिल्कुल अलग होती है। मैं नेट्स पर लय में गेंदबाजी की कोशिश कर रहा था।''

INDvsAUS, 2nd ODI: धौनी की खराब फॉर्म है टीम इंडिया की चिंता

भारतीय टीम के यॉर्कर विशेषज्ञ जसप्रीत बुमराह की गैर मौजूदगी में टीम प्रबंधन ने यह जिम्मेदारी नई गेंद के उनके जोड़ीदार भुवनेश्वर कुमार को सौंपी है। भुवनेश्वर ने नेट्स पर स्टम्प के नीचे जूते रखकर अभ्यास किया ताकि दूसरे वनडे से पहले यॉर्कर परफेक्ट कर सके। बुमराह की तरह वह यॉर्कर नहीं फेंकते हैं लेकिन स्लाग ओवरों में पिटाई से बचने के लिए इस पर मेहनत कर रहे हैं। 

 

INDvsAUS, 2nd ODI: एडिलेड वनडे में कुछ ऐसी हो सकती है भारत की प्लेइंग XI

उन्होंने कहा, ''यॉर्कर फेंकने के लिए अलग तरह के कौशल की जरूरत होती है। मैं जूतों पर यॉर्कर डालने का अभ्यास कर रहा था। स्लाग ओवरों में विकेट लेने और रन रोकने के लिए मैने यह अभ्यास किया।'' उन्होंने कहा कि टेस्ट मैच से बाहर रहने के दौरान वह यॉर्कर डालने का अभ्यास नहीं कर रहे थे क्योंकि पांच दिनी क्रिकेट में इस गेंद का इस्तेमाल अमूमन नहीं होता है।

VIDEO: एडिलेड वनडे के लिए टीम इंडिया ने कसी कमर, कुछ यूं बहाया पसीना

उन्होंने कहा, ''मैंने एक महीने तक इसका अभ्यास नहीं किया। टेस्ट में इसकी जरूरत नहीं होती और मैंने मैच नहीं खेला। वनडे और टी20 में इसकी जरूरत पड़ती है।''

उन्होंने कहा, ''मैच हालात से तुलना करने पर यह सौ फीसदी नहीं हो सकती। सिडनी में वह मैच लय नहीं थी लेकिन उतना बुरा भी नहीं था। यह बेहतर हो जाएगी। एक महीने से भुवनेश्वर काफी मेहनत कर रहे थे ताकि मैच लय हासिल कर सकें। 
    
उन्होंने कहा, ''मैं सामान्य गेंदबाजी कर रहा था और ओवर बढाता जा रहा था। शुरूआत में चार, फिर छह, फिर आठ और फिर 10 ओवर। भुवनेश्वर ने कहा कि सीरीज के दौरान पर सौ फीसदी फिट नहीं थे, लेकिन फिलहाल चोटमुक्त हैं। उन्होंने कहा, ''मैं फिट था लेकिन सौ फीसदी नहीं। टेस्ट मैच पांच दिन के होते हैं और मुझे नहीं पता था कि मैं पांच दिन खेल पाउंगा या नहीं। अच्छी बात यह थी कि हमारे पास गेंदबाज थे जो मेरी जगह ले सकते थे और मुझे सौ फीसदी फिट होने का समय मिला।''

केदार जाधव ने शेयर की ये तस्वीर, फैन्स बोले- हार्दिक-राहुल के जख्मों पर नमक!

भुवनेश्वर ने यह भी कहा कि अंबाती रायडू के एक्शन को संदिग्ध करार दिए जाने को लेकर टीम प्रबंधन चिंतित नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि महेंद सिंह धौनी को बल्लेबाजी क्रम में ऊपर भेजने की कोई बात नहीं हुई है। उन्होंने कहा, ''इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं धौनी को कहां बल्लेबाजी करते देखना चाहता हूं। अहम यह है कि टीम प्रबंधन क्या चाहता है। वह एक से 10 तक कहीं भी बल्लेबाजी कर सकते हैं। उनसे जहां भी कहा जाता है, वह अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं।"

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Bhuvneshwar Kumar Perfects His Yorker With a Unique Drill Watch Video