फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटन्यूजीलैंड के होते हुए भी अपने देश के लिए क्यों नहीं खेल पाए बेन स्टोक्स, रॉस टेलर ने किया खुलासा

न्यूजीलैंड के होते हुए भी अपने देश के लिए क्यों नहीं खेल पाए बेन स्टोक्स, रॉस टेलर ने किया खुलासा

न्यूजीलैंड के होते हुए भी अपने देश के लिए बेन स्टोक्स क्यों नहीं खेल पाए, इसका खुलासा कीवी टीम के पूर्व बल्लेबाज रॉस टेलर ने किया है और बताया है कि न्यूजीलैंड क्रिकेट बोर्ड इसके लिए तैयार नहीं था।

न्यूजीलैंड के होते हुए भी अपने देश के लिए क्यों नहीं खेल पाए बेन स्टोक्स, रॉस टेलर ने किया खुलासा
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 15 Aug 2022 01:08 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

न्यूजीलैंड में जन्मे ऑलराउंडर बेन स्टोक्स अपने देश के लिए नहीं खेल पाए, लेकिन उन्होंने विश्व कप फाइनल में इंग्लैंड के लिए ब्लैक कैप्स को हराने में मदद की थी। हालांकि, ऐसा नहीं था कि वे कभी कीवी टीम के लिए खेलना नहीं चाहते थे। स्टोक्स अपने देश के लिए खेलना चाहते थे और पूर्व बल्लेबाज रॉस टेलर ने भी उनकी वकालत की थी, लेकिन बोर्ड ने साफ कहा था कि पहले उनको घरेलू क्रिकेट खेलनी होगी। 

टेलर ने अपनी हाल ही में प्रकाशित पुस्तक, रॉस टेलर ब्लैक एंड व्हाइट में खुलासा किया है कि उन्होंने 2010 में इंग्लिश काउंटी डरहम के लिए उनके साथ खेलते हुए स्टोक्स के लिए आवाज उठाई थी। टेलर ने लिखा, "वह 18 या 19 वर्ष के थे और बहुत न्यूजीलैंडर ही थे। मैंने उससे पूछा कि क्या वह न्यूजीलैंड में आकर खेलना चाहते हैं। वह उत्सुक थे, इसलिए मैंने न्यूजीलैंड क्रिकेट के सीईओ जस्टिन वॉन को यह कहते हुए एक संदेश भेजा कि यह लड़का स्टोक्स वास्तव में एक अच्छा युवा क्रिकेटर है और न्यूजीलैंड के लिए खेलने में दिलचस्पी रखता है।"

हालांकि, वॉन ने टेलर को बड़ा ही साधारण सा जवाब दिया। उन्होंने लिखा, "वॉन ने उसी तर्ज पर जवाब दिया कि वह घरेलू क्रिकेट खेलना शुरू कर सकते हैं और हम देखेंगे कि यह कहां जाता है। मैं यह कहते हुए वापस गया कि हमें उससे अधिक की पेशकश करनी होगी, क्योंकि अगर सीढ़ी के निचले पायदान पर शुरू करने का मतलब है तो उसे कोई दिलचस्पी नहीं होगी। जाहिर है यह कुछ भी नहीं आया।"  

ये भी पढ़ेंः जब इंटरनेशनल क्रिकेट से आजाद हुए भारत के ये दो सितारे, एक सुनहरे दौर का हुआ था अंत

टेलर ने लिखा, "बेन स्टोक्स न्यूजीलैंड के लिए खेलने के बारे में ईमानदार थे, लेकिन NZC को तेजी से और निर्णायक रूप से कार्य करना था और उसे कुछ ठोस आश्वासन देना था, जो वॉन स्पष्ट रूप से करने के लिए तैयार नहीं थे।" स्टोक्स जब 12 साल के थे तो वे अपने पिता के साथ इंग्लैंड आ गए थे और वे डरहम के लिए घरेलू क्रिकेट खेले और फिर पूरी तरह इंग्लिशमैन बन गए। उनके पिता प्रोफेशनल लीग में कोचिंग करते थे।  

epaper