BCCI wants selectors take responsibility over poor selection of number 4 position in Team India - CWC 2019: 'चयनकर्ताओं को लेनी चाहिए टीम इंडिया की हार की जिम्मेदारी' DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

CWC 2019: 'चयनकर्ताओं को लेनी चाहिए टीम इंडिया की हार की जिम्मेदारी'

अधिकारी ने कहा, “जब भी टीम कोई टूर्नामेंट जीतती है तो चयनकर्ताओं को भी नगद पुरस्कार दिए जाते हैं, लेकिन जब हार की बारी आती है तो सिर्फ खिलाड़ियों की आलोचना की जाती है। चयनकर्ताओं का क्या होता है?

 msk prasad afp

ICC World Cup 2019: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) चाहता है कि चयन समिति नंबर-4 के बल्लेबाज की समस्या पर ध्यान दे और इसका निपटारा किया जाए। विश्व कप टीम के चयन के समय एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने नंबर-4 के लिए हरफनमौला खिलाड़ी विजय शंकर को चुना था, लेकिन टूर्नामेंट में इस नंबर पर लोकेश राहुल खेले। शिखर धवन के चोटिल होने के बाद राहुल सलामी बल्लेबाजी करने लगे और शंकर को नंबर-4 पर भेजा गया। कुछ मैचों के बाद शंकर भी चोटिल हो गए और चयनकतार्ओं ने मध्य क्रम के बल्लेबाज को भेजने के बजाए कनार्टक के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को इंग्लैंड भेजा। 

बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से कहा कि चयनकर्ताओं को भी टीम की हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए, क्योंकि जब टीम के अच्छे प्रदर्शन पर वह पुरस्कार के हकदार होते हैं तो टीम की हार की जिम्मेदारी भी उनकी बनती है। 

वर्ल्ड कप के बाद रायडू को लेकर छलका युवी का दर्द, जानें क्या कुछ कहा

अधिकारी ने कहा, “जब भी टीम कोई टूर्नामेंट जीतती है तो चयनकर्ताओं को भी नगद पुरस्कार दिए जाते हैं, लेकिन जब हार की बारी आती है तो सिर्फ खिलाड़ियों की आलोचना की जाती है। चयनकर्ताओं का क्या होता है?

अधिकारी ने कहा, “खासकर, चयन समिति के अध्यक्ष का क्या? वह लगभग सभी दौरों पर टीम के साथ जा रहे हैं। ऐसे में निश्चित है कि उन्होंने देखा होगा कि कहां सुधार की जरूरत है। नंबर-4 की जिम्मेदारी उनके जिम्मे होनी चाहिए क्योकि वही इसी नंबर के लिए तमाम बदलाव कर रहे थे।”

टीम इंडिया की विदाई पर नया 'मौका-मौका' विज्ञापन, VIDEO हुआ वायरल

टीम के चयन पर भी अधिकारी ने कहा, “जब एक सलामी बल्लेबाज चोटिल हुआ तो आपने एक मध्य क्रम के बल्लेबाज को भेजा। इसके बाद आपका मध्य क्रम का बल्लेबाज चोटिल हो जाता है तो आप उसके विकल्प के तौर पर सलामी बल्लेबाज को भेजते हैं। बात मायने नहीं रखती कि टीम प्रबंधन क्या चाहता है, फैसला चयनकतार्ओं के पास में रहता है। इससे एक और बड़ा सवाल खड़ा होता है कि चयनकतार्ओं के प्रदर्शन को कौन परखेगा?”

निराशाजनक बात यह है कि विश्व कप में चयन संबंधी खराब फैसलों के बाद भी प्रसाद, देवांग गांधी, गगन खोड़ा, जतिन प्रांजपई और सरनदीप सिंह अपने-अपने पदों पर बने रहेंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:BCCI wants selectors take responsibility over poor selection of number 4 position in Team India