DA Image
10 अप्रैल, 2020|1:27|IST

अगली स्टोरी

BAN vs ZIM Test Match: नागिन डांस सेलिब्रेशन के बाद मुशफिकुर बने 'डायनासोर', डबल सेंचुरी ठोकने के बाद ऐसे मनाया जश्न

'डायनासोर' की तरह सेलिब्रेट करने की एक खास वजह थी और मुशफिकुर ने तीसरे दिन के खेल के बाद बताया कि क्यों उन्होंने डबल सेंचुरी को इस तरह से सेलिब्रेट किया था।

mushfiqur rahim

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के सबसे सफल क्रिकेटरों में शुमार रहे मुशफिकुर रहीम ने जिम्बाब्वे के खिलाफ इकलौते टेस्ट मैच में नॉटआउट 203 रनों की पारी खेली। डबल सेंचुरी जड़ने के बाद मुशफिकुर रहीम का खास सेलिब्रेशन काफी चर्चा में है। मुशफिकुर ने मैच के तीसरे दिन सोमवार (24 फरवरी) को डबल सेंचुरी ठोकी और इसके बाद 'डायनासोर' सेलिब्रेशन करते हुए नजर आए। कुछ समय पहले मुशफिकुर रहीम का नागिन डांस सेलिब्रेशन भी काफी वायरल हुआ था। 'डायनासोर' की तरह सेलिब्रेट करने की एक खास वजह थी और मुशफिकुर ने तीसरे दिन के खेल के बाद बताया कि क्यों उन्होंने डबल सेंचुरी को इस तरह से सेलिब्रेट किया था।

वीरू ने शैफाली के लिए ट्वीट किया, तो फैन्स ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब

तीसरे दिन के खेल के बाद मुशफिकुर ने कहा, 'डबल सेंचुरी जड़ने के बाद मैंने अपने बेटे की नकल उतारने की कोशिश की थी। मेरे बेटे को डायनासोर बहुत पसंद हैं, मैं अपनी डबल सेंचुरी अपने बेटे को डेडिकेट करता हूं।' जिम्बाब्वे ने पहली पारी में 265 रन बनाए, जवाब में बांग्लादेश की टीम ने पहली पारी 6 विकेट पर 560 रनों पर घोषित की। यह टेस्ट मैच आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का हिस्सा नहीं है।

NZvIND: 2nd टेस्ट में इन तीन बड़े बदलावों के साथ उतर सकता है भारत

मुशफिकुर ने 318 गेंद पर 28 चौकों की मदद से 203 रनों की पारी खेली। इस पारी के साथ ही वो बांग्लादेश की ओर से सबसे ज्यादा टेस्ट रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए। मुशफिकुर ने इस दौरान तमीम इकबाल को पीछे छोड़ दिया। तमीम इकबाल के खाते में 4405 रन हैं, जबकि मुशफिकुर के खाते में अब 4413 रन हो चुके हैं। वहीं तीसरे नंबर पर 3862 रन के साथ शाकिब अल हसन हैं। तमीम इकबाल और मुशफिकुर के बीच अब बांग्लादेश की ओर से सबसे पहले 5000 टेस्ट रन तक पहुंचने की दौड़ होगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Bangladesh vs Zimbabwe Only Test Match Ban vs ZIM Jurassic celebration by Mushfiqur rahim inspired by his son