फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटविराट कोहली की तरह बाबर आजम कभी इतने लंबे समय तक बुरे दौर से नहीं गुजरेंगे, पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर ने बताया कारण

विराट कोहली की तरह बाबर आजम कभी इतने लंबे समय तक बुरे दौर से नहीं गुजरेंगे, पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर ने बताया कारण

जावेद ने कहा कि तकनीकी रूप से मजबूत बल्लेबाज जैसे बाबर आजम, केन विलियमसन और जो रूट शायद ही कभी कोहली की तरह इतने खराब पैच से गुजरेंगे। कोहली तकनीक में बदलाव के कारण इतना स्ट्रगल कर रहे हैं।

विराट कोहली की तरह बाबर आजम कभी इतने लंबे समय तक बुरे दौर से नहीं गुजरेंगे, पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर ने बताया कारण
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 13 Aug 2022 12:25 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

भारतीय पूर्व कप्तान विराट कोहली एशिया कप के जरिए क्रिकेट की फील्ड पर वापसी करने जा रहे हैं। इंग्लैंड दौरे के बाद कोहली ने बीसीसीआई से वेस्टइंडीज दौरे के लिए आराम मांगा था और वह आगामी जिम्बाब्वे दौरे पर भी टीम इंडिया का हिस्सा नहीं हैं। कोहली इस समय अपने करियर की सबसे खराब फॉर्म से गुजर रहे हैं जिसकी वजह से आए दिन क्रिकेट पंडित उनकी बैटिंग में खामिया निकालने के साथ-साथ तरह-तरह की सलाह देते रहते हैं। ऐसे में अब पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज आकिब जावेद का बड़ा बयान सामने आया है। उन्होंने बाबर आजम से कोहली की तुलना करते हुए बड़ा बयान दिया है।

IND vs ZIM: 'हमें हल्के में मत लो, हम भारत को हरा सकते हैं', सीरीज से पहले जिम्बाब्वे के कोच डेव ह्यूटन ने भरी हुंकार

Paktv.tv पर जावेद ने कहा कि तकनीकी रूप से मजबूत बल्लेबाज जैसे बाबर आजम, केन विलियमसन और जो रूट शायद ही कभी कोहली की तरह इतने खराब पैच से गुजरेंगे। जावेद को लगता है कि अपनी तकनीक में बदलाव करने की वजह से कोहली इतना स्ट्रगल कर रहे हैं। बता दें, कोहली को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतक लगाए हुए लगभग 1000 दिन होने वाले हैं।

पाकिस्तान के इस पूर्व खिलाड़ी ने कहा 'दो तरह के महान खिलाड़ी होते हैं। एक तो ऐसे खिलाड़ी हैं, जो अगर फंस जाते हैं, तो उनका रफ पैच लंबे समय तक बना रहता है। बाबर आजम, केन विलियमसन, जो रूट जैसे अन्य तकनीकी रूप से मजबूत खिलाड़ी हैं, जिनके रफ पैच इतने लंबे समय तक जारी नहीं रह सकते हैं। उनकी कमजोरी का पता लगाना मुश्किल है। कोहली कई बार ऑफ स्टंप के बाहर उन गेंदों पर फंस जाते हैं। जेम्स एंडरसन ने इसे एक लाख बार निशाना बनाया है।'

आधी रात को जिम्बाब्वे दौरे के लिए रवाना हुई भारतीय टीम, एयरपोर्ट पर सोते दिखे शिखर धवन

उन्होंने समझाया 'पिछले दिन मैं उसे बल्लेबाजी करते हुए देख रहा था और मुझे लगा कि वह अब जानबूझकर उन गेंदों को दूर से नहीं खेलने की कोशिश कर रहा है। जब आप अपनी तकनीक बदलते हैं, तो ये समस्याएं सामने आएंगी। इससे बाहर आने के लिए वह  बिना सचेत हुए बड़ी पारी खेलने की कोशिश कर सकते हैं। इससे उसे लंबे समय तक बैंगनी पैच बनाए रखने में मदद मिलेगी।'

epaper