DA Image
5 मार्च, 2021|12:50|IST

अगली स्टोरी

AUSvIND: इमोशनल हुए टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने कहा- 'कोच का क्या है, लड़के बाहर जाकर लड़ते हैं'

ravi shastri  instagram

टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री को मुंबई की भाषा में 'खड़ूस' कहा जाता है, यानी वह आम तौर पर अपने जज्बात जाहिर नहीं करते लेकिन भारत की युवा टीम की ऑस्ट्रेलिया पर शानदार जीत के बाद रवि शास्त्री भी अपने आंसुओं पर काबू नहीं रख सके। भारत की अंडर-25 टीम के 22 वर्षीय कप्तान के रूप में 1984 में शास्त्री ने टीम मैनेजर को मोहम्मद अजहरुद्दीन को उनके दादा की सेहत नासाज होने के बारे में बताने नहीं दिया था क्योंकि अजहर उस समय भारतीय टीम में जगह बनाने की दहलीज पर थे और शास्त्री नहीं चाहते थे कि मैच छोड़कर वह यह मौका गंवाए।

AUSvIND: 'ऋषभ पंत ने हमेशा के लिए कर दी आलोचकों की बोलती बंद'

वही शास्त्री गाबा का किला फतह होने के बाद हाथ में तिरंगा लेकर मैदान का चक्कर लगाते ऋषभ पंत, मोहम्मद सिराज और शार्दुल ठाकुर को देखकर भावुक हो गए। शास्त्री ने कहा, 'मैं भावुक हो गया। आम तौर पर मेरी आंख में आंसू नहीं आते लेकिन मैं भी भावुक हो गया।' उन्होंने कहा, 'मेरी आंखें भर आई क्योंकि यह अवास्तविक था। इन लड़कों ने जो किया, वह इतिहास में सबसे शानदार जीत में से एक के रूप में दर्ज हो जाएगा। कोरोना काल, खिलाड़ियों की चोटें और 36 रन पर आउट होने के बाद ऐसा प्रदर्शन।'

सिराज की वापसी पर हैदराबाद में होगा जश्न, भाई बोले- अब्बू का सपना पूरा

खिलाड़ियों को सारी सुर्खियां मिलने से क्या उन्हें लगता है कि श्रेय नहीं मिला, यह पूछने पर उन्होंने कहा, 'कोच का काम होता है लड़कों को मानसिक रूप से तैयार करना। उनका जो माइंडसेट है उसको क्लीयर करने के लिए। जास्ती (ज्यादा) पेचीदा करने की जरूरत नहीं और खेल सरल रखा तो काफी काम होता है।' उन्होंने कहा, 'और कोच का क्या। वो तो ड्रेसिंग रूम में बैठा रहता है। लड़के बाहर जाकर लड़ते हैं। कोई स्टेटमेंट का जरूरत नहीं। क्रिकेट बात करेगा।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Aus vs Ind 2020-21 India vs Australia Border Gavaskar Series Indian Team Head Coach Ravi Shastri Got emotional after Brisbane Gabba Victory