फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटअनिल कुंबले ने इंग्लैंड को दी ये बड़ी सलाह, बोले- आप इसे बैजबॉल कहो या अन्य कोई बॉल, लेकिन...

अनिल कुंबले ने इंग्लैंड को दी ये बड़ी सलाह, बोले- आप इसे बैजबॉल कहो या अन्य कोई बॉल, लेकिन...

भारतीय टेस्ट टीम के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले ने इंग्लैंड को बड़ी सीख देते हुए कहा है कि आप इसे बैजबॉल कहो या अन्य कोई बॉल, लेकिन आपको टेस्ट क्रिकेट में सिचुएशन के हिसाब से खेलना चाहिए। 

अनिल कुंबले ने इंग्लैंड को दी ये बड़ी सलाह, बोले- आप इसे बैजबॉल कहो या अन्य कोई बॉल, लेकिन...
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 10:45 AM
ऐप पर पढ़ें

टीम इंडिया ने सोमवार को रांची में इंग्लैंड को पांच विकेट से हराकर 5 टेस्ट मैचों की सीरीज में 3-1 से अपने नाम कर ली। सीरीज का एक मुकाबला बाकी है, लेकिन अजेय बढ़त भारत के पास है। सीरीज जीत के बाद अनिल कुंबले और आकाश चोपड़ा ने बैजबॉल और दोनों टीमों को लेकर विश्लेषण किया। अनिल कुंबले ने कहा है कि बैजबॉल हो या फिर अन्य कोई बॉल, आपको टेस्ट क्रिकेट में सिचुएशन के हिसाह से खेलना चाहिए। 

जियोसिनेमा और स्पोर्ट्स 18 के एक्सपर्ट अनिल कुंबल ने कहा, "जब इंग्लैंड यहां आया तो चुनौती स्पष्ट थी। बैजबॉल या आप इसे जो भी बॉल कहना चाहें, भारत में खेलना और यहां भारत को हराना कभी आसान नहीं होगा। भारत ने पिछले एक दशक में घरेलू मैदान पर कभी कोई सीरीज नहीं हारी है। वे (इंग्लैंड) जानते थे कि उन्हें अलग होना होगा, लेकिन उनका गेंदबाजी आक्रमण ऐसा नहीं था, जिसके बारे में उन्हें लगता था कि वह भारत की बैटिंग यूनिट को भेदने में सक्षम होंगे।"

उन्होंने आगे कहा, "रांची टेस्ट के अलावा बेन स्टोक्स, जॉनी बेयरस्टो और जो रूट सहित इंग्लैंड के सीनियर बल्लेबाजों ने लगातार योगदान नहीं दिया। कुछ महत्वपूर्ण क्षण थे, जिन्हें उन्होंने कुछ मौकों पर पकड़ा, लेकिन अन्य महत्वपूर्ण क्षणों को उन्होंने जाने दिया। यह कहना अच्छा है कि 'मैं इसी तरह बल्लेबाजी करता हूं', लेकिन आप हर समय ऐसी बल्लेबाजी नहीं कर सकते। तुमको क्रीज पर रुकना होगा। टेस्ट क्रिकेट में को परिस्थितियों के हिसाब से खेलना चाहिए और रूट ने इस (रांची) मैच में यही किया। कोई हैरानी वाली बात नहीं थी। इंग्लैंड को इस बारे में सोचना होगा।"

ये भी पढ़ेंः टीम इंडिया का टेस्ट सीरीज विनिंग मोमेंट वायरल, राहुल द्रविड़ और रोहित शर्मा के चेहरे पर थी अलग खुशी

सीरीज में बैजबॉल के प्रभाव पर आकाश चोपड़ा ने कहा, "पहले मैच ने सभी को आश्चर्यचकित कर दिया। हमने बैजबॉल के बारे में सुना था, लेकिन देखा नहीं था। टर्निंग पिच पर आप 190 रन से पीछे हैं और फिर आप स्वीप, रिवर्स स्वीप, रिवर्स हिट लगाते हैं और अचानक प्रतिक्रिया करते हैं, 'वाह, क्रिकेट इस तरह से खेला जा सकता है।' यही बैजबॉल से हमारा परिचय था। उसके बाद, इंग्लैंड ने खुद को कई बार ऐसी स्थितियों में पाया जहां से वे मैच बंद कर सकते थे। मुझे राजकोट मैच का जो रूट का शॉट याद है। पिछले दिन के खेल के आखिरी सत्र में इंग्लैंड पूरी तरह से हावी रहा। उसके बाद उन्हें बस मजबूत होने की जरूरत थी, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।"

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें