DA Image
5 दिसंबर, 2020|8:41|IST

अगली स्टोरी

50 साल के हुए अनिल कुंबले, ये रहे उनके करियर के शानदार पल

anil kumble  twitter

अपनी घूमती गेंदों से बड़े-बड़े से बल्लेबाजों को घुटने टेकने पर मजबूर कर देने वाले अनिल कुंबले आज 50 साल के हो गए हैं। कुंबले भारत के सबसे बेहतरीन गेंदबाजों में से एक रहे, वो भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट(619) लेने वाले गेंदबाज हैं। कुंबले इकलौते ऐसे भारतीय गेंदबाज हैं, जिन्होंने एक पारी के सभी 10 विकेट अपने नाम किए हैं। कुंबले ने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट की शुरुआत वनडे फॉर्मेट से साल 1990 में की थी। 18 साल भारत के लिए क्रिकेट खेलने के बाद कुंबले ने साल 2008 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। 

कुंबले ने शारजाह के मैदान पर साल 1990 में श्रीलंका के खिलाफ अपने करियर का आगाज किया था। उन्होंने एकदिवसीय क्रिकेट में 271 मैचों में 237 विकेट अपने नाम किए और उनका इकॉनमी भी महज 4.30 का रहा। कुंबले ने अपनी करिश्माई गेंदबाजी के दम पर टीम इंडिया को 50 ओवर के इस फॉर्मेट में कई मैचों में टीम दिलाने में अहम योगदान दिया। साल 1993 में खेले गए हीरो कप के मुकाबले में उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ जबर्दस्त गेंदबाजी करते हुए 6 विकेट अपने नाम किए और एक समय 101 पर 4 विकेट खोकर मजबूत नजर आ रही कैरेबियाई टीम की पारी को 123 रनों पर समेट दिया था। कुंबले के इस प्रदर्शन ने उनको इंटरनेशनल क्रिकेट में पहचान दिलाई थी और फिर आगे जो हुआ वो सब इतिहास बना गया। 

कुंबले वनडे में जितने कामयाब रहे उसी कई गुना कामयाबी उनको टेस्ट क्रिकेट में मिली, यही वजह है कि उनको एक शानदार गेंदबाजी के तौर जाना जाता है। कुंबले ने अपने टेस्ट करियर की शुरुआत साल 1990 में इंग्लैंड के खिलाफ की थी। क्रिकेट के इस सबसे लंबे फॉर्मेट में जंबो ने भारत को कई यादगार दिलाई। साल 1999 में फिरोजशाह कोटला के मैदान पर कुंबले ने वो करके दिखाया, जिसकी शायद किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी। पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए इस टेस्ट मैच की दूसरी पारी में सभी 10 विकेट अपने नाम किए थे। 420 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रही पाकिस्तान की टीम एक समय 101 पर बिना कोई विेकेट गंवाए खेल रही थी, लेकिन कुंबले ने एक के बाद पाकिस्तान के बल्लेबाजों को पवेलियन भेजने की शुरुआत की और पूरी टीम को अकेले ही ऑलआउट करके भारत को उस मैच में 212 रनों से जीत दिलाई। 

कुंबले एक टीम मैन थे, जो टीम के लिए हर परिस्थिती में खेलने के लिए तैयार रहते थे और टीम की जीत में योगदान देते रहते थे। साल 2002 में एंटिगा में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले गए टेस्ट मैच में बल्लेबाजी के दौरान गेंद उनके मुंह पर लगी थी और उनका जबड़ा टूट गया था, ऐसे में हर किसी ने यह मान लिया था कि कुंबले दूसरी पारी में गेंदबाज नही कर सकेंगे। कुंबले हर किसी को हैरत में डालते हुए दूसरी पारी में गेंदबाजी करने उतरे और उन्होंने 14 ओवर के स्पेल फेंकर ब्रायन लारा का विकेट भी चटकाया। क्रिकेट और टीम के प्रति उनके इस लगाव को देखकर हर कोई उनका फैन हो गया था। 

कुंबले उन तीन स्पिन गेंदबाजों में से एक हैं, जिन्होने टेस्ट क्रिकेट में 600 से ज्यादा विकेट अपने नाम किए है। कुंबले ने अपने करियर में खेले 132 टेस्ट मैचों की 236 पारियों में कुल 619 विकेट अपने नाम किए। कुंबले एक महान खिलाड़ी थे, उनकी उपलब्धियों को आप क्रिकेट के आंकड़ों के जरिए नहीं आंक सकते हैं। जिसने भी कुंबले को उनके करियर के दौरान खेलते देखा, वो उनका हमेशा ही फैन रहा। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Anil Kumble celebrating his 50th birthday this was his career best moments ferozshah kotla test match 1999 against pakistan