फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटअंपायर का फैसला बांग्लादेश पर पड़ा भारी, देना था चौका और दे दिया OUT; बाद में 4 रन से ही मैच हारी टीम

अंपायर का फैसला बांग्लादेश पर पड़ा भारी, देना था चौका और दे दिया OUT; बाद में 4 रन से ही मैच हारी टीम

फील्ड अंपायर का फैसला बांग्लादेश पर भारी पड़ गया। अंपायर को लेग बाई की चौका देना था, लेकिन अंपायर ने जब बल्लेबाज को आउट दे दिया तो गेंद डेड हो गई और इस तरह चौका खराब हो गया।  

अंपायर का फैसला बांग्लादेश पर पड़ा भारी, देना था चौका और दे दिया OUT; बाद में 4 रन से ही मैच हारी टीम
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 11 Jun 2024 06:56 AM
ऐप पर पढ़ें

न्यूयॉर्क में वैसे ही रन बनाना बल्लेबाजों के लिए मुश्किल है और अगर अंपायर की गलती की वजह से बल्लेबाज को चौका ना मिले तो ये और भी ज्यादा दुखद हो जाता है। इससे भी ज्यादा दुख तब होता है कि उन्हीं चार रनों का अंतर हार-जीत में हो। ऐसा ही कुछ टी20 वर्ल्ड कप 2024 में साउथ अफ्रीका वर्सेस बांग्लादेश मैच में हुआ। अंपायर ने लेग बाई का चौका देने की बजाय बल्लेबाज को lbw आउट दे दिया। इसका खामियाजा बांग्लादेश की टीम को भुगतना पड़ा, क्योंकि टीम को साउथ अफ्रीका के खिलाफ हार झेलनी पड़ी। 

दरअसल, बांग्लादेश की टीम 114 रनों के लक्ष्य का पीछा कर रहे थी। साउथ अफ्रीका की तरफ से 17वां ओवर ओटनील बार्टमैन लेकर आए। उन्होंने अपने ओवर की दूसरी गेंद महमदुल्लाह के लिए फेंकी। महदुल्लाह ने स्टंप्स पर पिच हुई गेंद पर फ्लिक करने की कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे और गेंद उनके पैड से लगकर फाइन लेग की बाउंड्री को पार कर गई। इससे पहले बार्टमैन ने lbw की अपील कर दी, क्योंकि ये मामला करीबी लग रहा था। अंपायर ने भी देर ना करते हुए अपनी उंगली उठा दी और बल्लेबाज को आउट दे दिया।

ये भी पढ़ेंः कामरान अकमल ने अर्शदीप को लेकर उड़ाया था सिख समाज का मजाक, हरभजन सिंह भड़के तो मांगी माफी 

बल्लेबाज ने DRS कॉल करते हुए थर्ड अंपायर से इस फैसले को रिव्यू कराया और पाया कि गेंद लेग स्टंप को छोड़ते हुए जा रही है। ऐसे में कायदे से ये बाई का चौका दिया जाना था, लेकिन अंपायर ने बल्लेबाज को आउट दे दिया था तो गेंद डेड हो चुकी थी और वह चौके के लिए जाए या फिर छक्के के लिए इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। हालांकि, इससे हार-जीत पर फर्क जरूर पड़ा, क्योंकि इतने ही रनों के अंतर से बांग्लादेश को हार मिली। अगर अंपायर ने lbw आउट नहीं दिया होता और वह चौका होता तो मैच का नतीजा इसके उलट भी हो सकता था। 

आईसीसी के सामने अब सवाल ये है कि इस तरह के मसलों से कैसे बचा जाए, क्योंकि अगर ये पारी की आखिरी गेंद होती और उस समय ये निर्णय लिया जाता तो निश्चित तौर पर बांग्लादेश का घाटा हो जाता। आईसीसी को इस तरह के फैसलों के लिए कुछ करना होगा। अगर टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल हो रहा है तो फील्ड अंपायर को इस तरह के फैसले देने से रोका जा सकता है, ताकि किसी टीम का कोई नुकसान ना हो। इस फैसले के लिए अंपायरों को दर्शकों ने जमकर बू किया।