फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटअगर ये जानबूझकर किया तो बेवकूफी थी...अंबाती रायडू वर्ल्ड कप फाइनल की पिच को लेकर यह क्या कह गए

अगर ये जानबूझकर किया तो बेवकूफी थी...अंबाती रायडू वर्ल्ड कप फाइनल की पिच को लेकर यह क्या कह गए

Ambati Rayudu on World Cup 2023 Final Pitch: भारतीय टीम के पूर्व बल्लेबाज अंबाती रायडू ने वर्ल्ड कप 2023 फाइनल की पिच की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि फाइनल जैसा मैच उस तरह की पिच पर नहीं होना चाहिए।

अगर ये जानबूझकर किया तो बेवकूफी थी...अंबाती रायडू वर्ल्ड कप फाइनल की पिच को लेकर यह क्या कह गए
Md.akram लाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 25 Nov 2023 04:08 PM
ऐप पर पढ़ें

भारतीय टीम को हाल ही में आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया के हाथों 6 विकेट से हार मिली। भारत ने अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में 241 का टारगेट रखा, जिसे ऑस्ट्रेलिया ने आसानी से 43 ओवर में आसानी से चेज कर लिया। भारतीय खिलाड़ियों को स्लो पिच पर काफी जूझना पड़ा। उसके बल्लेबाज और गेंदबाज असरदार साबित नहीं हुए। बता दें कि भारत ने लगातार 10 मैच जीतकर खिताबी मुकाबले में एंट्री की थी मगर टीम आखिरी पड़ाव पार नहीं कर सकी। अहमदाबाद की पिच की कई पूर्व क्रिकेटर्स और एक्सपर्ट आलोचना कर चुके हैं। अब इस कड़ी में भारत के पूर्व बल्लेबाज अंबाती रायडू का नाम भी जुड़ गया है।

रायडू का मानना है कि अहमदाबाद में फाइनल के लिए इस्तेमाल की गई पिच इतने बड़े मैच के लिए उपयुक्त नहीं थी। उन्होंने कहा कि फाइनल जैसा मुकाबला इतने धीमी विकेट पर नहीं खेला जाना चाहिए था। रायडू ने द रणवीर शो में कहा, ''फाइनल के लिए विकेट बहुत स्लो था। मुझे नहीं पता कि यह किसका आइडिया था। मुझे लगता है कि यहां एक सामान्य पिच भी काम कर सकती थी क्योंकि हम ऑस्ट्रेलियाई टीम की तुलना में कहीं अधिक मजबूत थे। हमें फाइनल में उतना सब करने की जरूरत नहीं थी। सिर्फ एक अच्छा क्रिकेट विकेट होना चाहिए था, जो दुर्भाग्य से नहीं था।''

ऑस्ट्रेलिया के कप्तान पैट कमिंस ने फाइनल में टॉस जीतकर बॉलिंग चुनी थी। भारत को पहले बल्लेबाजी के लिए उतरना पड़ा। कप्तान रोहित शर्मा ने बताया था कि उन्हें पहले बल्लेबाजी ही करनी थी। हालांकि, अहमदाबाद की पिच दूसरी पारी में बैटिंग के लिए ज्यादा बेहतर हो गई, जिसका फायदा कंगारुओं को मिला। रायडू ने कहा, ''लोगों ने सोचा कि इस तरह का विकेट तैयार करके वे भारतीय टीम की मदद कर रहे हैं। लेकिन हम एक ऐसे विकेट पर फंस गए जो काफी स्लो था। मुझे नहीं लगता कि ऐसा होना चाहिए। एक अच्छा क्रिकेटिंग विकेट होना चाहिए था। हमारे पास किसी भी टीम को शिकस्त देने के लिए कौशल और ताकत है। पूरे 100 ओवरों तक पिच का एक जैसा रहना सीमित ओवरों के मैच में एक आइडियल सिनेरियो है। टॉस इतना मायने नहीं रखना चाहिए।"

रायडू ने आगे कहा कि अगर वर्ल्ड कप फाइनल की पिच भारत को फेवर करने के लिए तैयार की गई थी तो यह अक्लमंदी वाला फैसला नहीं था। उन्होंने कहा, ''मुझे नहीं पता कि किसी ने इसके बारे में सोचा है या जानबूझकर ऐसा किया। अगर उन्होंने ऐसा जानबूझकर किया तो यह बेवकूफी थी। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन्होंने ऐसा किया होगा।" रायडू ने रोहित ब्रिगेड वर्ल्ड कप में खेलने वाली सबसे मजबूत भारतीय टीम करार दिया। उन्होंने कहा, ''कभी-कभी ऐसी चेजीं होती हैं मगर मुझे लगता है कि यह सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम है, जिसे मैंने वर्ल्ड कप में खेलते देखा। 2011 वर्ल्ड कप वाली भारतीय टीम स्किल फैक्टर और एक्सपीरियंस के लिहाज से इससे बेहतर टीम थी, लेकिन मैंने अब तक जितने भी वर्ल्ड कप देखे हैं उनमें इस टीम ने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया।''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें