DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ICC World Cup 2019: अफगानी लड़ाके भारत में तैयारी कर छाने को तैयार

2018 में अफगान टीम ने देहरादून के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को चुना। यहां बांग्लादेश के खिलाफ तीन टी -20 मैचों की सीरीज खेली।

Rashid Khan (PTI)

2009 में पहला अंतरराष्ट्रीय वनडे खेलने के बाद से अफगानिस्तान टीम का सफर धमाकेदार रहा है। वर्ल्ड कप (ICC World Cup 2019) खेलने वाली टीमों के बीच यह सबसे युवा सदस्य धुरंधरों को धूल चटाने का माद्दा रखता है। अफगान टीम की सफलता में भारत का भी बड़ा हाथ है। बीते चार साल से भारत में होम ग्राउंड बनाकर खेल रहे अफगानिस्तान ने अपने खेल में जबरदस्त सुधार किया है। वर्ल्ड कप में अफगानी लड़ाके बड़ा उलटफेर करने को तैयार हैं।

अफगानिस्तान के लिए 45 क्रिकेटर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल चुके हैं। मगर अफगानिस्तान में खेल सुविधाएं न होने और सुरक्षा कारणों से अफगान टीम ने बीसीसीआई से भारत में होम ग्राउंड बनाने की इजाजत मांगी थी। 2015 में ग्रेटर नोएडा का शहीद विजय सिंह पथिक स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स उनका होम ग्राउंड बना। जूनियर टीम के साथ अफगानी क्रिकेटरों ने यहां क्रिकेट की बारीकियां सीखीं। यहां 2017 में आयरलैंड के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय टी -20 और वनडे मैच खेले।

टीम जानती है मैं काम का हूं और यही बात मायने रखती है: विजय शंकर

2018 में अफगान टीम ने देहरादून के राजीव गांधी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम को चुना। यहां बांग्लादेश के खिलाफ तीन टी -20 मैचों की सीरीज खेली। 2019 में आयरलैंड के साथ तीन टी -20, पांच वनडे और एक टेस्ट भी यहां खेला।

अब लखनऊ की तैयारी: पूर्ण सदस्य का दर्जा मिलने के बाद अफगानिस्तान को बड़े होम ग्राउंड की दरकार है, ताकि वह ऑस्ट्रेलिया सरीखी बड़ी टीमों की मेजबानी कर सके। इसके लिए उसकी लखनऊ में इकाना स्टेडियम के लिए बात जारी है।

बेंगलुरु में अभ्यास शिविर: वर्ल्ड कप के लिए अफगान टीम ने इस साल बेंगलुरु में जनवरी-फरवरी में विशेष कैंप लगाया था। फिर देहरादून में फरवरी-मार्च महीने में सीरीज खेली। फरवरी में दून में ठंड में अफगान टीम ने खुद को इंग्लैंड के माहौल के मुताबिक ढालने के साथ तेज और उछाल लेती पिचों पर प्रैक्टिस की थी।

एशिया कप 2018 में अफगानिस्तान ने दिग्गज टीमों को चौंकाया था।महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी वाली भारतीय टीम को अफगानिस्तान के खिलाफ मैच टाई खेलना पड़ा था। तब मोहम्मद शहजाद ने धमाकेदार 124 रन की पारी खेली थी। अफगान टीम ने श्रीलंका को 91 रन से हरा बड़ा उलटफेर किया। बांग्लादेश के खिलाफ एशिया कप में ही अफगान टीम 136 रन से जीतने में सफल रही थी।

ICC World Cup 2019: गौतम गंभीर ने नंबर 4 के लिए इस खिलाड़ी को बताया सबसे फिट

अफगानिस्तान के पास अच्छे स्पिनर हैं। इंग्लैंड में अगर किसी दिन गेंद स्पिन ले रही हो तो फिर वे शीर्ष टीमों को शिकार बना सकते हैं। उनकी बल्लेबाजी थोड़ी कमजोर है। शहजाद मैच का रुख बदल सकते हैं- लालचंद राजपूत, पूर्व कोच।

हमारी टीम चार महीने से अलग परिस्थितियों में अभ्यास कर रही है। इतिहास गवाह है कि अफगानी कुछ भी कर सकते हैं। 10 साल से हमने जो सुधार किया है, वो सबके सामने है। हम किसी को भी हरा सकते हैं-  असदुल्लाह खान, एसीबी के सीईओ।

ग्रेटर नोएडा ओर देहरादून में बनाए होम ग्राउंड
एशिया कप: भारत को चौंकाया, श्रीलंका को पीटा
113 मैच अफगान टीम ने खेले। 58 जीते 50 हारे, एक टाई, दो बेनतीजा।
10 मैच भारत में कुल खेले, पांच जीते, चार हारे, एक बेनतीजा।
10 साल पूर्व पहला अंतरराष्ट्रीय वनडे खेला था इस टीम ने।

मैदान के महारथी

राशिद खान (मैच: 57, रन: 782 विकेट: 123)
विश्व के शीर्ष वनडे ऑलराउंडर राशिद खान अफगान टीम में तुरुप का पत्ता हैं। उनकी गेंदबाजी का कायल हर कोई है। कैसी भी पिच हो, राशिद को खेलना बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं। अंतिम ओवरों में वह काफी खतरनाक गेंदबाजी करते हैं। बल्लेबाजी में भी राशिद बड़े शॉट खेलने में माहिर हैं।

हजरतुल्लाह जजाई (मैच: 7, रन: 169 पचासा: 1)
बाएं हाथ के ओपनर हजरतुल्लाह ने फरवरी 2019 में देहरादून में टी -20 मैच में आयरलैंड के खिलाफ विस्फोटक बल्लेबाजी कर सुर्खियां बटोरी थीं। उनके दम पर अफगानिस्तान ने टी -20 में सर्वाधिक स्कोर का रिकॉर्ड बनाया। वह पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने वाले बल्लेबाज भी बने थे। 

मोहम्मद नबी
नबी विश्व के तीसरे बेहतरीन ऑलराउंडर हैं। वह अफगान टीम की शुरुआत से लगातार 111 अंतरराष्ट्रीय वनडे में प्लेइंग इलेवन का हिस्सा रहे।वह किसी भी स्थिति में बल्लेबाजी कर सकते हैं। नबी अंतिम ओवरों में लंबे हिट लगाने में माहिर हैं। वह दाएं हाथ से खतरनाक स्पिन गेंदबाजी कर दिग्गज बल्लेबाजों को भी चकमा दे देते हैं।

ICC World Cup 2019: जिम नहीं, योगा है क्रिस गेल की फिटनेस का असली राज

दौलत जादरान
दाएं हाथ के तेज गेंदबाज दौलत विपक्षी टीमों के लिए चुनौती बन सकते हैं। 2018 में दौलत ने क्रिकेट वर्ल्ड कप क्वालिफायर अभ्यास मैच में वेस्टइंडीज के खिलाफ हैट्रिक लगाई थी। दौलत अपनी तेजी के साथ ही स्विंग लेती गेंदों से किसी भी बल्लेबाजी क्रम को ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं। ।

असगर अफगान
पूर्व कप्तान असगर अनुभवी बल्लेबाज हैं। वह विपरीत परिस्थितियों में टीम को संकट से उबारने की क्षमता रखते है। देहरादून में आयरलैंड के खिलाफ वनडे मैचों में शीर्षक्रम के ढहने पर हर मैच में उन्होंने ठोस साझेदारियां कर टीम को मजबूत स्कोर तक पहुंचाया था।

गुलबदीन नैब (कप्तान) मैच: 53, रन: 807, अर्धशतक: 5, विकेट: 43
वर्ल्ड कप के लिए जब 28 साल के गुलबदीन को कप्तानी सौंपी गई तो विरोध के कुछ सुर उनके खिलाफ थे। पर अब सभी ने उन्हें स्वीकार कर लिया है। दाएं हाथ के मीडियम पेसर नैब इंग्लैंड के माहौल में बेहतरीन गेंदबाज साबित हो सकते हैं। वह निचले क्रम में अच्छी बल्लेबाजी भी करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:afghanistan cricket team preparing in india for icc world cup 2019