ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़Saja Result 2023: मंत्री रविंद्र चौबे पर भारी पड़ा आम आदमी, 5297 वोट‌ से भाजपा के ईश्वर साहू की‌ जीत

Saja Result 2023: मंत्री रविंद्र चौबे पर भारी पड़ा आम आदमी, 5297 वोट‌ से भाजपा के ईश्वर साहू की‌ जीत

साजा सीट पर अब परिणाम सामने आ गए हैं 7वीं बार जीत का परचम लहराने की उम्मीद इस बार रविंद्र चौबे की पूरी नहीं पाई है। बीजेपी उम्मीदवार ईश्वर साहू ने मंत्री चौबे को 5297 वोट से हराकर विधायक बने हैं।

Saja Result 2023: मंत्री रविंद्र चौबे पर भारी पड़ा आम आदमी, 5297 वोट‌ से भाजपा के ईश्वर साहू की‌ जीत
Aditi Sharmaलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 03 Dec 2023 09:26 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ की 90 विधानसभा सीटों में एक सीट ऐसी है जहां चुनावी शोरगुल की आवाज भले ही ना सुनाई दे रही हो लेकिन नतीजों पर हर किसी की नजर है। हम बात कर रहे हैं बेमेतरा जिले के साजा विधानसभा क्षेत्र की जहां से कांग्रेस के मंत्री रविंद्र चौबे चुनावी मैदान में थे। उनके सामने बीजेपी ने ईश्वर साहू को खड़ा किया। ये वही ईश्वर साहू हैं जिनके बेटे भुवनेश्वर साहू की बिरनपुर गांव में भड़की सांप्रदायिक हिंसा के दौरान मौत हो गई थी। रविंद्र चौबे इस सीट से 6 बार के विधायक रह चुके हैं। जिन्हे ईश्वर साहू ने 5297 वोटों से हरा दिया है।

छत्तीसगढ़ की साजा विधानसभा सीट पर नतीजा अब साफ हो गए हैं। यहां से कांग्रेस पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा है प्रदेश की भूपेश सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस के प्रत्याशी रविंद्र चौबे भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी ईश्वर साहू से 5297 वोटो से हार गए हैं। भाजपा के प्रत्याशी ईश्वर साहू को 1 लाख 1339 वोट मिले है। वहीं कांग्रेस के प्रत्याशी रविंद्र चौबे को 96 हजार 42 वोट मिले हैं। वहीं तीसरे स्थान पर इंडिपेंडेंस उम्मीदवार सुनील कुमार रहे जिन्हें 2874 वोट मिले हैं।

इस सीट पर एक तरफ रविंद्र चौबे हैं जो  7वीं बार जीत का  परचम लहराने की उम्मीद कर रहे हैं तो वहीं दूसरी बीजेपी उम्मीदवार ईश्वर साहू हैं, जिनका कोई पॉलिटिकल बैकग्राउंड नहीं है लेकिन फिर जीत के लिए आश्वस्त हैं। उनका दावा है कि उन्हें हिंदुत्व को जगाने के लिए बीजेपी की ओर टिकट मिला है और उनका एक ही लक्ष्य है जो भुवनेश्वर साहू के साथ हुआ वो और किसी के साथ ना हो।

रविंद्र चौबे कांग्रेस नेता होने के साथ-साथ एलएलबी ग्रेजुएट भी हैं। उन्होंने कृषि कॉलेज की स्थापना, महाविद्यालय की स्थापना और देवकर को तहसील का दर्जा दिलवाने समेत कई क्षेत्रीय विकास कार्य किए हैं। साल 2018 के विधानसभा चुानवों में उन्होंने बीजेपी के बाफना को बड़े अंतर से हराया था। दरअसल ये सीट हमेशा से कांग्रेस का गढ़ रही है। 2013 के विधानसभा चुनावों को छोड़कर कांग्रेस हर बार इस सीट से जीत हासिल करती आई है। लेकिन साल 2023 के चुनाव में रविद्र चौबे चुनाव हार गए हैं।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें