ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में आरक्षण पर फिर सियासत शुरू, सांसद सुनील सोनी ने सीएम बघेल को कहा मानसिक रोगी

छत्तीसगढ़ में आरक्षण पर फिर सियासत शुरू, सांसद सुनील सोनी ने सीएम बघेल को कहा मानसिक रोगी

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से सांसद सुनील सोनी ने इस पूरे चुनाव में ठंडा बस्ते में रहा आरक्षण संशोधन विधेयक को लेकर एक बार फिर मुद्दा बनाते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर सीधा आरोप लगाया है।

छत्तीसगढ़ में आरक्षण पर फिर सियासत शुरू, सांसद सुनील सोनी ने सीएम बघेल को कहा मानसिक रोगी
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरTue, 28 Nov 2023 07:48 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में एक बार फिर से आरक्षण संशोधन विधेयक को लेकर राजनीति छिड़ गई है। रायपुर सांसद सुनील सोनी ने आरक्षण संशोधन बिल को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधा है। सांसद सोनी ने कहा कि मुख्यमंत्री नहीं चाहते थे कि आदिवासी,अनुसूचित जाति या पिछड़ा वर्ग के लोगों को न्याय मिले। सोनी ने आरोप लगाया कि बिल को इन्होंने बहुमत के आधार पर पारित किया और राज्यपाल से कभी इस विषय पर चर्चा नहीं की।  उन्होंने कहां की छत्तीसगढ़ एक ऐसा राज्य है जहां पर एक आदिवासी बहन जो राज्यपाल थी, जिनको लेकर सार्वजनिक बयानबाजी की गई। उनके पद का सम्मान नहीं किया गया। सोनी ने कहा कि राज्यपाल वह हैं जो मुख्यमंत्री को शपथ दिलाने और उनको कुर्सी में बैठाते हैं लेकिन इन्होंने उनके पद का भी सम्मान नहीं किया। लगातार राज्यपाल और राजभवन पर उंगलियां उठने का इन्होंने काम किया है‌। सुनील सोनी ने कहा कि मैं इसको अपमान भी मानता हूं और अपराध भी। उन्होंने कहा कि हमेशा बातचीत और चर्चाओं का दरवाजा खुला रहता है लेकिन इन्होंने इस रास्ते को अपना सार्वजनिक बयान बाजी का अड्डा बना लिया था। आज छत्तीसगढ़ इस मामले में शर्मसार है और पूरा देश इस बात की निंदा कर रहा है। 


सोनी बोले पागलपन के शिकार हुए भूपेश बघेल

वही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के द्वारा महापुरुष वाले बयान पर सांसद सुनील सोनी ने पलटवार करते हुए कहा कि भूपेश बघेल जी पागलपन के शिकार हो गए हैं और मानसिक रोग से ग्रस्त हैं। उन्होंने कहा कि हिंदी बड़ी वृहद भाषा होती है और पद की अपनी गरिमा होती है। जब नासमझ लोग एक हिंदी के विकृत स्वरूप को अगर आत्मसात करते हैं तो इसी तरीके से उनके मुंह से शब्द निकलते हैं। सांसद सुनील सोनी के आरोपों का सिलसिला यहीं नहीं रुका उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को लेकर कहा कि जब संकीर्ण सोच हो जाती है तो इस प्रकार की सोच से इस प्रकार के शब्द निकलते हैं यह बेहद ही निंदनीय है।

मतगणना के दिन निष्पक्षता दिखाएं अधिकारी

अधिकारियों पर लग रहे लगातार आरोपों को लेकर सांसद सुनील सोनी ने सवाल खड़े करते हुए कहा कि अधिकारियों से हमेशा कहा गया है कि चुनाव निष्पक्ष होता है। निष्पक्षता के साथ अपनी भूमिका का निर्वहन करना चाहिए क्योंकि सरकारें आती जाती रहती हैं। उन्होंने कहा कि इस चुनाव का फैसला जनता के बीच छोड़ देना चाहिए कि सरकार किसकी बन रही है, इसके अंदर की भागीदारी नहीं निभाना चाहिए। सांसद सुनील सोनी ने कहा कि मैं अधिकारियों से आग्रह करता हूं कि अपनी निष्पक्ष भूमिका को 3 तारीख यानी मतगणना के दिन निभाएं और अच्छी मतगणना हो इस पर सहयोग करें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें