ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ छत्तीसगढ़ट्रेन कैंसिल होने से जनता परेशान, मंत्री रविंद्र चौबे बोले- छत्तीसगढ़ में BJP के 10 सांसद, PM को चिट्ठी लिखने में हाथ कांपते हैं

ट्रेन कैंसिल होने से जनता परेशान, मंत्री रविंद्र चौबे बोले- छत्तीसगढ़ में BJP के 10 सांसद, PM को चिट्ठी लिखने में हाथ कांपते हैं

छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने मोदी सरकार और भाजपा नेताओं पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में BJP के 10 सांसद हैं, लेकिन दुर्भाग्य है कि वे केंद्र सरकार से बात भी नहीं कर सकते।

ट्रेन कैंसिल होने से जनता परेशान, मंत्री रविंद्र चौबे बोले- छत्तीसगढ़ में BJP के 10 सांसद, PM को चिट्ठी लिखने में हाथ कांपते हैं
Sandeep Diwanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरFri, 24 Jun 2022 07:18 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

रेलवे द्वारा यात्री ट्रेनों को कैंसिल करने, डीजल की कमी और बिजली के मुद्दे पर छत्तीसगढ़ के कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने मोदी सरकार और भाजपा नेताओं पर निशाना साधा। मंत्री चौबे ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के 10 सांसद हैं, लेकिन दुर्भाग्य है कि वे केंद्र सरकार से बात भी नहीं कर सकते। प्रधानमंत्री को एक चिट्ठी लिखने पर उनके हाथ और कलम कांपते हैं। छत्तीसगढ़ के साथ इस तरह का अन्याय किया जा रहा है। केंद्र की सरकार हर मुद्दे पर पूरी तरह असफल है। राज्य के भाजपा सांसदों को केंद्रीय मंत्रियों और प्रधानमंत्री से इस मुद्दों पर आग्रह करना चाहिए।

मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि देश में बिजली, डीजल और कोयले का संकट पैदा कर दिया गया है। हजारों यात्री ट्रेनें निरस्त कर दी गई है। लोगों को कितनी परेशानी हो रही है। इसका अंदाजा भारतीय जनता पार्टी व केंद्र सरकार को नहीं है। यह उसी तरह से हो रहा है, जैसे कोरोनाकाल में सभी ट्रेनों को बंद कर किया गया था। लोग पैदल अपने घरों को निकल गए थे और कई श्रमिकों को रास्ते में अपनी जान गंवानी पड़ी। यह देश का दुर्भाग्य है कि केंद्र की सरकार समय रहते इन सारी चीजों को ठीक नहीं कर पा रही है।

फरवरी से लगातार ट्रेनों को कैंसिल कर रहे 
बता दें कि रेलवे ने सबसे पहले फरवरी-2022 में विकास कार्य के बहाने 23 यात्री ट्रेनों को एक माह के लिए रद्द किया। फिर मार्च में 10 ट्रेनों को कोयला परिवहन के नाम से कैंसिल किया। अप्रैल और मई तक कोयला संकट के बीच 50 से ज्यादा ट्रेनें कैंसिल की गई। 17 व 18 जून को तीसरी लाइन के काम के चलते 2 दिनों में 36 पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनों को रद्द किया गया है। अब 23 जून को फिर आदेश जारी कर 34 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है। अफसर ट्रेनों को कैंसिल करने के पीछे रेलवे बोर्ड के आदेश का हवाला दे रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक कोयला परिवहन की वजह से ट्रेनों को रद्द किया गया है।

epaper