ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ छत्तीसगढ़25 हाथियों के झुंड से दर्जनभर गांवों में दहशत, एक ग्रामीण को कुचलकर मार डाला, धान और मक्के की फसल चौपट 

25 हाथियों के झुंड से दर्जनभर गांवों में दहशत, एक ग्रामीण को कुचलकर मार डाला, धान और मक्के की फसल चौपट 

छत्तीसगढ़ में हाथियों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के राजपुर वन परिक्षेत्र में 2 हाथियों ने एक ग्रामीण को कुचलकर मार डाला। इलाके में 25 हाथियों की मौजूदगी से दहशत हैं।

25 हाथियों के झुंड से दर्जनभर गांवों में दहशत, एक ग्रामीण को कुचलकर मार डाला, धान और मक्के की फसल चौपट 
Sandeep Diwanलाइव हिन्दुस्तान,अंबिकापुरFri, 09 Sep 2022 09:42 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में हाथियों का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के राजपुर वन परिक्षेत्र के दुप्पी जंगल में गुरुवार को 2 हाथियों ने एक ग्रामीण को कुचलकर मार डाला। राजपुर के अलखडीहा जंगल में 25 हाथियों का दल विचरण कर रहा हैं। हाथियों के दल ने 5 दिनों में धान और मक्के की 15 हेक्टेयर फसल को चौपट कर दिया है। डीएफओ विवेकानंद झा ने अधिकारियों के साथ मौके पर पहुंचकर ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने का अलर्ट जारी कराया है। हाथियों की निगरानी के लिए वन कर्मियों की ड्यूटी भी लगाई गई है।

मिली जानकारी के अनुसार अलग-अलग 2 हाथियों का दल एक सप्ताह से राजपुर क्षेत्र में विचरण कर रहा है। पहले दल में 2 दंतैल हाथी दुप्पी जंगल में विचरण कर रहे थे। हाथियों ने गुरुवार की सुबह लगभग 7.30 बजे जंगल में ग्राम दुप्पी निवासी 45 वर्षीय बिंदेश्वर गोड़ पिता रामसाय गोड़ को कुचलकर मार डाला। मृतक विक्षिप्त था। घटना की सूचना पर डीएफओ विवेकानंद झा, एडीएफओ अशोक कुमार तिवारी, रेंजर महाजन लाल साहू, डिप्टी रेंजर आरपी राही ने घटना स्थल पर पहुंचकर जानकारी ली। ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने की हिदायत दी गई है। 

25 हाथियों का दल विचरण कर रहा 
25 हाथियों का दल करवा, गोपालपुर, माकड़ होते हुए राजपुर सर्किल के अलखडीहा पहुंचा है। 2 दिनों से इस दल ने करीब 10 हेक्टेयर में लगी धान और मक्का की फसल को नुकसान पहुंचाया है। 25 हाथियों के दल में 10 शावक, 10 मादा व 5 नर हैं। हाथियों के उत्पात से दुप्पी, सेवारी, बभनी, जिगड़ी, पस्ता, बासेन, उलिया, उफिया, माकड़, जोताड़, जगिमा, पटना, करवा, गोपालपुर, कर्रा, झिंगो, मुरका, रेवतपुर, जामदोहर, खोखनिया, कुंदीखुर्द, बदौली आदि प्रभावित क्षेत्र हैं। वनकर्मी मौके पर पहुंचकर गजवाहन से हाथियों से दूर रहने के लिए लाउडस्पीकर से अनाउंस कर रहे हैं। 

हाथियों से दूर करने गांवों में मुनादी 
उप वनमंडलाधिकारी अशोक तिवारी ने बताया कि ग्रामीणों को हाथियों से दूर रहने अलर्ट जारी किया गया है। हाथियों की मौजूदगी वाले जंगल में ग्रामीणों को नहीं जाने की मुनादी कराई जा रही है। मृतक के परिजनों को तात्कालिक सहायता राशि 25 हजाए रुपये दिए गए हैं। मुआवजा प्रकरण के बाद में 5 लाख 75 हजाए रुपये और दिए जाएंगे। ग्रामीणों को टॉर्च, मिर्च पाउडर, टायर, मशाल और पैम्फलेट प्रदान किए गए हैं। जिन किसानों की फसल को हाथियों से नुकसान पहुंचाया है, उनका मुआवज़ा प्रकरण तैयार करने के निर्देश जारी किए गए हैं। (रिपोर्ट: मनोज कुमार)