ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़महादेव ऐप मामला: जिस असीम दास के बयानों से बढ़ा था सूबे का सियासी ताप, उसके पिता की लाश मिली

महादेव ऐप मामला: जिस असीम दास के बयानों से बढ़ा था सूबे का सियासी ताप, उसके पिता की लाश मिली

Mahadev App Scam: महादेव सट्टेबाजी ऐप घोटाले के आरोपी असीम दास के पिता की लाश दुर्ग जिले के एक गांव में संदिग्ध परिस्थितियों में बरामद की गई है। असीम दास के बयानों से सूबे का सियासी ताप बढ़ गया था।

महादेव ऐप मामला: जिस असीम दास के बयानों से बढ़ा था सूबे का सियासी ताप, उसके पिता की लाश मिली
Krishna Singhभाषा,दुर्गWed, 06 Dec 2023 12:43 AM
ऐप पर पढ़ें

महादेव सट्टा ऐप मामले में गिरफ्तार जिस असीम दास के बयानों से बीते दिनों छत्तीसगढ़ की सियासत में खलबली मच गई थी, उसके पिता की लाश मिली है। असीम दास की गिरफ्तारी के बाद ईडी ने कहा था कि आरोपी ने अपने बयान में चौंकाने वाले आरोप लगाए हैं। पुलिस अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में पुलिस ने महादेव सट्टा ऐप मामले में गिरफ्तार असीम दास के पिता का शव संदिग्ध परिस्थितियों में कुएं से बरामद किया है। 

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने मंगलवार को जिले के अंडा थाना क्षेत्र के अंतर्गत अछोटी गांव में सुशील दास (62) का शव बरामद किया है। सुशील दास अछोटी गांव के किसी निजी कंपनी में चौकीदारी करता था। आज दोपहर गांव के कुंए से उसका शव बरामद किया गया। दास रविवार की शाम से घर से लापता था। आज ग्रामीणों ने पुलिस को कुंए में शव होने की जानकारी दी तब पुलिस दल को घटनास्थल के लिए रवाना किया गया।

पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पुलिस को आशंका है कि सुशील दास ने आत्महत्या की है। मामले की जांच जारी है। जांच रिपोर्ट मिलने के बाद ही पता चलेगा कि सुशील दास की मौत कैसे हुई है। सुशील दास प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा महादेव ऑनलाइन सट्टा ऐप मामले में गिरफ्तार असीम दास के पिता थे। महादेव ऑनलाइन सट्टा ऐप मामले की जांच कर रही ईडी ने असीम दास को नवंबर महीने में गिरफ्तार किया था।

असीम दास (Mahadev app scam case accused Asim Das) की गिरफ्तारी के बाद ईडी ने कहा था कि फोरेंसिक विश्लेषण और कैश कूरियर दास ने अपने बयान में चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। असीम दास ने आरोप लगाया है कि महादेव सट्टेबाजी ऐप के प्रवर्तकों ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अब तक लगभग 508 करोड़ रुपये का भुगतान किया था।  यह जांच का विषय है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें