ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में अपराधियों के लिए छोटी पड़ रही जेल, 33 में से 24 जेलों में क्षमता से ज्यादा भरे कैदी

छत्तीसगढ़ में अपराधियों के लिए छोटी पड़ रही जेल, 33 में से 24 जेलों में क्षमता से ज्यादा भरे कैदी

छत्तीसगढ़ में विधानसभा का बटस सत्र चल रहा है। इस सत्र के दौरान छत्तीसगढ़ की जेल को लेकर एक चौकाने वाला खुलासा किया गया है। सरकार ने जानकारी देते हुए यह बताया हा कि प्रदेश की जेलों में धमता से ज्यादा..

छत्तीसगढ़ में अपराधियों के लिए छोटी पड़ रही जेल, 33 में से 24 जेलों में क्षमता से ज्यादा भरे कैदी
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरThu, 15 Feb 2024 05:42 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में जेल विभाग के द्वारा कैदियों की जानकारी ने सभी को हैरत में डाल दिया है। हैरान करने वाली बात यह है कि प्रदेश की 33 में से 24 जेलों में क्षमता से ज्यादा कैदियों को रखा जा रहा है। यानी इससे यह पता चलता है कि दिनों-दिन अपराध का ग्राफ भी तेजी से बढ़ रहा है। छत्तीसगढ़ की जेलों की मौजूदा क्षमता 14,383 की तुलना में 18 हजार से अधिक कैदी बंद हैं। जिसकी जानकारी छत्तीसगढ़ विधानसभा में राज्य के उप मुख्यमंत्री विजय शर्मा ने दी है। 

राज्य के गृह विभाग भी संभाल रहे विजय शर्मा ने भाजपा विधायक संपत अग्रवाल के सवाल के लिखित जवाब में बताया है कि इस वर्ष 31 जनवरी तक राज्य के केंद्रीय, जिला और उप जेलों में 14,383 की क्षमता के मुकाबले 18,442 कैदी बंद थे। उप मुख्यमंत्री विजय शर्मा ने आगे जानकारी देते हुए यह बताया कि प्रदेश में 5 केंद्रीय जेल, 20 जिला जेल और 8 उप जेल हैं। इन 33 जेलों में से, सभी पांच केंद्रीय जेलों, 14 जिला जेलों और पांच उप जेलों सहित 24 जेलों में क्षमता से अधिक कैदी हैं। वही इसके अलावा 9 जेलों में क्षमता से कम कैदी हैं।

जिलों में कैदियों की संख्या

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि रायपुर की केंद्रीय जेल में 1,586 की क्षमता के मुकाबले 3,076 कैदी हैं, जबकि दुर्ग की केंद्रीय जेल में 2006 की क्षमता के मुकाबले 2031 कैदी हैं। वही बिलासपुर की केंद्रीय जेल में 2,870 कैदी हैं। हालांकि इसमें केवल 2,290 को रखने की सुविधा है। जगदलपुर के केंद्रीय जेल में 1451 छमता के मुकाबले  1,462 कैदी और अंबिकापुर के जेल में 1320 कैदी की छमता है, लेकिन यहा 2,013 कैदी हैं। अपने जवाब में गृह मंत्री विजय शर्मा ने बताया कि 9 जेलों में बैरक के निर्माण के लिए 1195 लाख रुपये मंजूर किए गए थे। इनमें अंबिकापुर और जगदलपुर स्थित केंद्रीय जेल, राजनांदगांव, कबीरधाम, सूरजपुर, जशपुर, गरियाबंद स्थित जिला जेल और मनेंद्रगढ़ तथा नारायणपुर में स्थित उप जेल शामिल हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें