ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़बिलासपुर के अटल आवास पर लोगों का अवैध कब्जा, बांग्लादेशियों का भी था डेरा, लोगों ने बेच दिया सरकारी मकान

बिलासपुर के अटल आवास पर लोगों का अवैध कब्जा, बांग्लादेशियों का भी था डेरा, लोगों ने बेच दिया सरकारी मकान

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में अटल आवास को लेकर फर्जीवाड़े काम मामला सामने आया है। अटल आवास के तहत बने सरकारी आवास में बहुत से लोगों अवैध तरीके से रुके हुए हैं।

बिलासपुर के अटल आवास पर लोगों का अवैध कब्जा, बांग्लादेशियों का भी था डेरा, लोगों ने बेच दिया सरकारी मकान
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरSat, 24 Feb 2024 11:32 AM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में आवास को लेकर महौल बेहद गर्म हो चला है। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में अटल आवास को लेकर बने माकान में विशेष धर्म के कब्जे का मामला सामने आया है। यहां रहने लोगों पर आरोप हैं कि इन्होंने अटल आवास के तहत बने घरों के लुक को भी बदलकर रख दिया है। 

विशेष धर्म के लोगों का कब्जा

बतादें कि बिलासपुर के देवरी खुर्द में अटल आवास योजना के तहत सरकारी आवास बनाए गए हैं। यह करीब 100 से अधिक हैं, यहां पहले पात्र लोगों को आवास आवंटित किया गया था। लेकिन अब यहां कब्जा हो चुका है। कहा जा रहा है कि विशेष धर्म के लोगों के कब्जे के बाद यहा की जमीन पर धर्मिक स्थल और मजार बना दिया गया है। 

घर के जगह पर बन गया मकान

जब यह मामला सामने आया तो हिंन्दु संगठन और स्थानीय लोगों ने इसका विरोध किया। संगठन का आरोप है कि अटल आवास योजना के तहत बने मकान तोड़कर आज यहां मजार बना दी गई है। यह हरकत यहां रह रहे विशेष धर्म के लोगों के द्वारा किया गया है। वहीं इस मामले को लेकर बिलासपुर कलेक्टर के पास इसकी शिकायत की गई है। वहीं इस शिकायत के बाद जब जांच की गई तो पता चला कि जिस जमीन पर घर थे वहां मजार बन गया है। 

कलेक्टर ने कहा- होगी कठोर कार्रवाई

मामले जानकारी देते हुए कलेक्टर अवनीश शरण ने बताया कि यह पूरी जगह अटल आवास योजना के अंतर्गत आती है और विवाद बढ़ने के बाद उस व्यक्ति ने घर का स्ट्रक्चर बदल दिया है। साथ ही विवादित जगह को खुद ही तोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। हमने नगर निगम की टीम को भी इस बात की जानकारी दे दी है। निगम की टीम भी इस मामले में कार्रवाई करेगी। 

यहां रहते थे बांग्लादेशी नागरिक

यह रह रहे स्थानीय नागरिकों का आरोप है कि इन इलाकों में बहुत है अवैध लोगों का कब्जा है। दो साल पहले यहां से बांग्लादेशी नागरिक भी पकड़े गए थे।  नागरिकों का कहना है कि यहां जिन लोगों के नाम पर मकान अलॉट किए गए हैं उन्हें पैसे का लालच देकर उनसे मकान खरीद लिया गया है या फिर उन्हें डरा धमकाकर उन्हें यहां से हटा दिया गया है। इसके सांथ ही स्थानीय लोगों ने इन इलाकों पर अनैतिक कार्य भी चलाए जाने वाली बात कही है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें