ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ महादेव सट्टा ऐप मामले को लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई, कोर्ट ने दमानी ब्रदर्स की जामनत पर कहा...

छत्तीसगढ़ महादेव सट्टा ऐप मामले को लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई, कोर्ट ने दमानी ब्रदर्स की जामनत पर कहा...

छत्तीसगढ़ में महादेव सट्टा ऐप के मामले को लेकर आज बिलासपुर हाईकोर्ट में हवाला कारोबारी दमानी ब्रदर्स की जमानत याचिका को लेकर सुनवाई की गई है। जिस पर हाईकोर्ट ने सुनील और अनिल दमानी की जमानत पर फैसला..

छत्तीसगढ़ महादेव सट्टा ऐप मामले को लेकर हाईकोर्ट में सुनवाई, कोर्ट ने दमानी ब्रदर्स की जामनत पर कहा...
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरWed, 03 Jan 2024 05:39 PM
ऐप पर पढ़ें

चर्चित महादेव सट्टा‌ऐप मामले को लेकर अब आरोपित जमानत के लिए हाईकोर्ट में याचिका लगा रहे हैं। इस पूरे मामले में अब तक किसी की भी जमानत नहीं हुई है। महादेव सट्टा मामले में रायपुर जेल में बंद दमनी ब्रदर्स ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। हवाला कारोबारी सुनील और अनिल दमानी के वकील ने हाई कोर्ट में दोनों की जमानत याचिका लगाई थी जिस पर आज सुनवाई की गई है। हाईकोर्ट ने दोनों की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी करते हुए फैसले को सुरक्षित रख लिया है। जस्टिस क चंद्रवंशी की बेंच में जमानत को लेकर पूरी बहस हुई इसके बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा है। 

बता दें कि महादेव सट्टा मामले को लेकर अनिल दमानी और सुनील दमानी के ऊपर यह आरोप है कि इनके माध्यम से बड़े स्तर में पैसों का हेर फेर किया गया है। यह दोनों भाई पैसे को हवाला के माध्यम से इधर से उधर पहुंचने का काम करते थे। दोनों को ईडी ने अगस्त माह के आखिरी हफ्ते में गिरफ्तार किया गया था। 23 अगस्त 2023 को ईडी की टीम ने दुर्ग में छापा मारते हुए प्रिवेंशन ऑफ़ मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। इसके बाद अनिल और सुनील दमानी समेत एएसआई चंद्र भूषण वर्मा, सतीश चंद्राकर को गिरफ्तार किया था।  इसके बाद ईडी ने दोनों से पूछताछ के बाद गिरफ्तार कर रायपुर जेल में पेश किया‌ था। जहां से दोनो को कोर्ट‌ ने रायपुर जेल भेज दिया है। पहले रायपुर की ईडी की स्पेशल कोर्ट में जमानत याचिका पर सुनवाई हुई जिसे खारिज कर दिया गया था। इसके बाद दोनों भाइयों ने हाई कोर्ट में जमानत याचिका लगाई थी‌।‌ जिस पर हाईकोर्ट के जस्टिस एन के चंद्रवंशी ने कोर्ट की जमानत याचिका पर सुनवाई करने के बाद अंतिम फैसले को सुरक्षित रख लिया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें