ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ छत्तीसगढ़हॉस्पिटल में बिजली कटौती से गई चार नवजात बच्चों की जान? स्वास्थ्य मंत्री ने दिया जांच का आदेश

हॉस्पिटल में बिजली कटौती से गई चार नवजात बच्चों की जान? स्वास्थ्य मंत्री ने दिया जांच का आदेश

छत्तीसगढ़ में कथित तौर पर अस्पताल प्रशासन की लापरवाही की चलते चार नवजात बच्चों की मौत हो गई है। यह घटना सरगुजा जिले के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पताल (जीएमसीएच) अंबिकापुर की है।

हॉस्पिटल में बिजली कटौती से गई चार नवजात बच्चों की जान? स्वास्थ्य मंत्री ने दिया जांच का आदेश
Devesh Mishraरितेश मिश्रा,रायपुरMon, 05 Dec 2022 05:05 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में कथित तौर पर अस्पताल प्रशासन की लापरवाही की चलते चार नवजात बच्चों की मौत हो गई है। यह घटना सरगुजा जिले के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज से संबद्ध अस्पताल (जीएमसीएच) अंबिकापुर की है। मालूम हो कि यह इलाका छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के निर्वाचन क्षेत्र में आता है। अधिकारियों ने बताया है कि बच्चों की मौत सुबह 5:30 से 8:30 बजे के बीच हुई है। नवजात बच्चों के परिजनों का आरोप है कि अस्पताल में बिजली गुल होने से बच्चों की मौत हुई है। हालांकि, प्रशासन और स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि मौतों को बिजली कटौती से नहीं जोड़ा जा सकता है।

सरगुजा के कलेक्टर कुंदन कुमार ने बताया कि चार नवजात बच्चों की मौत रविवार और सोमवार की दरम्यानी रात के बीच हुई। उन्होंने कहा कि हमने ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर सहित सभी लोगों से बात की और यह बहुत स्पष्ट है कि बिजली कटौती से वेंटिलेटर के कामकाज में रुकावट नहीं आई। कलेक्टर कुंदन कुमार ने बताया कि हॉस्पिटल में बिजली से जुड़े काम करने वालों से बातचीत में यह सामने आया है कि सोमवार को 1-1:30 AM के बीच बिजली में उतार-चढ़ाव आया था।

कलेक्टर कुंदन कुमार ने बताया कि बिजली में उतार-चढ़ाव के समय वैकल्पिक बैकअप (बिजली) पूरे समय काम कर रहा था और सभी वेंटिलेटर पूरे समय चालू थे। उन्होंने कहा कि चारों नवजात बच्चों की हालत काफी गंभीर थी। उनमें से दो वो विशेष नवजात देखभाल इकाई (SNCU) में भर्ती किया गया था। वहीं दो बच्चों को वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था।

सरगुजा के कलेक्टर ने बताया कि SNCU में अभी भी 30-35 बच्चे भर्ती हैं। उन्होंने बताया कि मामले के जांच के आदेश दे दिए गए हैं। चारों बच्चों की मेडिकल रिपोर्ट जल्द ही हॉस्पिटल द्वारा जारी की जाएगी। छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने स्वास्थ्य सचिव को घटना की जांच के लिए एक टीम गठित करने का निर्देश दिया है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चार शिशुओं की मौत के बारे में जानने के बाद, मैंने स्वास्थ्य सचिव से एक जांच दल गठित करने और जांच के लिए मौके पर भेजने के लिए कहा है। मैंने इस घटना की जानकारी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को भी दी है।

छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुइया उइके ने भी घटना पर दुख जताया और सरकार को मौत के कारणों की जांच कर इस पर उचित कार्रवाई करने का निर्देश दिया। उन्होंने सरकार को मृतक बच्चों के परिजनों को राहत सुनिश्चित करने और भविष्य में ऐसी घटनाओं से बचने के लिए कदम उठाने का भी निर्देश दिया है। पिछले साल अक्टूबर में सरगुजा जिले के एक सरकारी मेडिकल कॉलेज अस्पताल में चार नवजात शिशुओं की मौत हो गई थी।