ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में होगा कर्ज माफ तो किसानों ने लिया‌ था दुगना कर्ज,अब आ गई पूरा भुगतान की बारी

छत्तीसगढ़ में होगा कर्ज माफ तो किसानों ने लिया‌ था दुगना कर्ज,अब आ गई पूरा भुगतान की बारी

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार जाते‌ ही अब किसानों को उनके द्वारा लिए गए दुगुनी कर्ज की चिंता सताने लगी है।‌ क्योंकि बैंकों से लिया गया कृषि कार्यों पर कर्ज किसानों को समय पर चुकाना पड़ेगा।

छत्तीसगढ़ में होगा कर्ज माफ तो किसानों ने लिया‌ था दुगना कर्ज,अब आ गई पूरा भुगतान की बारी
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरSun, 10 Dec 2023 12:23 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में किसानों की कर्ज माफी का वादा भूपेश बघेल के उपमुख्यमंत्री होने के साथ ही अधूरा रह गया। प्रदेश में कांग्रेस पार्टी सत्ता बरकार नहीं कर पाई और वर्तमान में भारतीय जनता पार्टी की सत्ता की वापसी हो गई। कांग्रेस सत्ता में आएगी तो कर्ज माफ होगा यह सोचकर किसानों ने बढ़-चढ़कर कर्ज लिया था लेकिन अब इन किसानों को मार्च तक कर्ज की राशि का पूरा भुगतान करना होगा। 


साल 2018 में जिस तरह से कांग्रेस पार्टी ने कर्ज माफी का वादा कर सकता में आई थी उसी तरह से छत्तीसगढ़ में एक बार फिर से राज्य के किसानों को लग रहा था कि कांग्रेस प्रदेश की सत्ता में बरकरार रहेगी यही वजह थी कि किसानों ने इस साल पिछले चुनाव के अनुरूप ज्यादा कर्ज लिया था। हालांकि कांग्रेस सरकार बनने के बाद किसानों का अल्पकालिक माफ किया गया था। लेकिन मध्य कालीन और दीर्घकालिक माफ नहीं किया गया था इसके साथ ही कॉर्पोरेट,पार्टनरशिप फर्म, ट्रस्ट को दिए गए कृषि ऋण पर ऋण माफी का लाभ मिला था। उसे लिहाज से छत्तीसगढ़ के कोऑपरेटिव बैंक के द्वारा खरीफ 2023 में अल्पकालीन ऋण वितरण की राशि 7हजार 40 करोड रुपए दी गई है। जो अब किसानों से वसूला जाना है। 

आंकड़ों पर नजर डालें तो

साल 2018 में कुल किसानों के 5260 करोड़ माफ किए गए थे।‌ जिसके बाद साल 2020-21 में 12 लाख 65 हजार 910 किसानों ने 5 हजार 58 करोड़, साल 2021-22 में 12 लाख 99 हजार 681 किसानों ने 5 हजार 457 करोड़, साल 2022-23 में 14 लाख 4 हजार 799 किसानों ने 6 हजार 527 करोड़ का कर्ज लिया है। 

कर्ज की वसूली की बात करें तो

साल 2020-21 में 5 हजार 725 करोड़ वसूलने थे जिसमें से 4 हजार 968 करोड़ वसूले गए यानी 86.78 फीसदी कर्ज वापस हुए। साल 2021-22 में 5 हजार 997 करोड़ वसूलने थे जिसमें से 5 हजार 510 करोड़ वसूले गए यानी 91.88 फीसदी कर्ज वापस हुए। साल 2022-23 में 6 हजार 668 करोड़ वसूलने थे 6 हजार 99 करोड़ वसूले गए यानी 91.47 फीसदी कर्ज वापस, फिलहाल छत्तीसगढ़ के कोआपरेटिव्ह बैंकों के द्वारा खरीफ 2023 में अल्पकालीन कृषि ऋण वितरण राशि रुपये 7 हजार 40 करोड़ रुपए वितरित किए गए हैं। 

इसके साथ ही दुर्ग संभाग की अगर केवल बात करें तो संभाग के तीन जिले दुर्ग, बालोद, बेमेतरा में किसानों ने  206 करोड रुपए का अधिक कर्ज लिया है। जानकारी के अनुसार खरीफ सीजन में 1230 करोड़ का टारगेट रखा गया था लेकिन टारगेट से अधिक किसानों ने 1322 करोड़ का कर्ज लिया है। पिछले साल किसानों पिछले साल तीन जिलों में किसानों ने 1116 करोड़‌ का कर्ज लिया था। इस बार किसानों ने 1322 करोड़‌ का कर्ज लिया है।‌ जिन्हें अब किसानों को समय पर‌ भुगतान करना होगा। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें