ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़महादेव सट्टा ऐप मामले में ईडी‌ ने फ्रीज‌ किए 580 करोड़, अब तक 1296 करोड़ हुए जब्त

महादेव सट्टा ऐप मामले में ईडी‌ ने फ्रीज‌ किए 580 करोड़, अब तक 1296 करोड़ हुए जब्त

 महादेव सट्टा मामले को लेकर ईडी ने अब तक 1296 करोड़ रुपये जब्त‌ कर चुकी‌ है। वहीं बीते दिनों रेड की कार्यवाही में ईडी ने 580 करोड़ को फ्रीज‌ करने के बाद कई बड़े खुलासे भी किए हैं। 

महादेव सट्टा ऐप मामले में ईडी‌ ने फ्रीज‌ किए 580 करोड़, अब तक 1296 करोड़ हुए जब्त
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरFri, 01 Mar 2024 01:06 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ महादेव सट्टा ऐप मामले को लेकर ED ने एक बार फिर दिल्ली,मुंबई, कोलकाता में रेड की कार्यवाही करने के बाद 580 करोड रुपए फ्रिज किए हैं। ED ने छत्तीसगढ़ के चर्चित महादेव सट्टा ऐप के मामले में पिछले डेढ़ साल से लगातार रेड करने के बाद पूछताछ कर रही है। पूछताछ में अब तक 1200 करोड़ से ज्यादा की संपत्ति का खुलासा हो चुका है। मामले में अब तक 9 लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। 

बता दें कि ईडी ने बुधवार को कोलकाता, गुरुग्राम, दिल्ली, इंदौर, मुंबई और रायपुर में छापेमारी की थी।‌ इस छापेमारी में ईडी ने 1.86 करोड रुपए की नगदी, इसके अलावा सोने चांदी के आभूषण समेत कीमती सामान बरामद किया है, उसकी कीमत लगभग 1.78 करोड़ है। इसके बाद ईडी ने एक बयान जारी किया इसमें इस ऑनलाइन सट्टा ऐप के माध्यम से 580.78 करोड रुपए की कमाई को होना बताया‌ है। जिसके बाद ईडी ने इससे जुड़े सभी अकाउंट को फ्रीज करने का काम भी किया है। इसके साथ ही जानकारी देते हुए बताया कि इस पूरी रेड में अवैध संपत्ति से जुड़े हुए कई डिजिटल डाटा भी मिले हैं।

दुबई से चला रहा सट्टे का खेल

ईडी की इस पूरी कार्यवाही और लगातार जांच में यह पता चला है कि कथित 6000 करोड़ रुपए के महादेव ऑनलाइन सट्टा ऐप का संचालन दुबई से किया जा रहा है। यह खेल पिछले कई सालों से चल रहा है। दुबई से चलने का मुख्य उद्देश्य जांच एजेंसियों की रडार से बचना है। इस ऑनलाइन सट्टे को अलग-अलग फ्रेंचाइजी के माध्यम से देश भर में चलाया जा रहा है।‌ ईडी‌ की जांच‌ में पता‌ चला है कि छोटी-छोटी वेबसाइट को फ्रेंचाइजी देकर महादेव सट्टा का अवैध कारोबार चल‌ रहा है। जिसमें रेड्डीअन्ना, फेयरप्ले जैसी साइट की जानकारी इस रेड से बाहर‌ निकल कर आई है।

अवैध कमाई का पैसा हवाला से होता था इधर से उधर

ईडी की जांच में महादेव ऑनलाइन बुक के अन्य प्रमोटर के नाम का भी खुलासा किया‌ गया है। जांच में पाया‌‌ गया है कि हरिशंकर टिंबरेवाल जो की कोलकाता का रहने वाला है। यह वर्तमान में दुबई में रहते हुए ऑनलाइन सट्टा के प्रमोटरों के साथ मिलकर पैसे को हवाला करने का काम करता था। महादेव सट्टा के कई प्रमोटरों के साथ इसकी बड़ी साझेदारी थी। इस रेड में उसके कई सहयोगियों के घरों में भी रेड करने के बाद कई अहम दस्तावेज की बरामद हुए हैं। जिसमें पता चला है कि हरिशंकर टिंबरेवाल अवैध सट्टेबाजी वेबसाइट का भी मालिक था। सट्टे के पैसे की अवैध कमाई को वह भारतीय शेयर बाजार में निवेश कर रहा था। इसके अलावा इस कमाई के पैसे को हवाला के माध्यम से इधर से उधर करने का काम करता था।

1296 करोड़ किए जा चुके फ्रीज

महादेव ऑनलाइन सट्टा ऐप में ईडी ने अब तक की रेड‌ में 1296.05 करोड़ रुपये फ्रीज कर चुकी है। हाल में ईडी ने रेड‌ मारने के बाद 580.78 करोड़‌ की अवैध कमाई की जानकारी निकाली जिसे फ्रीज किया‌ है। वहीं इससे पहले इस मामले को लेकर ईडी के द्वारा 572.41 करोड़ रुपये जब्त करने का काम किया था।

सौरभ और रवि को भारत लाने की चल रही तैयारी

महादेव सट्टा मामले में सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल जो की इस सट्टा ऐप के मास्टरमाइंड है।‌ उन्हें जल्द गिरफ्तार कर भारत लाने की तैयारी केंद्रीय जांच एजेंसी कर रही है। जानकारी के अनुसार दोनो दुबई में इंटरपोल की हिरासत में है, जिन्हें भारत सरकार प्रक्रिया पूरी करने के बाद गिरफ्तार कर जल्द भारत ला सकती है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें