ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़DSP को पहले दी भाजपा विधायक के भाई ने देख लेने की धमकी, कुछ देर बाद हो गया पुलिस अधिकारी का तबादला

DSP को पहले दी भाजपा विधायक के भाई ने देख लेने की धमकी, कुछ देर बाद हो गया पुलिस अधिकारी का तबादला

छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में भारतीय जनता पार्टी के विधायक के भाई की पुलिस थाने में DSP के साथ कुछ कहा सुनी हो गई। विवाद इतना बढ़ गया कि विधायक के भाई ने देख लेने की धमकी दे दी।

DSP को पहले दी भाजपा विधायक के भाई ने देख लेने की धमकी, कुछ देर बाद हो गया पुलिस अधिकारी का तबादला
Rohit Burmanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरWed, 28 Feb 2024 07:45 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के विधायक के भाई का एक वीडियो खूब चर्चा में आ गया है। जिसमें वह पुलिस के अधिकारी को काम करने से रोकने के साथ धमकी भी दे रहा है। वहीं हैरत की बात यह है कि इस वीडियो के सामने आने के बाद पुलिस विभाग के इस अधिकारी का तबादला कर दिया गया है। 

दरअसल यह वीडिओ अंबिकापुर जिले का बताया जा रहा है। जहा अंबिकापुर विधायक राजेश अग्रवाल के भाई का बताया जा रहा है। विधायक का भाई जिसका नाम विजय अग्रवाल है वह अपने समर्थक या फिर कहें कि गांव के लोगों के साथ थाने में घुस जाता है। उसके द्वारा DSP लखनपुर थाना प्रभारी के साथ पुलिस केस केस के मामले में कहा सुनी हो जाती है। जिसके बाद विवाद इतना बढ़ जाता है कि विधायक का भाई विजय अग्रवाल पुलिस के अधिकारी को देख लेने की धमकी देकर बाहर आ जाता है। इस वीडियो के वायरल होने के बाद एसपी ने घटना के कुछ घंटे बाद ही लखनपुर थाना प्रभारी एसपी शुभम तिवारी को हटाकर मनोज कुमार प्रजापति को लखनपुर थाना का प्रभारी बनाया गया है।

बतादें कि अंबिकापुर में कॉपर केबल की चोरी का मामला एसईसीएल की अमेरा ओपन कास्ट माइंस से सामने आया था। इसमें आरोप था कि हथियार बंद ग्रामीणों द्वारा खदान से केबल काटकर ले जाया गया। जिसके बाद एसईसीएल प्रबंधन ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए स्थानीय ग्रामीणों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। वहीं ग्रामीणों की गिरफ्तारी के बाद बीजेपी विधायक राजेश अग्रवाल के भाई विजय अग्रवाल ने स्थानीय ग्रामीणों के साथ मिलकर लखनपुर थाना का घेराव कर दिया था। 

पुलिस थाने का घेराव करने के बाद ग्रामीणों ने पुलिस पर एसईसीएल प्रबंधन के साथ मिलीभगत कर फर्जी एफआईआर दर्ज करने और भूमि अधिग्रहण का विरोध कर रहे ग्रामीणों को डकैती के मामले में गिरफ्तार करने का आरोप लगया है। ग्रामीणो के साथ विरोध के दौरान बीजेपी विधायक राजेश अग्रवाल के भाई विजय अग्रवाल का लखनपुर थाना प्रभारी डीएसपी शुभम तिवारी के साथ विवाद बढ़ गया। जिसके बाद विधायक के भाई ने थाना प्रभारी को धमकी दे डाली। जिसका वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हुआ। 

जब जिले के पुलिस अधिकारियों को इस बात की सूचना मिली तो अंबिकापुर एसपी विजय अग्रवाल ने देर शाम डीएसपी को लखनपुर थाना प्रभारी के पद से हटा दिया है। शुभम तिवारी जो था थाना प्रभारी के पद पर थे और प्रशिक्षु डीएसपी थे जिन्हें अब पद से मुक्त कर दिया गया है। एसपी ने नया आदेश जारी करते हुए लखनपुर थाना का चार्ज मनोज कुमार प्रजापति को दिया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें