ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ पुलिस को बड़ी कामयाबी, लॉरेंस और अमन गैंग के दो शूटर गिरफ्तार; ऐसे बिछाया था जाल

छत्तीसगढ़ पुलिस को बड़ी कामयाबी, लॉरेंस और अमन गैंग के दो शूटर गिरफ्तार; ऐसे बिछाया था जाल

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर पुलिस को रविवार को उस समय एक बड़ी कामयाबी मिली, जब एक कोयला व्यापारी की हत्या करने आए लारेंस विश्नोई और अमन साहू गैंग के चार शूटरों को गिरफ्तार कर लिया।

छत्तीसगढ़ पुलिस को बड़ी कामयाबी, लॉरेंस और अमन गैंग के दो शूटर गिरफ्तार; ऐसे बिछाया था जाल
Mohammad Azamवार्ता,रायपुरSun, 26 May 2024 04:34 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर पुलिस को रविवार को उस समय एक बड़ी कामयाबी मिली जब एक कोयला व्यापारी की हत्या करने आए लारेंस विश्नोई और अमन साहू गैंग के चार शूटरों को गिरफ्तार कर लिया। मिली जानकारी के अनुसार, बॉलीवुड सुपर स्टार सलमान खान के घर पर इसी गिरोह ने गोलीबारी की थी। कुख्यात गैंग के चार शूटरों को रायपुर और राजस्थान से गिरफ्तार किया गया है। 72 घंटे तक चले ऑपरेशन के बाद चार अंतरराज्यीय शूटरों को गिरफ्तार किया गया। आरोपियों के कब्जे से एक पिस्टल भी बरामद की गई है। 

बताया जा रहा है कि राजधानी में एक बड़े कारोबारी के द्वारा पैसे नहीं देने पर उसकी हत्या की प्लांनिग कर ये शूटर राजधानी रायपुर पहुंचे थे। उनकी योजना पूरी होने से पहले ही रायपुर पुलिस ने चारों को धर-दबोचा है। इस कार्रवाई में सबसे बड़ी बात ये है कि ये चारों शूटर झारखंड के कुख्यात गैंग अमन साहू के गुर्गे है। बॉलीबुड अभिनेता सलमान के घर भी इसी गैंग के लोगों ने पूर्व में फायरिंग की थी। पकड़े गये शूटर्स अमन साहू और लॉरेंस बिश्नोई के कहने पर टार्गेट को अंजाम देते थे।

वर्तमान में अमन साहू के गैंग को झारखंड निवासी मयंक सिंह मलेशिया में बैठकर ऑपरेट कर रहा है। आरोपियों ने बताया कि प्लानिंग के तहत मयंक सिंह जो झारखण्ड के अमन साहू गैंग को संचालित करता है, उसने रोहित स्वर्णकार निवासी बोकारो झारखण्ड को पहले पिस्टल के लिए मध्य-प्रदेश के इंदौर शहर भेजा। इंदौर के सेंधवा से अपने संपर्क के माध्यम से एक पिस्टल और एक मैगजीन उपलब्ध कराया गया। फिर मयंक ने ही रोहित को पिस्टल लेकर रायपुर पहुंचने को कहा। मयंक सिंह द्वारा राजस्थान के जिला पाली के ग्राम सारन में बैठे पप्पू सिंह को वारदात को अंजाम देने के लिये एक बाइक राइडर की व्यवस्था करने को कहा। पप्पू ने सारन निवासी मुकेश कुमार भाट और देवेन्द्र सिंह को वारदात के वक्त बाइक चलाने के लिये रायपुर रवाना किया। रोहित स्वर्णकार इंदौर के सेंधवा से पिस्टल लेकर उज्जैन में महाकाल के दर्शन कर ट्रेन से रायपुर पहुंचा।

इधर, मुकेश और देवेन्द्र बस से रायपुर पहुंचे। प्लानिंग के मुताबिक रायपुर पुलिस के जवान इन्हें चिन्हित करने सादी वर्दी में शहर के संभावित स्थलों पर तैनात किये गए। सादी वर्दी में पेट्रोलिंग की अलग पार्टियां तैनात की गई। लगातार मॉनिटरिंग के दौरान 72 घंटे के इस गोपनीय ऑपरेशन में एक आरोपी रोहित स्वर्णकार को गंज थाना क्षेत्र से पकड़ा गया, जिसके कब्जे से एक पिस्टल, एक मैग्जीन बरामद किया गया। साथ ही भाठगांव चौक में सादी वर्दी में मौजूद टीम ने दो संदिग्धों को पकड़कर उनसे कड़ाई से पूछताछ की। आरोपियों ने बताया कि राजस्थान से पप्पू द्वारा यहां फायरिंग के दौरान बाइक राइडिंग करने के लिए दोनों को भेजा गया था।

पुलिस पूछताछ में दोनों आरोपियों ने बताया कि रायपुर में हत्या की योजना मयंक सिंह और पप्पू सिंह ने साथ मिलकर बनाई थी। गैंग के शूटर और राइडर को एक-दूसरे से अपनी पहचान छिपाने नेट कॉलिंग से संपर्क और अलग-अलग कोड वर्ड से बातचीत करने को कहा गया था। मयंक ने रोहित को 29-29 कोड यूज करने और पप्पू ने मुकेश को राम-राम और जय माता दी कोड यूज करने कहा था। टारगेट रायपुर पहुंचने पर ही ऊपर से बताया जाता और गोली के साथ बाइक की व्यवस्था मयंक द्वारा कराई जाती थी। पूछताछ से मिली जानकारी पर तकनीकी समीक्षा पर आरोपी पप्पू का पाली सारन में रहकर गैंग को निर्देशित कर रहा था। यह सूचना मिलते ही रायपुर की एक स्पेशल टीम ने राजस्थान के जिला पाली के सारन गांव से पप्पू को बिना भनक लगे गिरफ्तार किया। आरोपियों ने पूछताछ में मयंक सिंह को मलेशिया से इस योजना को ऑपरेट करना बताया है।