ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ में भी योगी वाला फॉर्मूला, बलोदा बाजार में हिंसा करने वालों से होगी वसूली

छत्तीसगढ़ में भी योगी वाला फॉर्मूला, बलोदा बाजार में हिंसा करने वालों से होगी वसूली

छत्तीसगढ़ के बलोदा हिंसा को लेकर राज्य सरकार काफी सख्त है। सरकार हिंसा के आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने की तैयारी में जुटी है। सरकार यहां भी उप्र के सीएम योगी आदित्यनाथ का फॉर्मूला अपनाने वाली है।

छत्तीसगढ़ में भी योगी वाला फॉर्मूला, बलोदा बाजार में हिंसा करने वालों से होगी वसूली
crime
Subodh Mishraएएनआई,रायपुरThu, 13 Jun 2024 04:24 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ के बलोदा हिंसा को लेकर राज्य सरकार काफी सख्त है। सरकार हिंसा के आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने की तैयारी में जुटी है। बताया जा रहा है कि राज्य सरकार यहां भी उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ का फॉर्मूला अपनाने वाली है। हिंसा में हुए नुकसान की भरपाई आरोपियों से की जाएगी। बता दें कि बलोदा बाजार में सतनामी संप्रदाय के प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़क उठी थी। कई गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। साथ ही कलेक्टर और एसपी ऑफिस को आग के हवाले कर दिया गया था।

राज्य के उप मुख्यमंत्री अरुण साव ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार बलोदा हिंसा में हुए नुकसान की भरपाई आरोपियों से वसूलने पर विचार कर रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि जो लोग भी दोषी हैं उनसे वसूली की जाएगी। जब उनसे पूछा गया कि क्या सरकार आरोपियों से वसूली करने पर सोच रही है, साव ने कहा कि निश्चित रूप से सरकार हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों से नुकसान की भरपाई वसूलने पर विचार कर रही है।

बता दें कि 11 जून को बलोदा बाजार में सतनामी संप्रदाय के प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़क उठी थी। कई गाड़ियों को क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। साथ ही कलेक्टर और एसपी ऑफिस को आग के हवाले कर दिया गया था। दरअसल, 15 मई की रात को कुछ अज्ञात लोगों ने बलोदी बाजार के गिरोदपुरी धाम में सतनामी संप्रदाय के धार्मिक स्तंभ 'जैतखंभ' को तोड़ दिया था। पुलिस ने इस संबंध में मामला दर्ज कर तीन लोगों को गिरफ्तार किया था। सतनामी संप्रदाय के लोग मामले की जांच केंद्रीय एजेंसी से कराने की मांग कर रहे थे।

इस घटना के विरोध में सतनामी संप्रदाय के लोग 11 जून को बलोदा बाजार में प्रदर्शन कर रहे थे। इसी दौरान हिंसा भड़क उठी, जिसमें कई पुलिसकर्मी भी घायल हो गए थे। इस मामले में करीब 200 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। उप मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया कि इस घटना में जिले के कांग्रेसी नेता भी परोक्ष रूप से शामिल थे। कहा कि जांच जारी है और घटना में शामिल हर व्यक्ति से सरकार कड़ाई से पेश आएगी।

उधर, प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए मंगलवार को कहा कि राज्य में कानून व्यवस्था ध्वस्त हो गया है। कहा कि राज्य में इस तरह की घटना पहले कभी नहीं हुई। उन्होंने मुख्यमंत्री विष्णु देव साय से इस्तीफे की भी मांग की।