ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ की इन 6 सीटों पर बीजेपी-कांग्रेस में सीधी टक्कर, पर एक सीट का अलग गणित

छत्तीसगढ़ की इन 6 सीटों पर बीजेपी-कांग्रेस में सीधी टक्कर, पर एक सीट का अलग गणित

Chhattisgarh Assembly Election 2023 : विधानसभा सीट की 11 सीटों पर नजर डालें तो यहां कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधा मुकाबला देखने को मिल रहा है वही एक विधानसभा सीट में त्रिकोणीय संघर्ष साफ दिख रहा है।

छत्तीसगढ़ की इन 6 सीटों पर बीजेपी-कांग्रेस में सीधी टक्कर, पर एक सीट का अलग गणित
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,रायपुरThu, 16 Nov 2023 02:41 PM
ऐप पर पढ़ें

Chhattisgarh Assembly Election 2023 : छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान को लेकर अब प्रत्याशियों का डोर टू डोर जनसंपर्क शुरू हो गया है। प्रदेश की 90 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो रहे हैं इसमें पहले चरण की 20 विधानसभा सीटों पर मतदान की प्रक्रिया पूरी हो गई है। वहीं दूसरे चरण के 70 सीटों पर 17 नवंबर को मतदान होने वाले हैं। बता दें कि दुर्ग संभाग में 20 सीटें है जिसमें से पहले चरण में 8 सीटों पर मतदान हो चुके हैं बाकी की 12 विधानसभा सीटों पर मतदान होना बाकी है। दुर्ग संभाग की कई ऐसी सीटें हैं जहां कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधा मुकाबला देखने को मिल रहा है। वही एक विधानसभा सीट पर त्रिकोणीय संघर्ष भी साफ दिख रहा है। 

नवागढ़ विधानसभा सीट 

नवागढ़ विधानसभा जहां से कांग्रेस पार्टी ने पीएचडी मंत्री रुद्र कुमार गुरु को चुनावी मैदान में उतारा है। इस बार क्षेत्र से उनकी प्रतिष्ठा भी दांव पर लगी हुई है। उनके सामने भारतीय जनता पार्टी के दिग्गज और अनुभवी नेता पूर्व में विधायक रहे दयाल दास बघेल को चुनाव के मैदान में उतर गया है। इस विधानसभा सीट पर चुनावी लड़ाई बेहद दिलचस्प दिखाई दे रही है। इस विधानसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी गुरु रुद्र कुमार पहली बार चुनाव के मैदान में उतरे हैं।‌

गुंडरदेही विधानसभा सीट 

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी ने 21 विधायकों की टिकट काटी और उनके स्थान पर नए प्रत्याशियों को मैदान में उतारा। लेकिन गुंडरदेही विधानसभा सीट से मौजूदा विधायक का टिकट नहीं काटा गया और उन्हें एक बार फिर से चुनाव के मैदान में कांग्रेस पार्टी ने उतारा है। वहीं भारतीय जनता पार्टी ने इस विधानसभा सीट से पूर्व विधायक रहे वीरेंद्र साहू को टिकट दिया है। इस विधानसभा सीट पर दोनों ही पार्टी के प्रत्याशियों के बीच कांटे की टक्कर मानी जा रही है। 

अहिवारा विधानसभा सीट 

इस विधानसभा सीट से साल 2018 के चुनाव में वर्तमान में मंत्री रूद्र गुरु ने चुनाव लड़ा था लेकिन उन्होंने इस बार अन्य दूसरी विधानसभा से चुनाव लड़ने का फैसला लिया। इसके बाद कांग्रेस पार्टी ने भिलाई तीन चरोदा नगर निगम के महापौर निर्मल कोसरे को मैदान में उतारा है। वहीं इनके खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व में विधायक रहे डोमन लाल कोर्सेवाड़ा को टिकट दिया हैी। यहां पर कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधी टक्कर मानी जा रही है। इस विधानसभा सीट में युवा वर्सेस लंबा राजनीतिक अनुभव का मुकाबला माना जा रहा है।

बेमेतरा विधानसभा

यहां पर भी कांग्रेस पार्टी ने मौजूदा विधायक आशीष छाबड़ा को टिकट दिया है। वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने साहू बाहुल्य क्षेत्र देखते हुए दीपेश साहू को चुनाव के मैदान में उतारा है। यहां पर भी कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधी टक्कर मानी जा रही है। इस विधानसभा सीट पर दोनों ही युवा प्रत्याशी आमने-सामने खड़े हुए हैं। हालांकि, यह विधानसभा सीट कांग्रेस का गढ़ मानी जाती है। इस बार इस सीट में भाजपा सेंध लगाने की तैयारी में जुटी हुई है। 

दुर्ग शहर विधानसभा 

इस सीट पर भी कांग्रेस-बीजेपी की सीधी लड़ाई देखी जा रही है। यहां पर अन्य तीसरे राजनीतिक दलों का बोलबाला नहीं दिख रहा है। यहां पर कांग्रेस पार्टी ने क्षेत्र से तीन बार के विधायक रहे अरुण वोरा को मैदान में उतारा है तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने युवा प्रत्याशी के तौर पर गजेंद्र यादव को प्रत्याशी बनाया है। दुर्ग शहर एक ऐसी विधानसभा सीट है जहां पर सबसे ज्यादा 24 प्रत्याशी चुनाव के मैदान में उतरे हुए हैं। इस विधानसभा सीट में जीत-हार का फैसला पिछड़ा वर्ग के मतदाता तय करते हैं। सबसे ज्यादा प्रत्याशी होने के बावजूद इस विधानसभा सीट में कांग्रेस भाजपा के बीच सीधी टक्कर देखी जा रही है।‌ 

भिलाई नगर निगम सीट

इसी तरह भिलाई नगर निगम सीट में भी कांग्रेस-भाजपा के बीच सीधा मुकाबला देखा जा रहा है। कांग्रेस पार्टी ने पूर्व में विधायक रहे देवेंद्र यादव को चुनाव के मैदान में उतारा है तो वहीं भारतीय जनता पार्टी ने देवेंद्र यादव के खिलाफ पूर्व मंत्री और बड़ा राजनीतिक अनुभव रखने वाले प्रेम प्रकाश पांडे को प्रत्याशी बनाया है। यह क्षेत्र टाउनशिप होने की वजह से यहां पानी का मुद्दा हमेशा से बना रहता है। देवेंद्र वर्तमान में यहां से विधायक हैं और प्रेम प्रकाश पांडे के पास बेहद लंबा राजनीतिक अनुभव है इस लिहाज़ ‌से‌ इस सीट पर कांग्रेस और भाजपा के बीच सीधी टक्कर मानी जा रही है।‌

त्रिकोणीय मुकाबले में फंसी यह सीट

छत्तीसगढ़ की संजारी बालोद विधानसभा सीट में इस चुनाव में त्रिकोणी मुकाबला देखा जा रहा है। यह विधानसभा दुर्ग संभाग में आती है जिसमें कांग्रेस, बीजेपी और निर्दलीय प्रत्याशी के बीच मुकाबला फंसा हुआ है। इस सीट से कांग्रेस पार्टी ने मौजूदा विधायक संगीता सिंह को टिकट दिया है तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने राकेश यादव को चुनाव के मैदान में उतारा है। यह क्षेत्र साहू बाहुल्य होने के कारण निर्दलीय प्रत्याशी का बोलबाला बढ़ गया है इसीलिए वो भी चुनाव के मजबूत प्रत्याशी के रूप में गिने जा रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें