ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News छत्तीसगढ़बीजापुर में सीएएफ जवान को कुल्हाड़ी काट डाला, हिडमा के गढ़ में सुरक्षा बलों ने बनाया कैंप

बीजापुर में सीएएफ जवान को कुल्हाड़ी काट डाला, हिडमा के गढ़ में सुरक्षा बलों ने बनाया कैंप

छत्तीसगढ़ पुलिस ने सुकमा जिले में एक कैंप स्थापित किया है, जो खूंखार नक्सली नेता हिडमा का मूल स्थान और गढ़ है। वहीं बीजापुर जिले में नक्सलियों ने सीएएफ के एक जवान की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी है।

बीजापुर में सीएएफ जवान को कुल्हाड़ी काट डाला, हिडमा के गढ़ में सुरक्षा बलों ने बनाया कैंप
Krishna Singhभाषा,रायपुरSun, 18 Feb 2024 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

छत्तीसगढ़ में बीजापुर जिले के एक ग्रामीण बाजार में नक्सलियों ने छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल (सीएएफ) के एक जवान की कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुटरू थाना क्षेत्र के एक गांव में सुबह करीब साढ़े नौ बजे नक्सलियों ने एक बाजार में सुरक्षा के लिए तैनात की गई सीएएफ की एक टीम पर हमला कर दिया। नक्सलियों के एक छोटे समूह ने सीएएफ टीम का नेतृत्व कर रहे कंपनी कमांडर तिजाऊ राम भुआर्य पर हमला किया। 

नक्सलियों ने भुआर्य पर कुल्हाड़ी से काटकर उनकी हत्या कर दी और घटनास्थल से फरार हो गए। अधिकारी ने बताया कि भुआर्य सीएएफ की चौथी बटालियन में तैनात थे। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंची और हमलावरों का पता लगाने के लिए इलाके में तलाशी शुरू कर दी।

इस बीच छत्तीसगढ़ पुलिस ने एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए सुकमा जिले के पुवर्ती गांव में एक शिविर स्थापित किया है, जो बस्तर क्षेत्र में सुरक्षा बलों पर घातक हमलों के सूत्रधार माने जाने वाले कुख्यात नक्सली नेता हिडमा का मूल स्थान और गढ़ है। विशेषज्ञों के अनुसार, यह कदम वामपंथी उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई में सुरक्षा बलों के लिए एक बड़ी उपलब्धि है और पुलिस शिविर स्थापित करने से नक्सलियों के खिलाफ मनोवैज्ञानिक मदद मिलेगी।
     
पुलिस महानिरीक्षक (बस्तर रेंज) सुंदरराज पी. ने कहा कि राज्य पुलिस के विशेष कार्य बल (एसटीएफ), जिला रिजर्व गार्ड (डीआरजी) और बस्तर फाइटर्स की एक संयुक्त टीम, साथ ही केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), इसकी विशिष्ट कोबरा (साहसिक कार्रवाई के लिए कमांडो बटालियन) और स्थानीय पुलिस ने शुक्रवार को पुवर्ती में एक शिविर लगाया।

जगरगुंडा पुलिस थाने की सीमा के अंतर्गत आने वाला पुवर्ती, सुकमा और बीजापुर जिलों की सीमा पर स्थित है। सुकमा जिला मुख्यालय से करीब 150 किलोमीटर दूर घने जंगलों से घिरा पुवर्ती नक्सली खतरे के कारण विकास कार्यों और बुनियादी सुविधाओं से वंचित है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें